scorecardresearch
Sunday, 26 May, 2024
होमदेशMES और NCP ने महाराष्ट्र-कर्नाटक बॉर्डर मुद्दे को लेकर किया प्रदर्शन, धारा 144 लागू

MES और NCP ने महाराष्ट्र-कर्नाटक बॉर्डर मुद्दे को लेकर किया प्रदर्शन, धारा 144 लागू

बेलगावी पुलिस ने एमईएस को तिलकवाड़ी में वैक्सीन डिपो मैदान में अपना महा मेला आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है और तिलकवाड़ी पुलिस थाने के अधिकार क्षेत्र में प्रतिबंधित आदेशों को लागू कर दिया है.

Text Size:

बेलागवी (कर्नाटक): महाराष्ट्र एकीकरण समिति (एमईएस) और राकांपा (एनसीपी) के सदस्यों ने सोमवार को अंतर्राज्यीय सीमा मुद्दे को लेकर कर्नाटक-महाराष्ट्र सीमा के पास कोग्नोली टोल प्लाजा के पास विरोध प्रदर्शन किया. वे कर्नाटक के बेलागवी जाने की मांग कर रहे थे. इसे देखते हुए पुलिस ने धारा 144 लगा दी है.

पुलिस का कहना है कि महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा मुद्दे को लेकर अधिकारी अलर्ट पर हैं.

बेलगावी पुलिस ने एमईएस को तिलकवाड़ी में वैक्सीन डिपो मैदान में अपना महा मेला आयोजित करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है और तिलकवाड़ी पुलिस थाने के अधिकार क्षेत्र में प्रतिबंधित आदेशों को लागू कर दिया है. एमईएस और एनसीपी के सदस्यों ने कोगनोली टोल प्लाजा पर विरोध प्रदर्शन किया.

पुलिस ने कहा कि उन्होंने वैक्सीन डिपो इलाके में विरोध प्रदर्शन के लिए बनाए गए मंडप को हटा दिया है. इलाके में धारा 144 लागू कर दी गई है और एमईएस सम्मेलन के स्थल पर भारी सुरक्षा तैनात कर दी गई है, जो आज कर्नाटक विधानसभा के शीतकालीन सत्र के पहले दिन होने वाला था.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

अधिकारियों के मुताबिक एडीजीपी आलोक कुमार ने तिलकवाड़ी इलाके का दौरा किया और स्थिति का जायजा लिया.

एडीजीपी आलोक कुमार ने कहा, ‘एमईएस ने विरोध प्रदर्शन की योजना बनाई और कर्नाटक में महाराष्ट्र के मंत्रियों के प्रवेश की मांग की. लेकिन मुख्यमंत्री ने स्पष्ट रूप से कहा है कि किसी को भी अनुमति नहीं दी जाएगी.’

पुलिस के मुताबिक, मुख्यमंत्री बीएस बोम्मई ने स्पष्ट कर दिया है कि महाराष्ट्र के किसी भी मंत्री को बेलगावी में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी.


यह भी पढे़ं: एम.के. स्टालिन से लेकर आदित्य ठाकरे तक- भारत में कैसे पिता की वजह से पुत्रों को मिली राजनीतिक बढ़त


 

share & View comments