scorecardresearch
Sunday, 25 February, 2024
होमदेशMLA मां से प्रेरित होकर, महाराष्ट्र सरकार सभी कार्यस्थलों पर स्तनपान कराने के लिए एक अलग कमरा बनाएगी

MLA मां से प्रेरित होकर, महाराष्ट्र सरकार सभी कार्यस्थलों पर स्तनपान कराने के लिए एक अलग कमरा बनाएगी

पिछले हफ्ते, सरकार ने 'हिरकानी' कमरों को लेकर ड्राफ्ट पर प्रतिक्रिया मांगी थी. विधायक सरोज अहिरे द्वारा अपने बच्चे के साथ विधानसभा सत्र में भाग लेने के बाद ऐसी जगहों की आवश्यकता पर बात शुरू हुई.

Text Size:

मुंबई: महाराष्ट्र की एकनाथ शिंदे सरकार ने सभी कार्यस्थलों और शैक्षणिक संस्थानों में गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए एक अलग ‘महिला कक्ष’ बनाने का प्रस्ताव दिया है.

पिछले हफ्ते, राज्य के शहरी विकास विभाग ने एक ड्राफ्ट जारी की और ऐसे ‘महिला कक्ष’ स्थापित करने के बारे में लोगों से सुझाव और आपत्तियां मांगी थी. सरकार ने इन कमरों का नाम ‘हिरकणी’ रखने का फैसला किया है. ‘हिरकणी’ 17वीं सदी के मराठा योद्धा शिवाजी के शासनकाल के दौरान रायगढ़ किले के पास रहने वाली एक दूधवाली के नाम पर रखा जाएगा.

राज्य शहरी विकास विभाग के एक अधिकारी ने कहा, “ऐसे कई कार्यस्थलों में नवजात शिशुओं या वास्तव में छोटे बच्चों के साथ बड़ी संख्या में कामकाजी माताएं हैं. लेकिन आराम करने, स्तनपान कराने या स्तन का दूध निकालने के लिए कोई स्थान नहीं होता है. राज्य सरकार ने सोचा कि नियम में बदलाव करना और ऐसे सभी प्रतिष्ठानों में ऐसी महिलाओं के लिए एक विशेष कमरा रखना अनिवार्य बनाना महत्वपूर्ण है.”

ड्राफ्ट के अनुसार, औद्योगिक, सार्वजनिक, अर्ध-सार्वजनिक, संस्थागत, शैक्षिक और इसी तरह के किसी अन्य उद्देश्य के लिए उपयोग की जाने वाली सभी इमारतों में ‘महिला कक्ष’ की सेवा प्रदान करना अनिवार्य होगा. सभी गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के साथ-साथ छह साल से कम उम्र के बच्चों वाली माताओं को भी इस स्थान का उपयोग करने की अनुमति होगी.

जैसा कि ‘हिरकानी’ की कहानी है, रायगढ़ किले के दरवाजे दिन के लिए बंद कर दिए गए थे और दूध देने वाली को अपने बच्चे तक पहुंचना था. इसलिए वह अंधेरे में किले की खड़ी दीवारों पर चढ़ गई थी.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

दिप्रिंट ने कॉल और टेक्स्ट के माध्यम राज्य शहरी विकास विभाग के प्रमुख सचिव असीम गुप्ता से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन उनकी ओर से कोई उत्तर नहीं मिला. उनका उत्तर मिलने के बाद इस रिपोर्ट को अपडेट कर दिया जाएगा.

विधायक मां की वजह से चर्चा में मुद्दा!

पहले उद्धृत अधिकारी ने दिप्रिंट को बताया कि कई कार्यस्थलों में नर्सिंग रूम या शिशु देखभाल कक्ष की कमी का मुद्दा राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) विधायक सरोज अहिरे की वजह से सरकार के लिए चर्चा का विषय बन गया.

देवलाली से विधायक सरोज अहिरे दिसंबर में नागपुर में राज्य विधानमंडल के शीतकालीन सत्र और फिर मार्च में मुंबई में बजट सत्र में अपने नवजात बेटे के साथ पहुंची थीं, जिसे उन्हें नियमित अंतराल पर स्तनपान कराना था.

शिंदे ने पिछले दिसंबर में उनसे मुलाकात की थी. शिंदे ने एक मां और एक विधायक के रूप में अपने कर्तव्य के बीच संतुलन बनाने के लिए अहिरे की प्रशंसा भी की थी.

अहिरे के बच्चे के साथ नागपुर के विधान भवन में पहुंचने के बाद ही राज्य सरकार ने विधान भवन में ‘हिरकणी कक्ष’ के लिए जगह निर्धारित की. जबकि मुंबई विधान भवन में एक हिरकानी कमरा था, लेकिन वह धूल भरा और गन्दा था. अहिरे के बोलने के बाद, राज्य सरकार ने कमरे को सुसज्जित किया.

जुलाई में शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार में औपचारिक रूप से शामिल हुए एनसीपी के अजीत पवार खेमे को अपना समर्थन देने का वादा करने वाली अहिरे ने दिप्रिंट को बताया, “मैंने अपना मातृत्व स्वीकार किया और लोकतंत्र के मंदिर में चली गई. और इसके साथ, मैं राज्य में अन्य साथी माताओं की मदद और सेवा करने में सक्षम हो गई. इसके लिए मैं बहुत आभारी महसूस करती हूं.”

राज्य सरकार के ड्राफ्ट के मुताबिक, औद्योगिक, सार्वजनिक, अर्ध सार्वजनिक, शैक्षणिक, संस्थागत या अन्य कार्यस्थलों के लिए उपयोग की जा रही इमारतों में हिरकानी कमरे बनाने के लिए 25 वर्ग मीटर तक के क्षेत्र की जरूरत होगी. अधिसूचना में कहा गया है कि कमरे में सीढ़ी और लिफ्ट की व्यवस्था होगी. कोशिश की जाएगी कि कमरा ग्राउंड फ्लोर या फिर फर्स्ट फ्लोर पर हो. कमरे में अच्छी रोशनी, वेंटिलेशन और जल निकासी सुविधाओं के साथ एक शौचालय की भी सुविधा हो.

शहरी नियोजन में एफएसआई निर्माण के लिए भूमि के एक टुकड़े पर अधिकतम अनुमत क्षेत्र है. यह प्लॉट क्षेत्र और निर्मित क्षेत्र का अनुपात है.

(संपादनः ऋषभ राज)

(इस ख़बर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ें: जब इंदिरा गांधी को उग्र मिजो विद्रोह का सामना करना पड़ा था- वायुसेना का आइजोल पर हमला, नए राज्य का जन्म


 

share & View comments