scorecardresearch
Thursday, 18 July, 2024
होमदेशभारत ने 2.23 लाख करोड़ रुपये की रक्षा खरीद परियोजनाओं को मंजूरी दी

भारत ने 2.23 लाख करोड़ रुपये की रक्षा खरीद परियोजनाओं को मंजूरी दी

Text Size:

नयी दिल्ली, 30 नवंबर (भाषा) सशस्त्र बलों की लड़ाकू क्षमताओं को बढ़ाने के लिए एक प्रमुख कदम के तहत भारत ने बृहस्पतिवार को 2.23 लाख करोड़ रुपये की रक्षा अधिग्रहण परियोजनाओं को प्रारंभिक मंजूरी दे दी, जिसमें 97 तेजस हल्के लड़ाकू विमान और 156 प्रचंड लड़ाकू हेलीकॉप्टरों की खरीद शामिल है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) ने इन परियोजनाओं को मंजूरी दी। यह मंजूरी ऐसे समय दी गई है जब भारत पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ कई स्थानों पर सैन्य गतिरोध में उलझा हुआ है।

रक्षा मंत्रालय ने कहा कि 2.23 लाख करोड़ रुपये की कुल खरीद का 98 प्रतिशत घरेलू उद्योगों से प्राप्त किया जाएगा और इस कदम से रक्षा उद्योग में आत्मनिर्भरता के लक्ष्य को प्राप्त करने में भारतीय रक्षा उद्योग को काफी बढ़ावा मिलेगा।

डीएसी ने सरकारी एयरोस्पेस कंपनी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) द्वारा सुखोई-30 लड़ाकू बेड़े को उन्नत करने के भारतीय वायु सेना के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी।

डीएसी ने दो प्रकार के एंटी-टैंक युद्ध सामग्री अर्थात् ‘एरिया डिनायल युद्ध सामग्री’ (एडीएम) टाइप-2 और टाइप-3 की खरीद के लिए आवश्यकता की स्वीकृति (एओएन) या प्रारंभिक मंजूरी प्रदान की।

सैन्य साजोसामान की खरीद संबंधी शीर्ष निकाय ने भारतीय नौसेना के लिए मध्यम दूरी की पोतरोधी मिसाइल (एमआरएएसएचएम) खरीदने के एक अन्य प्रस्ताव को मंजूरी देने के अलावा टी-90 टैंकों के लिए स्वचालित लक्ष्य ट्रैकर (एटीटी) और ‘डिजिटल बेसाल्टिक कंप्यूटर’ (डीबीसी) के अधिग्रहण और एकीकरण को भी मंजूरी दे दी।

एमआरएएसएचएम सतह से सतह पर मार करने वाला एक हल्का प्रक्षेपास्त्र है जो विभिन्न भारतीय नौसैनिक जहाजों पर एक प्राथमिक आक्रामक हथियार होगा।

मंत्रालय ने कहा, “डीएसी ने खरीद (भारतीय-आईडीडीएम) श्रेणी के तहत हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड से भारतीय वायु सेना और भारतीय थल सेना के लिए हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर और भारतीय वायुसेना के लिए हल्के लड़ाकू विमान (एलसीए) एमके-1ए की खरीद के लिए एओएन प्रदान किया।”

इसमें विशिष्ट संख्या का उल्लेख नहीं किया गया है, हालांकि आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि भारतीय वायु सेना के लिए 97 तेजस हल्के लड़ाकू विमान (मार्क 1ए) खरीदे जाने हैं और थल सेना और वायु सेना के लिए 156 हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर (एलसीएच) खरीदे जाने हैं।

फरवरी 2021 में, रक्षा मंत्रालय ने भारतीय वायुसेना के लिए 83 तेजस एमके-1ए जेट की खरीद के लिए हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड के साथ 48,000 करोड़ रुपये का सौदा किया।

अतिरिक्त बेड़े के साथ, भारतीय वायुसेना द्वारा खरीदे जाने वाले तेजस विमानों की संख्या 180 हो जाएगी।

मंत्रालय ने एक बयान में कहा, “… सुखोई-30 एमकेआई विमान के उन्नयन के लिए भी डीएसी द्वारा एओएन प्रदान किया गया है।”

इसमें कहा गया है कि इन उपकरणों की खरीद से भारतीय वायु सेना को ताकत मिलेगी तथा विदेशी उपकरण निर्माताओं (ओईएम) पर निर्भरता कम हो जाएगी।

भाषा

प्रशांत अविनाश

अविनाश

यह खबर ‘भाषा’ न्यूज़ एजेंसी से ‘ऑटो-फीड’ द्वारा ली गई है. इसके कंटेंट के लिए दिप्रिंट जिम्मेदार नहीं है.

share & View comments