Monday, 27 June, 2022
होमदेशस्वतंत्र पत्रकार रिजवाना तबस्सुम ने किया सुसाइड, स्थानीय नेता के खिलाफ एफआईआर

स्वतंत्र पत्रकार रिजवाना तबस्सुम ने किया सुसाइड, स्थानीय नेता के खिलाफ एफआईआर

सुबह देर तक रिजवाना का कमरा बंद था. परिवार वालों को लगा कि रात में देर तक किसी स्टोरी पर काम कर रही होंगी इसलिए सोई हैं. लेकिन जब बार-बार दरवाजा खटखटाने के बाद नहीं खुला तो परिवार ने पुलिस को बुलाया.

Text Size:

लखनऊ: वाराणसी की रहने वाली स्वतंत्र पत्रकार रिज़वाना तबस्सुम सोमवार सुबह अपने कमरे में मृत मिलीं. पुलिस इसे आत्महत्या का मामला मान रही है. रिजवाना के शरीर को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है. वहीं बनारस के लोहता थाने में स्थानीय नेता शमीम नोमानी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर ली गई है.


रिज़वाना की लिखी खबरें: थम नहीं रहा है बीएचयू में छात्राओं का शोषण, संकाय प्रमुख ‘हाज़िरी’ के बहाने करता था प्रताड़ित


सीओ सदर अभिषेक पांडे के मुताबिक, रिजवाना के पिता की तहरीर पर लोहता निवासी शमीम नोमानी के खिलाफ धारा 306 के तहत आत्महत्या के लिए उकसाने के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया गया है. फिलहाल पुलिस आरोपी की तलाश में जुटी है.

पुलिस का कहना है कि रिज़वाना अपने घर पर एक नोटिस बोर्ड पर ‘शमीम नोमानी जिम्मेदार हैं’ लिखकर छोड़ गई हैं.मामला प्रेम-प्रसंग से संबंधित भी हो सकता है. नाम न छापने की शर्त पर रिजवाना के एक दोस्त ने बताया कि शमीम और रिजवाना में काफी समय से दोस्ती थी लेकिन अचानक क्या हुआ इसकी किसी को जानकारी नहीं.


कोरोनासंक्रमण के दौरान लिखी गईं उनकी खबरें:लॉकडाउन से भुखमरी की कगार पर बनारस के बुनकर, पीएम मोदी को लिखा पत्र और सीएम से भी गुहार

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें


उनके पिता ने दिप्रिंट से बताया कि सुबह देर तक रिजवाना का कमरा बंद था. उन्हें लगा कि शायद रात में देर तक किसी स्टोरी पर काम कर रही होंगी इसलिए देर से सोई होगी. 9 बजे के आसपास दरवाजा खटखटाया तो आवाज नहीं आई जिसके बाद वे घबरा गए. फिर पुलिस को सूचित किया गया. पुलिस ने जब दरवाजा तोड़ा तो रिजवाना का शरीर फांसी के फंदे पर झूल रहा था. ये देखते ही सब हैरान रह गए. पूरे घर में मातम छा गया.


यह भी रिपोर्ट उन्होंने पिछले महीने ही लिखी थी- पढ़ें:वाराणसी में दो महिलाओं को कोरोना संक्रमित कह कर बीएचयू में डॉक्टरों ने छूने से किया मना, 1 की स्ट्रेचर पर हुई डिलीवरी


रिजवाना के पिता ने बताया कि नोटिस बोर्ड पर जो मिला उसी के आधार पर उन्होंने एफआईआर दर्ज करवाई है. रिजवाना के पिता के मुताबिक, उसने कभी किसी को कुछ बताया भी नहीं न ही उसकी किसी कोई दुश्मनी रही. वह एक अच्छी बेटी के साथ-साथ अच्छी पत्रकार भी थी.


वह कलाकारों की भी आवाज़ उठाती रही थीं,यह भी पढ़ें:नहीं रहे बनारस के पिकासो, आर्थिक तंगी और बीमारी ने ले ली जान


रिजवाना बनारस की युवा पत्रकार थीं. उन्होंने बीएचयू से पीजी डिप्लोमा हिंदी जर्नलिज्म किया था. वह दिप्रिंट हिंदी , द वायर समेत तमाम वेबसाइट्स के लिए स्वतंत्र पत्रकार के तौर पर बनारस से लिखती थीं.

रिज़वाना ने दिप्रिंट हिंदी से पिछले एक साल से जुड़ी रहीं और इस दौरान उन्होंने मानवीय संवेदनाओं से जुड़ीं कई खबरें की.

(दिप्रिंट पर रिज़वाना के लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)

share & View comments