scorecardresearch
Sunday, 26 May, 2024
होमदेशपूर्व कानून मंत्री, प्रशांत भूषण के पिता शांंति भूषण नहीं रहे, 97 साल की उम्र में निधन

पूर्व कानून मंत्री, प्रशांत भूषण के पिता शांंति भूषण नहीं रहे, 97 साल की उम्र में निधन

जाने-माने वकील शांति भूषण ने मोरारजी देसाई के मंत्रालय में 1977 से 1979 तक भारत के कानून मंत्री के रूप में कार्य किया था.

Text Size:

नई दिल्ली: जाने-माने वकील, पूर्व कानून मंत्री और वकील प्रशांत भूषण के पिता शांति भूषण का मंगलवार को 97 वर्ष की उम्र में निधन हो गया.

वह एक ऐसे वकील थे जिन्होंने एक बहुचर्चित मामले में राजनारायण की तरफ से इलाहाबाद हाईकोर्ट में पेश हुए थे जो कि 1974 में इंदिरा को सत्ता से बेदखल किया था. वह एक वकील के तौर पर जनहित के तमाम काम अपने हाथ में लिए. वह भ्रष्टाचार के खिलाफ हमेशा मुखर रहे है और नागरिक आजादी के पक्षधर थे.

उन्होंने मोरारजी देसाई के मंत्रालय में 1977 से 1979 तक भारत के कानून मंत्री के रूप में कार्य किया था.

1980 में उन्होंने प्रसिद्ध एनजीओ ‘सेंटर फॉर पब्लिक इंटरेस्ट लिटिगेशन’ की स्थापना की. जिसने सुप्रीम कोर्ट में अनेकों पीआईएल यानि जनहित याचिकाएं दायर की.

उनके साथ उनके बेटे प्रशांत भूषण भी हैं, जो एक वकील-एक्टिविस्ट हैं, न्यायिक जवाबदेही के लिए ‘न्यायिक जवाबदेही और न्यायिक सुधार अभियान (CJAR)’ शुरू किया.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

2018 में उन्होंने ‘मास्टर ऑफ रोस्टर’ सिस्टम में बदलाव की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसे स्वीकार नहीं किया गया.

 

यह भी पढ़ें: महिलाओं की बढ़ी संख्या से लेकर गुलामी के प्रतीकों से मुक्ति तक, पढ़िए राष्ट्रपति ने अभिभाषण में क्या कहा


 

share & View comments