scorecardresearch
Friday, 29 September, 2023
होमदेशफैक्ट्री मालिक ने नाबालिग कर्मचारी से किया 'रेप', उसके मुंह में जबरन 'लिक्विड' डाला गया- दिल्ली पुलिस

फैक्ट्री मालिक ने नाबालिग कर्मचारी से किया ‘रेप’, उसके मुंह में जबरन ‘लिक्विड’ डाला गया- दिल्ली पुलिस

हालांकि, दिल्ली महिला आयोग ने आरोप लगाया है कि नाबालिग को 'तेज़ाब' पीने के लिए मजबूर किया गया था, वहीं दिल्ली पुलिस का कहना है कि आरोपी ने कथित बलात्कार के तीन दिन बाद उसके मुंह में 'कुछ तरल पदार्थ ' डाला था.

Text Size:

नई दिल्ली: दिल्ली के एक 31 वर्षीय व्यक्ति को अपनी पत्नी की मदद से एक 15 वर्षीय लड़की से कथित रूप से बलात्कार करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. यह तथाकथित घटना 2 जुलाई को तब हुई जब एक जूता कारखाने के प्रबंधक (मैनेजर) ने नाबालिग को बाहरी दिल्ली के नांगलोई स्थित अपने घर में बुलाया था.

इस सारे मामले की जानकारी रखने वाले दिल्ली पुलिस के एक सूत्र ने कहा कि जब आरोपी ने बालिका के साथ ज़ोर-ज़बरदस्ती की थी, तो उसकी पत्नी ने ‘लड़की को पकड़ रखा था.’

दिल्ली पुलिस ने दिप्रिंट को आगे बताया कि 5 जुलाई को, यानी कि कथित बलात्कार की घटना के तीन दिन बाद, जब नाबालिग अपने घर जा रही थी, तभी आरोपी ने उसे रास्ते में रोका और उसके मुंह में कुछ तरल पदार्थ डाला जिससे वह बेहोश हो गई.

रोहिणी जिले के प्रेम नगर निवासी यह बालिका एक दिहाड़ी मजदूर की बेटी है. फिलहाल उसका इलाज अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में इलाज किया जा रहा है.

बाहरी जिले के पुलिस उपायुक्त (डीसीपी), समीर शर्मा ने दिप्रिंट को बताया कि इस संबंध में शुक्रवार को नांगलोई पुलिस स्टेशन में सबसे पहले एक पीसीआर कॉल की गई थी. उन्होंने बताया कि पूछताछ के दौरान, पुलिस ने पाया कि लड़की का एम्स में इलाज चल रहा था, लेकिन डॉक्टरों की सलाह की वजह से शनिवार तक उसका बयान दर्ज नहीं किया जा सका था.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

डीसीपी शर्मा ने कहा, ‘पीड़िता के बयान और एमएलसी (मेडिको-लीगल केस) के आधार पर आईपीसी की कई धाराओं के तहत बलात्कार, हत्या के प्रयास, सामान्य इरादे से किए गये अपराध के साथ-साथ पॉक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है.’

पुलिस के मुताबिक आरोपी शख़्श, जूता फैक्ट्री मैनेजर, ने 2 जुलाई को अपनी पत्नी की तबीयत खराब होने और उसे मदद की जरूरत होने के बहाने इस नाबालिग लड़की को अपने घर बुलाया था.

डीसीपी शर्मा ने दिप्रिंट को बताया, ‘जब नाबालिग आरोपी के घर पहुंची, तो उसने अपनी पत्नी की मदद से उसका यौन शोषण किया. इसके कुछ दिनों बाद, 5 जुलाई को, उसने उसे घर जाने के रास्ते में रोका और उसके मुंह में कुछ तरल पदार्थ डाल दिया. घर पहुंचने के बाद पीडिता बेहोश हो गई तो उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया.’

डीसीपी शर्मा ने कहा, ‘आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है और उससे पूछताछ जारी है. उसकी पत्नी को भी जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा. आगे की जांच जारी है.’

इस बीच नांगलोई पुलिस स्टेशन के स्टेशन हाउस ऑफिसर (एसएचओ) को शनिवार को लिखे एक पत्र में, दिल्ली महिला आयोग (डीसीडब्ल्यू) ने आरोप लगाया कि आरोपी ने लड़की को जबरन ‘तेज़ाब’ पीने को मजबूर किया था , मगर पुलिस इस बात की पुष्टि नहीं कर सकी है.

पुलिस का कहना है कि नाबालिग को कथित तौर पर जिस तरल पदार्थ को पीने के लिए मजबूर किया गया था, उसकी प्रकृति अभी ‘अस्पष्ट’ है और ‘उसकी त्वचा पर जलने के कोई निशान नहीं हैं’.

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें : अपने बॉयफ्रेंड्स को लेकर साफ है सुष्मिता सेन का नजरिया, ललित मोदी कहां तक फिट बैठेंगे


 

share & View comments