एक पंप परिचारक 7 जुलाई 2021 को नई दिल्ली के एक पेट्रोल पंप पर एक बाइक में पेट्रोल भरता है | पीटीआई
एक पंप परिचारक 7 जुलाई 2021 को नई दिल्ली के एक पेट्रोल पंप पर एक बाइक में पेट्रोल भरता है | पीटीआई
Text Size:

नई दिल्ली:  देश में ईंधन की कीमतें अब तक के उच्चतम स्तर पर बनी हुई हैं, एक नए सर्वेक्षण में पाया गया है कि 77 प्रतिशत नागरिक चाहते हैं कि पेट्रोल और डीजल को वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) के दायरे में शामिल किया जाए.

कम्यूनिटी सोशल मीडिया प्लैटफार्म लोकल सर्किल द्वारा किए गए सर्वेक्षण में देखा गया कि कोरोनावायरस की दूसरी लहर के बाद, ’51प्रतिशत परिवारों ने कहा कि उन्होंने पेट्रोल/डीजल की बढ़ी कीमतों को देखते हुए अपने खर्चों में कटौती की है; 21 प्रतिशत ने जरूरी खर्चों में कटौती भी की जबकि उन्हें महसूस हुआ कि वो बहुत थोड़ा है. जबकि 14 फीसदी का कहना था कि वे अपनी बचत में से खर्चा निकाल रहे हैं.’

‘सर्वे नोट्स’ से पता चलता है कि जीएसटी के दायरे में पेट्रोल और डीजल को लाने से कई लोगों के जीवन यापन में काफी सुधार होगा. 28 फीसदी जीएसटी दर के साथ पेट्रोल और डीजल की कीमत 75 रुपये प्रति लीटर और 70 रुपये प्रति लीटर तक आ सकती है. ‘ जब उपभोक्ता इसपर बड़ी मात्रा में खर्च करेंगे तो अर्थव्यवस्था और व्यापार को बड़ा बढ़ावा मिलेगा. हालांकि, केंद्र और राज्य दोनों को ही कम समय के लिए राजस्व में नुकसान उठाना पड़ सकता है.

इस सर्वेक्षण में भारत के 379 जिलों से 7,500 प्रतिक्रियाएं शामिल थीं, जहां पुरुषों की संख्या 61 प्रतिशत थी और महिलाओं में 39 प्रतिशत प्रतिभागी शामिल थे. अधिकांश उत्तरदाताओं (44 प्रतिशत) टीयर 1 जिलों, 29 प्रतिशत से टीयर 2 और 27 प्रतिशत प्रतिभागी टीयर 3, 4 और ग्रामीण जिलों से थे.


यह भी पढ़ें : अभियुक्त को HC द्वारा ‘भविष्य की संपत्ति’ बताकर ज़मानत देने पर IIT-G की ‘रेप’ पीड़िता ने कहा- मुझे दरकिनार किया गया


जीएसटी परिषद की बैठक

सर्वे रिपोर्ट के अनुसार जीएसटी परिषद शुक्रवार को जीएसटी व्यवस्था के तहत पेट्रोल, डीजल और अन्य पेट्रोलियम उत्पादों पर कर लगाने पर विचार कर सकती है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

सर्वे में यह भी कहा गया है कि जब तक पेट्रोल और डीजल को जीएसटी के दायरे में लाने की प्रक्रिया शुरू होती है तो इन 77 फीसदी में अधिकांश लोग जिनके लिए पिछला एक साल किसी अंधेरी सुरंग की तरह गुजरा है वो आखिर में ये रोशनी देख कर बहुत खुश होंगे.

मौजूदा समय में राष्ट्रीय राजधानी में पेट्रोल की कीमत 101.19 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत 88.62 रुपये है. मुंबई में, पेट्रोल 107.26 रुपये प्रति लीटर और डीजल पर 96.19 रुपये प्रति लीटर पर बेचा जा रहा है. कीमतों में लगातार 11वें दिन भी कोई बदलाव नहीं हुआ है.


यह भी पढ़ें: उत्तर-पूर्व की सभी राजधानियों को रेल से जोड़ना चाहती है मोदी सरकार, फिलहाल कई सूबों में है ऐसा संपर्क


 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

VIEW COMMENTS