scorecardresearch
Friday, 19 July, 2024
होमदेशआंध्र प्रदेश ट्रेन एक्सीडेंट में मृतकों की संख्या बढ़कर 13 पहुंची, क्या 'ओवरशूटिंग' की वजह से हुआ हादसा?

आंध्र प्रदेश ट्रेन एक्सीडेंट में मृतकों की संख्या बढ़कर 13 पहुंची, क्या ‘ओवरशूटिंग’ की वजह से हुआ हादसा?

पूर्वी तटीय रेलवे क्षेत्र (ईसीआर) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कांतकपल्ले में एक यात्री ट्रेन ने दूसरी यात्री ट्रेन को पीछे से टक्कर मार दी, जिससे उसके तीन डिब्बे पटरी से उतर गए.

Text Size:

नई दिल्ली: आंध्र प्रदेश के विजयनगरम जिले में हावड़ा-चेन्नई लाइन पर रविवार शाम दो यात्री ट्रेन की टक्कर में मरने वाले यात्रियों की संख्या बढ़कर 13 हो गई है जबकि 50 से अधिक लोग घायल हैं. पुलिस के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी.

पूर्वी तटीय रेलवे क्षेत्र (ईसीआर) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कांतकपल्ले में एक यात्री ट्रेन ने दूसरी यात्री ट्रेन को पीछे से टक्कर मार दी, जिससे उसके तीन डिब्बे पटरी से उतर गए.

रेलवे के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि घायलों को विशाखापत्तनम और विजयनगरम के अस्पतालों में स्थानांतरित किया जा रहा है.

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने ‘एक्स’ पर एक पोस्ट में कहा कि सरकार ने पीड़ितों के लिए अनुग्रह राशि की घोषणा की है.

अश्विनी वैष्णव ने कहा, “सभी घायलों को अस्पतालों में पहुंचाया गया है. अनुग्रह राशि का भुगतान शुरू हो गया है – दुर्घटना में जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों के लिए 10 लाख रुपये, गंभीर रूप से घायल के लिए दो लाख रुपये और मामूली रूप से घायल के लिए 50,000 रुपये की घोषणा की गयी है. ’’

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने भी इस दुर्घटना पर दुख व्यक्त करते हुए अधिकारियों को राज्य के मृतकों के परिजनों को 10-10 लाख रुपये और घायलों को दो-दो लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने का निर्देश दिया.

एक आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, उन्होंने अन्य राज्यों के मृतकों के परिजनों के लिए 2-2 लाख रुपये और घायलों में से प्रत्येक के लिए 50,000 रुपये की भी घोषणा की.

मंडल रेल प्रबंधक सौरभ प्रसाद घटनास्थल पर पहुंचे और बचाव कार्य जोरों पर है.

इससे पहले सौरभ प्रसाद ने समाचार एजेंसी ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा था, “इस दुर्घटना में मृतकों पहचान कर ली गई है. हम सभी डिब्बों की जांच करने की प्रक्रिया में हैं. एक बार ऐसा हो जाने पर, हम सटीक संख्या पता करने में सक्षम होंगे. हमने 13 घायलों को सरकारी प्राथमिक स्वास्थ्य देखभाल केंद्र भेजा है.’’

उन्होंने कहा कि वे फंसे और उलझे हुए डिब्बों को अलग करने की प्रक्रिया में हैं और ऐसा होने पर तस्वीर साफ हो जाएगी.

विजयनगरम के सरकारी जनरल अस्पताल की अधीक्षक डॉ अनिला सुनंदिनी ने ‘पीटीआई-भाषा’ से कहा, “हमें दुर्घटनास्थल से 32 घायल यात्री मिले हैं और उनमें से कुछ की हालत गंभीर है. इसके अलावा कुछ घायल यात्रियों को दूसरे अस्पतालों में भी भर्ती कराया गया है.’’

वहीं पूर्वी तटीय रेलवे ने कहा कि दुर्घटना संभवत: मानवीय भूल या फिर सिग्नल की अनदेखी के कारण हुआ होगा.

पूर्वी तटीय रेलवे क्षेत्र के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि यह दुर्घटना लगभग शाम सात बजे पूर्वी तटीय रेलवे क्षेत्र के वाल्टेयर उपखंड के विजयनगरम-कोत्तावलासा रेलवे सेक्शन में अलामंदा और कांतकपल्ले के बीच हुई.

अधिकारियों ने बताया कि विशाखापत्तनम-पलासा पैसेंजर (ट्रेन संख्या 08532), विशाखापत्तनम-रायगढ़ा पैसेंजर (ट्रेन संख्या 08504) से टकरा गई.

एक अधिकारी के मुताबिक विशाखापत्तनम-पलासा पैसेंजर ट्रेन (ट्रेन संख्या 08532) के पीछे के दो डिब्बे और विशाखापत्तनम-रायगढ़ा पैसेंजर (ट्रेन संख्या 08504) का लोको डिब्बा पटरी से उतर गए.

मौके पर डीआरएम/वाल्टेयर और उनकी टीम के साथ बचाव अभियान जारी है. अधिकारी ने कहा, दुर्घटना राहत ट्रेनें और अन्य बचाव उपकरण लगे हुए हैं.

रेल दुर्घटना की जानकारी मिलने पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से बात की और स्थिति का जायजा लिया और कहा कि अधिकारी प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता प्रदान कर रहे हैं.

प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की ओर से सोशल मीडिया मंच ‘एक्स’ पर जारी एक पोस्ट में मोदी ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव से बात की और अलामांडा और कांतकपल्ले खंड के बीच दुर्भाग्यपूर्ण ट्रेन दुर्घटना के मद्देनजर स्थिति का जायजा लिया. अधिकारी प्रभावित लोगों को हर संभव सहायता प्रदान कर रहे हैं. प्रधानमंत्री ने शोक संतप्त परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की और घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की.’’

रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव ने भी ‘एक्स’ पर पोस्ट कर कहा कि सभी यात्रियों को दुर्घटनास्थल से स्थानांतरित कर दिया गया है.

अश्विनी वैष्णव ने पोस्ट में कहा, ‘‘बचाव कार्य जारी है. सभी यात्रियों को स्थानांतरित कर दिया गया है. नरेन्द्र मोदी जी ने स्थिति की समीक्षा की. आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री से बात हुई है. राज्य सरकार और रेलवे की टीम निकट समन्वय में काम कर रही हैं.’’

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी ने रेल दुर्घटना पर दुख व्यक्त करते हुए संबंधित अधिकारियों को बचाव कार्य करने का निर्देश दिया. उन्होंने घायलों को ले जाने के लिए पर्याप्त संख्या में एम्बुलेंस की व्यवस्था करने को कहा है.

(भाषा के इनपुट के साथ)


यह भी पढ़ें: भारत को कैसे त्वचा और बाल के इलाज के लिए अगला मेडिकल टूरिज्म डेस्टिनेशन बनाया जा सकता है?


 

share & View comments