Saturday, 21 May, 2022
होमदेशअपराधकर्नाटक विधानसभा में धर्मांतरण विरोधी विधेयक पर चर्चा के बीच ईसाई धर्मस्थल में ‘तोड़फोड़’

कर्नाटक विधानसभा में धर्मांतरण विरोधी विधेयक पर चर्चा के बीच ईसाई धर्मस्थल में ‘तोड़फोड़’

सुसाई पाल्या गांव में सेंट एंटनी की प्रतिमा वाले धर्मस्थल पर गुरुवार को कथित तौर पर पथराव किया गया. चिक्कबल्लापुर पुलिस ने ‘अज्ञात’ लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है.

Text Size:

बेंगलुरु: चिक्कबल्लापुर में गुरुवार को एक ईसाई धर्मस्थल में कथित तौर पर तोड़फोड़ की गई. यह घटना ऐसे समय हुई जब कर्नाटक विधानसभा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सरकार की तरफ से पेश धर्मांतरण विरोधी विधेयक पर चर्चा की जा रही है. इस मसले पर राज्य सरकार को इस समय राज्य में विरोध का सामना करना पड़ रहा है.

सुसाई पाल्या गांव में स्थित एक धर्मस्थल, जिसमें सेंट एंटनी की प्रतिमा लगी है, पर गुरुवार तड़के कथित तौर पर पथराव किया गया. चिक्कबल्लापुर पुलिस ने एक स्थानीय निवासी की शिकायत के आधार पर ‘अज्ञात’ लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली है.

‘तोड़फोड़’ का शिकार बना धार्मिक स्थल एक चट्टान पर बने तीन फुट के चैपल के बगल में है. ईसाई धर्मस्थल एक हिंदू मंदिर के पास स्थित है.

चिक्कबल्लापुर के पुलिस अधीक्षक जी.के. मिथुन कुमार ने गुरुवार को दिप्रिंट को बताया, ‘हमने दोनों समुदाय के लोगों से बात की है. किसी भी तरह का सांप्रदायिक तनाव या गुस्सा नहीं है क्योंकि दोनों समुदाय इस बात से सहमत हैं कि यह कुछ अराजक तत्वों की करतूत थी. प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है और जांच की जा रही है. अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई है.’

स्थानीय पुलिस ने भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 153-ए (वैमनस्य फैलाना), 295 (धर्मस्थल को अपवित्र करना), 427 (नुकसान पहुंचाना) सहित अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें


यह भी पढ़ें: कर्नाटक BJP MLA के जबरन धर्मांतरण के दावों का खंडन करने के कुछ दिनों के भीतर तहसीलदार का तबादला


कर्नाटक में विरोध प्रदर्शन

कर्नाटक में यह घटना ऐसे समय में हुई है जब पिछले कुछ समय से ईसाई समुदाय आरोप लगा रहा है कि जबसे सरकार ने धर्मांतरण विरोधी विधेयक का प्रस्ताव रखा है तबसे इस समुदाय के सदस्यों और धार्मिक स्थलों पर हमले बढ़ गए हैं.

कर्नाटक के गृह मंत्री अरागा ज्ञानेंद्र ने मंगलवार को राज्य में धर्मांतरण रोकने और ऐसा कराने वालों को दंडित करने के लिए कर्नाटक धार्मिक स्वतंत्रता अधिकार संरक्षण विधेयक, 2021 पेश किया था.

राज्य में इस विधेयक को अल्पसंख्यकों को प्रताड़ित करने वाला एक कदम मानकर इसका विरोध किया जा रहा है.

यदि विधानसभा धर्मांतरण विरोधी इस विधेयक को मौजूदा स्वरूप में पारित कर देती है तो राज्य में अंतर-धार्मिक विवाहों को ‘अमान्य’ करार दिया जा सकेगा क्योंकि शादी के वादे को मुफ्त शिक्षा और नौकरियों की तरह ‘लुभाने’ की कोशिश की श्रेणी में रखा गया है.

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: कैसे बेलगावी को लेकर महाराष्ट्र-कर्नाटक के दशकों पुराने झगड़े को एक झड़प ने फिर से जिंदा कर दिया


 

share & View comments