scorecardresearch
Saturday, 22 June, 2024
होमदेश'विपक्षी नेताओं को दबाने की कोशिश', लोकसभा में 30 से ज्यादा सांसदों के निलंबन पर बोले गौरव गोगोई

‘विपक्षी नेताओं को दबाने की कोशिश’, लोकसभा में 30 से ज्यादा सांसदों के निलंबन पर बोले गौरव गोगोई

निलंबित सांसदों में कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी, डीएमके सांसद टी आर बालू और दयानिधि मारन और टीएमसी के सौगत रॉय शामिल हैं. इन सांसदों के निलंबन का प्रस्ताव संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने सदन में पेश किया था.

Text Size:

नई दिल्ली: लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी सहित कुल 33 विपक्षी सांसदों को आज शेष शीतकालीन सत्र के लिए संसद से निलंबित कर दिया गया.

निलंबित सांसदों में कांग्रेस के अधीर रंजन चौधरी, डीएमके सांसद टी आर बालू और दयानिधि मारन और टीएमसी के सौगत रॉय शामिल हैं. इन सांसदों के निलंबन का प्रस्ताव संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने सदन में पेश किया था.

संसद सुरक्षा उल्लंघन पर केंद्र-विपक्ष गतिरोध के बीच 33 विपक्षी सांसदों के निलंबन के बाद अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि “सुबह से और पिछले कई दिनों से हम मांग कर रहे हैं कि हमारे सांसदों का निलंबन रद्द किया जाए और गृह मंत्री सदन में बयान जारी करें.”

यह 13 दिसंबर को संसद सुरक्षा उल्लंघन के मुद्दे पर विपक्षी सदस्यों के लगातार विरोध के बाद आया. जिसके संसद सुरक्षा उल्लंघन पर विपक्ष के लगातार विरोध के बीच लोकसभा दिन भर के लिए स्थगित कर दी गई.

कांग्रेस सांसद गौरव गोगोई ने कहा, “संसद में जो बुलडोजर चलाया जा रहा है, उसे पूरा देश देख सकता है. यह कुछ और नहीं बल्कि विपक्षी नेताओं को दबाने का एक तरीका है. केंद्रीय गृह मंत्री की नाकामियों को छिपाने के लिए वे विपक्ष पर बुलडोजर चला रहे हैं.”

बता दें कि विपक्षी सदस्य केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से बयान की मांग कर रहे हैं क्योंकि गैस कनस्तरों के साथ दो व्यक्ति आगंतुक दीर्घा से लोकसभा में कूद गए थे, जिससे सदन के अंदर भगदड़ मच गई थी.

संसद सुरक्षा चूक को लेकर विपक्ष पिछले सप्ताह बुधवार से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह से लगातार बयान की मांग कर रहा है, जिससे संसद को लगातार स्थगित किया जा रहा है.

लोकसभा से कई विपक्षी सांसदों के निलंबन पर केंद्रीय मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा, “विपक्ष ने आज अभद्र व्यवहार किया. विपक्ष असुरक्षित महसूस कर रहा है क्योंकि उनके पास पीएम मोदी की सरकार के खिलाफ कोई एजेंडा या मुद्दा नहीं है. इसलिए अध्यक्ष ने उन्हें निलंबित कर दिया है और हमने इसका समर्थन किया है.”

बता दें कि सुरक्षा उल्लंघन 2001 के संसद आतंकवादी हमले की बरसी पर हुआ. दो लोग-सागर शर्मा और मनोरंजन डी-शून्यकाल के दौरान सार्वजनिक गैलरी से लोकसभा कक्ष में कूद गए, कनस्तरों से पीली गैस छोड़ी और सांसदों द्वारा काबू किए जाने से पहले सत्ता विरोधी नारे लगाए.


यह भी पढ़ें: ‘जांच रिपोर्ट संसद में पेश की जाए’, संसद सुरक्षा उल्लंघन पर INDIA ब्लॉक के नेताओं ने की बैठक


 

share & View comments