scorecardresearch
Monday, 15 July, 2024
होमफीचर'यहां युवा चेहरे मुश्किल से ही दिखते हैं', पंजाबियों का विदेश जाने का सपना अब कनाडा तक सीमित नहीं

‘यहां युवा चेहरे मुश्किल से ही दिखते हैं’, पंजाबियों का विदेश जाने का सपना अब कनाडा तक सीमित नहीं

ज़्यादातर घरों में ताले लगे हैं और पंजाब भर के कई गांवों में युवा चेहरे मुश्किल से ही देखने को मिलते हैं. खटकर कलां निवासी जय सिंह सवाल किया कि 'वापस क्यों आएं? यहां किसी के लिए है ही क्या?'

Text Size:

जालंधर/नवांशहर: यह नवांशहर की घने कोहरे की चादर में डूबी हुई एक उदास दोपहर है,जब सबवे में युवा कैश काउंटर क्लर्क अपने ब्रेक टाइम का उपयोग अपने इंस्टाग्राम फ़ीड को स्क्रॉल करने के लिए कर रहा है. यह 18 वर्षीय जसकरण राय का पसंदीदा काम है – यह देखना कि उसके कजिन “कनाडा में कैसे काम कर रहे हैं और पार्टी कर रहे हैं.”

जसकरण के साथ ब्रेड काटते और टोस्ट करते हुए, 20 वर्षीय सुरिंदर भी अपने फोन पर सफलता से जुड़ी कहानियों पर नजर रखते हैं. सुरिंदर ने कहा, “हमने हाल ही में अपने पड़ोस के एक व्यक्ति को अपनी नई फॉर्च्यूनर की तस्वीरें पोस्ट करते हुए देखा. वह विदेश चला गया था, वह मॉन्ट्रियल में ट्रक ड्राइवर के रूप में काम करता है और अब उसके पास वापस आकर इसे खरीदने के लिए पर्याप्त पैसा हो गया है. तभी मुझे एहसास हुआ कि यहां कोई भविष्य नहीं है. कोई अच्छी नौकरियां नहीं हैं.”

सुरिंदर वर्तमान में एक स्थानीय संस्थान में होटल मैनजमेंट में स्नातक कार्यक्रम कर रहे है, और जसकरण अपनी स्नातक की डिग्री के लिए एक स्थानीय बिज़नेस एंड कॉमर्स कॉलेज में पढ़ते है. लेकिन वे यहां से बहुत दूर जाने की इच्छा रखते हुए बड़ी और बेहतर चीजों का इंतजार कर रहे हैं. जसकरण ने कहा, “मेरे सभी कजिन कनाडा में हैं, अब मैं जाना चाहता हूं. मैं इसके लिए तैयारी करने जा रहा हूं.” जसकरण उनकी तरह जिंदगी जीना चाहते हैं, भले ही वे वहां उनकी तरह ब्लू-कॉलर जॉब में ही क्यों न फंसे हों.

जसकिरण के पलायनवाद के पसंदीदा रूप में अमेरिकी या कनाडाई सपने को जीने वाले अन्य युवा पंजाबी पुरुषों की रील देखना शामिल है | सबा गुरमत | दिप्रिंट

पंजाब के पारंपरिक इमीग्रेशन क्षेत्र दोआबा के केंद्र में स्थित नवांशहर में निराशा की लहर दौड़ रही है. जसकरण और उनके सहयोगी बाहर निकलना चाहते हैं, लेकिन कनाडा से कम कुछ भी नहीं चलेगा. यहां युवा स्पष्ट लक्ष्यों लेकिन अनिश्चित रास्तों के साथ ‘विदेश में पढ़ने’ और ‘इमीग्रेशन’ परामर्शों के बीच जी रहे हैं. उनके कजिन की उड़ान ने अब जसकरण को IELTS नामक अंग्रेजी योग्यता परीक्षा की तैयारी के लिए प्रेरित किया है, यह संक्षिप्त नाम यहां इतना लोकप्रिय है कि यह स्थानीय शब्दकोष में ‘ilets’ के रूप में प्रवेश कर गया है. इसके साथ वे अपने मित्र गुरदीत सिंह की एक रील की भी प्रशंसा करते है, जिसने सार्वजनिक रूप से दक्षिण अमेरिका से कैलिफ़ोर्निया में अपनी अवैध प्रवास यात्रा पोस्ट की है.

2011 की जनगणना के अनुसार, केवल 1,08,829 की आबादी वाले इस शहर में, वास्तविक उद्योग विदेश जाने के सांस्कृतिक जुनून पर पनपता है. शहर का सिटी स्क्वायर और मुख्य बाज़ार टिकटिंग और ट्रैवल एजेंटों, आईईएलटीएस और छात्र वीज़ा परामर्शदाताओं से भरे हुए हैं.

तल्हान निवासी राजी ने कहा, “साडे पिंड ते कोई जवान कुड़ी हैगी ही नहीं, कोई भी घर ले लो (हमारे गांव में कोई जवान लड़की नहीं है, कोई भी घर देख लो). आपको यहां केवल वही महिलाएं मिलेंगी जो शादीशुदा हैं या जो विदेश जाने की तैयारी कर रही हैं.”

पुलिस रिकॉर्ड अकेले शहर में 94 इमीग्रेशन और ‘विदेश में पढ़ने’ केंद्र संचालित होने का संकेत देते हैं. एक पुलिस अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि ये “सिर्फ सत्यापित लोग” थे, जो अवैध एजेंटों और संस्थानों के एक विशाल भूमिगत नेटवर्क की ओर इशारा करते थे.

पूरे राज्य में, कनाडा और इमीग्रेशन के सपने ने सामाजिक और सांस्कृतिक कल्पना पर कब्जा कर रखा है. पंजाबी संगीत और सिनेमा के कई बड़े नाम या तो कनाडा में काम करते हैं या विदेश में फिल्म करते हैं. 26 वर्षीय शैडोफैक्स डिलीवरी कर्मचारी अमनदीप सिंह, स्थायी निवास (पीआर) प्राप्त करने में आसानी के कारण कनाडा को एक आकर्षक और व्यावहारिक विकल्प दोनों के रूप में देखते हैं. उन्होंने कहा, “मैं IELTS के छह असफल प्रयास कर चुका हूं.” उनकी प्रेरणा “कनाडा में करण औजला और एपी ढिल्लों जैसे गायकों” की सफलता की कहानियों से बढ़ती है. उन्होंने कहा, एक बार जब आप वहां पहुंच जाएं तो कोई भी इसे बड़ा बना सकता है.

कनाडा का मोहक आकर्षण हर जगह है. गानों, फिल्मों, सोशल मीडिया और मेपल के पत्ते वाले साइनबोर्ड में. और पंजाबियों का पंजाब से बाहर निकलने का सपना भी इसमें शामिल है.

शहरों और गांवों में युवाओं के साथ बातचीत से एक सुसंगत विषय सामने आया कि विदेशों में जिन पंजाबियों को वे जानते थे उनमें से अधिकांश ट्रक ड्राइविंग, कैब ड्राइविंग, निर्माण कार्य और किराने की दुकानों में खुदरा बिक्री जैसे व्यवसायों में काम करते थे.


यह भी पढ़ें: पंजाब के युवाओं को लगता है कि तनाव के चलते अब कनाडा जाकर पढ़ना संभव नहीं है, कई के मन में भारी डर


सपने दिखाती फिल्में

कई पंजाबी युवाओं के लिए, कनाडा जैसे देशों में पलायन सिर्फ नौकरियों के बारे में नहीं है – यह कायापलट का मौका है, पुरानी जिंदगी को बदलने का. ऐसी धारणा है कि इसमें आने वाली सामान्य बाधाएं मायने नहीं रखती है.

अमनदीप ने स्टूडेंटवे ‘एजुकेशन फॉरेन’ कंसल्टेंसी ऑफिस के बाहर कुरकुरी जलेबियों का आनंद लेते हुए कहा, “सिद्धू (मूसेवाला) ने इसके बारे में गाया जब उन्होंने कहा, ‘तैनु पता (क्या आप जानते हैं) यह ब्रैम्पटन है; जहां सब कुछ और कुछ भी हो सकता है!”

Moosewala
सिद्धू मूसेवाला के गीत ‘B-Twon’ का एक दृश्य | यूट्यूब स्क्रीनग्रैब

उन्होंने अवैध डंकी मार्ग को स्टोववेज़ के रूप में संदर्भित करते हुए कहा, जो अब शाहरुख खान अभिनीत डंकी द्वारा लोकप्रिय हो गया है, “मैं कानूनी रास्ता अपनाना चाहता हूं, लेकिन मुझे पता है कि मेरे कुछ पूर्व सहपाठियों ने डंकी का सहारा लिया है.”

इसके बाद अमनदीप ने डोंकी-फ्लाइट घटना के चित्रण के लिए लोकप्रिय 2022 पंजाबी फिल्म आजा मैक्सिको चलिये की प्रशंसा की. उन्होंने कहा, “फिल्म ने यह सब बहुत यथार्थवादी तरीके से दिखाया है, और हमें बताती है कि अवैध मार्ग इतनी सारी समस्याएं क्यों पैदा कर सकता है.”

लेकिन अगर इमीग्रेशन-संबंधित विषयों की बात करें तो आजा मेक्सिको चलिये केवल आइसबर्ग के सिरे की तरह बहुत कम ही बताता है. अगर उड़ता पंजाब जैसी हिंदी फिल्में और CAT जैसी नेटफ्लिक्स सीरिज़ या हाल ही में स्लीपर-हिट Kohrra इस क्षेत्र के निचले हिस्से का पता लगाती है, लेकिन व्यावसायिक पंजाबी सिनेमा ने Jatt vs IELTS जैसे फिल्मों से विदेश जाने के सपने को लंबे समय से रोमांटिक बने दिया है. यहां तक कि नसीरुद्दीन शाह अभिनीत जिंदा भाग जैसी सीमा पार समानांतर सिनेमा भी पाकिस्तान के पंजाब में स्थापित ऐसी ही कहानियां बताती है.

जट्ट बनाम आईईटीएलटी का एक दृश्य | यूट्यूब स्क्रीनग्रैब

आजा मेक्सिको चलिये में पंजाबी सिनेमा का एक बड़ा नाम एमी विर्क के साथ-साथ नासिर चिन्योति और ज़ाफरी खान जैसे पाकिस्तानी पंजाबी कलाकार भी हैं. अच्छी समीक्षाओं के साथ, फिल्म में ‘अमेरिकन ड्रीम’ को संजोने वाले एक व्यक्ति के रूप में विर्क की यात्रा को दर्शाया गया है, जो पनामा और मैक्सिको के माध्यम से अवैध रूप से अमेरिकी सीमा में प्रवेश करता है. रेडिटर्स और अन्य सोशल-मीडिया यूज़र हाल ही में राजकुमार हिरानी की डंकी और इस फिल्म के बीच समानताएं बना रहे हैं, कुछ ने दावा किया है कि उनके विषयों में समानताएं देखते हुए यह एक नकल है.

हताश युवाओं की यह संस्कृति सीमा पार भी साझा की जाती है.

2013 में, पाकिस्तानी फिल्म जिंदा भाग, जिसमें भारतीय अभिनेताओं ने भी सहयोग किया था और भारतीय मूल की पटकथा लेखक और फिल्म निर्माता मीनू गौड़ द्वारा सह-लिखित थी, अवैध इमीग्रेशन और विदेश में बेहतर जीवन की तलाश कर रहे लाहौरियों के एक हताश, असंतुष्ट समूह के विषय से संबंधित है. 50 से अधिक वर्षों में पाकिस्तान की पहली ऑस्कर एनट्री, यह फिल्म एक स्लीपर हिट थी, जो पूरे क्षेत्र में इस मुद्दे की साझा प्रासंगिकता को दर्शाती है.

ओपी जिंदल विश्वविद्यालय में प्रवासन अध्ययन विद्वान और एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. सुगंधा नागपाल ने कहा, “पंजाबी फिल्में और गाने माइग्रेशन को रोमांटिक बनाते हैं और इसे पंजाबी संस्कृति के आंतरिक पहलू के रूप में स्थापित करते हैं.”

उन्होंने कहा, “कई फिल्मों और गानों में, पुरुष नायक एक प्रवासी या महत्वाकांक्षी प्रवासी होता है और उसे ऐसे व्यक्ति के रूप में चित्रित किया जाता है जो जमीन से जुड़ा हुआ है, कोई ऐसा व्यक्ति जो पंजाबियत का प्रतीक है, और साथ ही पश्चिमी उपभोग में शामिल हो सकता है. महिला नायक पंजाबी संस्कृति में युवा महिलाओं की अपेक्षाओं को पूरा करते हुए परिष्कृत, शहरी और आधुनिक है.”

असंतोष, इच्छा, और विदेश जाने का सपना

दिसंबर 2021 में, सेंटर फॉर स्टडीज डेवलपिंग सोसाइटीज (सीएसडीएस)-लोकनीति और जर्मन थिंक टैंक कोनराड एडेनॉयर स्टिफ्टंग द्वारा किए गए एक सर्वेक्षण में पाया गया कि पंजाब के युवा भारत में अपने गृह राज्य में नौकरी के अवसरों से सबसे अधिक असंतुष्ट हैं. पंजाब के केवल 2 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने अपने राज्य में रोजगार के अवसरों को “अच्छा” बताया, जो अखिल भारतीय औसत 15 प्रतिशत से काफी कम है.

ग्राफिक: रमनदीप कौर/दिप्रिंट

पंजाब से विदेश में काम करने और पढ़ाई के लिए जाने वाले लोगों की संख्या के आंकड़े चौंकाने वाले हैं. 2021 में, लोकसभा में विदेश मंत्रालय (एमईए) द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों से पता चला कि जनसंख्या के सापेक्ष काम के लिए प्रवासन के मामले में पंजाब भारतीय राज्यों में चौथे स्थान पर है, इसकी कम से कम 1.6 प्रतिशत आबादी विदेशों में रोजगार की तलाश में है. केंद्र शासित प्रदेश चंडीगढ़ के साथ संयुक्त होने पर, यह संख्या बढ़कर 1.9 प्रतिशत हो जाती है, जिससे यह आप्रवासी आबादी वाले भारत के शीर्ष दो राज्यों में से एक बन जाता है. इन्हीं आंकड़ों से यह भी पता चलता है कि पंजाब में पढ़ाई के लिए विदेश जाने वाले लोगों की संख्या सबसे ज्यादा है.

ग्राफिक: रमनदीप कौर/दिप्रिंट

इसमें कोई आश्चर्य की बात नहीं है कि कनाडा स्थित एक दोस्त की नई फॉर्च्यूनर वाली फेसबुक पोस्ट, या विदेश में कॉलेज पार्टियों की इंस्टाग्राम रील्स को देखकर ऐसा लगता है कि यह एक बेहद असंतुष्ट और निराश युवा का जवाब है. सामाजिक रूप से, महिलाओं के लिंग आधारित अनुभव भी इस बात में एक बड़ी भूमिका निभाते हैं कि पंजाबियों में विदेश जाने का क्रेज़ इतना ज्यादा क्यों है. युवा महिलाएं न केवल बेहतर आर्थिक संभावनाओं के कारण, बल्कि सुरक्षा, बेहतर व्यक्तिगत स्वतंत्रता और नागरिक स्वतंत्रता के लिए अधिक संस्थागत सम्मान के कारण भी कनाडा जैसे देश में विदेश जाने को अनुकूल मानती हैं.

55 वर्षीय सुखविंदर कौर ने कहा, “मेरी बेटी ने पहले ब्रिटेन में रहने और काम करने की कोशिश की, लेकिन जब इंजीनियरिंग डिप्लोमा के बावजूद बात नहीं बनी तो वह कनाडा चली गई. यह सिर्फ पैसे के बारे में नहीं है. यहां महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं. तुम चाहे तो यहां रहकर देख लो – क्या तुमने कभी शाम 7 बजे के बाद किसी महिला को यहां देखा है? कनाडा में वह रात 11 बजे घर लौटती है, लेकिन मुझे चिंता करने की ज़रूरत महसूस नहीं होती है.”

कौर एक दर्जी है, जो जालंधर के बाहरी इलाके तल्हान गांव में दो बेडरूम वाले घर में अपनी विवाहित बड़ी बेटी और पोते के साथ रहती है. सिलाई मशीन के सीट से उठते हुए, वह इस बात पर जोर देती है कि कैसे उनकी दो बेटियों में से, यह छोटी बेटी थी जिसने शादी किए बिना विदेश जाने की “जिद” की.

कौर ने कहा, “शुरुआत में, वह यहीं रहना चाहती थी. कोविड वर्ष से पहले उसके पास कभी पासपोर्ट भी नहीं था. वह कहती थी, ‘अगर आप यह देश छोड़ दें तो कोई भी बड़ा बन सकता है, मैं यहां भारत में खुद को साबित करना चाहती हूं!’ लेकिन जब अच्छी नौकरियां नहीं हैं, तो क्या किया जा सकता है? इतने धक्के खाये हैं. हमने यहां सरकारी नौकरियों के लिए प्रयास किया, मैं उसे मोगा, जालंधर, चंडीगढ़ में नौकरी के लिए इंटरव्यू के लिए ले गई, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. फिर अंततः उसने सोचा कि यहां चपरासी बनने से बेहतर है कि विदेश जाकर कुछ किया जाए.”

उनकी 27 वर्षीय बेटी ने अंततः कनाडा जाने से पहले यूके में इंजीनियरिंग डिप्लोमा के लिए अध्ययन किया “क्योंकि वहां पीआर प्राप्त करना आसान है”. कौर ने दावा किया कि उनके गांव के पुरुष “काम नहीं करते, वे सिर्फ नशा करते हैं” जबकि महिलाएं “महत्वाकांक्षाओं से भरी” हुई हैं. उन्होंने कहा, उनके गांव में कोई भी “जवान कुड़ी” या युवा महिला नहीं बची है, क्योंकि वे सभी अपने परिवारों के साथ चले गए हैं.

‘सोहनी सोहनी’ (खूबसूरत) $7 के जूते लोकप्रिय पंजाबी आप्रवासी व्लॉगर एंजेल शर्मा ने कनाडा में खरीदारी की खुशियों के बारे में अपने एक वीडियो में प्रदर्शित किए। उनके जैसे ‘प्रभावकों’ को पंजाबी युवा उत्सुकता से फॉलो करते हैं जो विदेश जाना चाहते हैं | यूट्यूब स्क्रीनग्रैब

तल्हान में घूमते हुए, यह देखना आसान है कि कौर ऐसा क्यों कहती है. देखी गई चार महिलाओं में से एकमात्र युवा और अविवाहित थी जो अभी भी हाई स्कूल में थी और परीक्षा की तैयारी कर रही थी. 42 वर्षीय एक अन्य निवासी राजी ने अपना पूरा नाम उजागर न करने की मांग करते हुए कहा, “साडे पिंड ते कोई जवान कुड़ी हैगी ही नहीं, कोई भी घर ले लो (हमारे गांव में कोई जवान लड़की नहीं है, कोई भी घर देख लो). आपको केवल वही महिलाएं मिलेंगी जो शादीशुदा हैं या जो विदेश जाने की तैयारी में हैं और अभी +2 (कक्षा 12वीं) में हैं. जब मैं गुरुद्वारे जाती हूं, तो मुझे कभी कोई युवा महिला नहीं दिखती.”

जालंधर शहर के मध्य में, 23 वर्षीय अदिति सिंह, जिसने हाल ही में कंप्यूटर एप्लीकेशन की डिग्री हासिल की है, वर्क परमिट प्राप्त करने की सबसे आसान संभावना वाले देश में जाना चाहती है. महीनों पहले, एक पूर्व सहपाठी के साथ एक व्हाट्सएप एक्सचेंज ने उन्हें एंजेल शर्मा के वीडियो से परिचित कराया, जो एक लोकप्रिय YouTuber है जो उनकी और उनके साथी की कनाडाई प्रवास यात्रा का दस्तावेजीकरण कर रहे है. चैनल, ‘एंजेल्स शिवम’ के 288,000 से अधिक ग्राहक हैं और 74 मिलियन से अधिक बार देखा गया है.

अदिति ने कहा, (एंजेल) ने अपने पति के साथ अपने कनाडा यात्रा को शूट भी किया है. मुझे नहीं पता कि कैसे समझाऊं, लेकिन यह कुछ ऐसा है जो हममें से बहुत से लोग चाहते हैं, इस तरह की स्वतंत्रता और जीवन; वह बहुत भाग्यशाली है कि उन्हें अपने पति के साथ इसका आनंद लेने का मौका मिलता है.”

ऐसा ही एक वीडियो, जिसे 1.2 मिलियन से अधिक बार देखा गया है – भारत से कनाडा वापस जाने से पहले एंजेल की तैयारियों को दर्शाता है, जिसमें उनके माता-पिता को विदाई देने वाला पल भी शामिल है. फिर भी, कुछ मिनट बाद मूड बदल जाता है. एंजेल अपने दर्शकों को बताती है कि वह वीज़ा प्रक्रिया का दस्तावेजीकरण करने, आधिकारिक कागजी कार्रवाई दाखिल करने और अपनी खरीदारी के सिलसिले में “घैंट, घैंट व्लॉग” (कूल, कूल व्लॉग) बनाएगी, और वह सभी से सब्सक्राइब करने का आग्रह करती है.

Angel
कनाडा स्थित लोकप्रिय यूट्यूबर एंजेल एक यात्रा के बाद अपने पंजाब स्थित घर को रोते हुए छोड़ती है | यूट्यूब स्क्रीनग्रैब

कनाडा पहुंचने के बाद, एंजेल ने अपने दिन-प्रतिदिन की खरीदारी और नेल-एक्सटेंशन को दर्शाते हुए कई वीडियो बनाना शुरू कर दिया. प्रत्येक के कम से कम 100,000 व्यूज होते हैं. इसका एक शीर्षक है “हाउसहोल्ड शॉपिंग.” जूते केवल $7′ में, जहां वह गलीचे, चटाइयां और अन्य ”सोहने, सोहने” (सुंदर) चीजे खरीद रही है और दर्शकों को दिखा रही है कि यह सब कैसे ”वद्दिया” (अच्छी) कीमत पर है. डॉलर ट्री स्टोर की उनकी यात्रा का एक और यूट्यूब वीडियो है, जिसमें प्रत्येक 1.5 डॉलर की वस्तु पर उत्साह व्यक्त किया गया है, जिससे एक इच्छुक दर्शक पूछ रहा है कि यह विशेष शाखा कहां स्थित है.

ऐसी नौकरियां जिनकी स्वदेश में अधिक प्रतिष्ठा नहीं होती, जैसे निर्माण कार्य – वो विदेशों में अच्छा वेतन और विकास के अवसर प्रदान करती हैं, जो उन्हें भारतीयों के लिए आकर्षक बनाती हैं.

ऐसे वीडियो गहरी लालसा पैदा कर सकते हैं. अदिति, जो वर्तमान में जालंधर में नौकरियों की तलाश में हैं, ने कहा कि एंजेल और मेलबर्न स्थित गुरकीरत रंधावा जैसे “प्रभावशाली लोगों” को देखकर विदेश में “बेहतर जीवनशैली और सामाजिक संबंधों” के प्रति उनकी आंखें खुली हैं.

शहरों और गांवों में युवाओं के साथ बातचीत से एक सुसंगत विषय सामने आया कि विदेशों में जिन पंजाबियों को वे जानते थे उनमें से अधिकांश ट्रक ड्राइविंग, कैब ड्राइविंग, निर्माण कार्य और किराने की दुकानों में खुदरा बिक्री जैसे व्यवसायों में काम करते थे. विशेषकर ट्रक ड्राइविंग को दुनिया भर में इस क्षेत्र के पर्याय के रूप में देखा जाता है. डिलीवरी कर्मचारी अमनदीप ने राहुल गांधी के अमेरिका में एक ट्रक ड्राइवर और आप्रवासी तलजिंदर सिंह गिल के साथ वाॅशिंगटन डीसी से न्यूयॉर्क जाने के वीडियो का हवाला दिया.

अप्रवासी तलजिंदर सिंह गिल के साथ अपनी ‘अमेरिकी ट्रक यात्रा’ पर राहुल गांधी | यूट्यूब स्क्रीनग्रैब

अमनदीप ने बताया कि, भारत के विपरीत, अमेरिका या कनाडा में ट्रक ड्राइविंग “सम्मान के साथ अच्छी तनख्वाह वाली नौकरी है, जहां आप आसानी से 5 से 6 लाख रुपये प्रति माह कमा सकते हैं.”

इंस्टाग्राम पर, कई अप्रवासी अपने ट्रकों की रील और तस्वीरें अपलोड करते हैं, जिनमें लोकप्रिय ‘माइग्रेंट इन्फ्लुएंसर‘ अंकुश मलिक भी शामिल हैं. सबवे कर्मचारी सुरिंदर ने इस भावना को दोहराया कि जिन नौकरियों को घर पर बहुत अधिक दर्जा नहीं है, जैसे निर्माण कार्य, वो विदेश में अच्छा वेतन और विकास के अवसर प्रदान करते हैं, जो उन्हें भारतीयों के लिए आकर्षक बनाते हैं.


यह भी पढ़ें: पंजाब के पास अमृतपाल से भी बड़ी समस्या है- नौजवानों में कनाडा जाने का एकतरफा जुनून


टॉय हवाई जहाज और हेलीकॉप्टर का प्रसाद

तल्हान में गांव का गुरुद्वारा पलायन का सपना देखने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए अवश्य ही एक स्थान है. इस 150 साल पुराने स्थान, शहीद बाबा निहाल सिंह गुरुद्वारे में, भक्त फूलों और मिठाइयों का नहीं, बल्कि खिलौने के हवाई जहाज और हेलीकॉप्टर का प्रसाद चढ़ाते हैं.

Shops selling toy planes and flags outside Talhan Sahib | Photo: Sabah Gurmat
तल्हान साहिब के बाहर खिलौना विमान और झंडे बेचने वाली दुकानें | फोटो: सबा गुरमत

भीड़ के बीच, 36 वर्षीय अमरिंदर सिंह, जो साइट पर हलवा या ‘कड़ा-प्रसाद’ परोसते हैं, शाहरुख खान और डंकी के निर्देशक राजकुमार हिरानी की एक वीडियो क्लिप दिखाने के लिए अपना फोन निकालते हैं.

“एसआरके द्वारा हमारा जिक्र करने और यह वीडियो फेसबुक और व्हाट्सएप ग्रुप पर वायरल होने के बाद 17 या 18 दिसंबर से तल्हन साहिब में लोगों की संख्या बढ़ गई है. अब तो बस शाहरुख़ का यहां आना रह गया है!”

हर दिन, सैकड़ों लोग आते हैं, जिसे गुरुद्वारे के प्रबंधक बलजीत सिंह “विदेश जाने की मुरादें” कहते हैं – जो IELTS परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने, वीज़ा अनुमोदन, कनाडाई पीआर, ग्रीन कार्ड के लिए प्रार्थना करते हैं.

Devotees leave a toy plastic airplane within the gurudwara precincts at Baba Nihal Singhji Shaheed Gurudwara in Talhan
तल्हान में बाबा निहाल सिंह जी शहीद गुरुद्वारा के परिसर में खिलौना हवाई जहाज की फाइल फोटो | चितलीन सेठी | दिप्रिंट

गुरुद्वारे के बगल में प्लास्टिक के विमान बेचने वाली दुकानें और रेहड़ी-पटरी वाले हैं. प्रबंधन का अनुमान है कि कुछ महीने पहले तक यहां हर हफ्ते 5,000 तक खिलौना विमान पेश किए जाते थे. हालांकि, शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक समिति (एसजीपीसी) ने अगस्त 2023 में इस प्रथा पर रोक लगा दी थी, जब एक आगंतुक ने अमृतसर के स्वर्ण मंदिर में एक मॉडल हवाई जहाज की पेशकश की थी.

यहां श्रद्धालु प्लास्टिक के विमान खरीदना और चढ़ाना जारी रखते हैं, भले ही वे अब गुरुद्वारा प्रबंधन द्वारा अलग रखे गए निर्दिष्ट क्षेत्र में हों. सर्दियों के दौरान पर्यटकों की संख्या कम हो गई, लेकिन फिल्म के प्रचार के दौरान डंकी और शाहरुख खान के गांव के संदर्भ के कारण इमीग्रेशन की चर्चा फिर से लौट आई है.

हालांकि, उन लोगों के लिए भी जिनकी इमीग्रेशन प्रार्थनाओं का उत्तर मिल गए है, हर कोई कनाडा, ब्रिटेन या अमेरिका में नहीं पहुंचता है.

संयुक्त अरब अमीरात – जो पंजाब के प्रवासियों की सबसे बड़ी संख्या को आकर्षित करता है – दलितों (52 प्रतिशत), भूमिहीन परिवारों (41 प्रतिशत) और निम्नतम जीवन स्तर वाले लोगों (72 प्रतिशत) के उच्चतम अनुपात को आकर्षित करता है.

डेस्टिनेशन और जाति

हताश लोगों के लिए गंतव्यों का एक टोटेम पोल है, और यदि अमेरिका और कनाडा शीर्ष पर हैं, तो समझौता करने के इच्छुक लोगों के लिए मानचित्र पर नए क्षितिज उभर रहे हैं.

30 वर्षीय अमनदीप सिंह चौहान ने कहा, “यूके में बसने का कोई रास्ता नहीं है, इसलिए मैं साइप्रस जा रहा हूं.” एक बीटेक स्नातक और एक अग्रणी ऐप-आधारित डिलीवरी प्लेटफॉर्म के पूर्व प्रबंधक, वह यूरोपीय द्वीप राष्ट्र में व्यवसाय शुरू करने के लिए पूंजी निवेश करने के लिए पूरी तरह तैयार हैं. वह मन बदलने का कारण क्षेत्र में “बेहतर जीवन, बेहतर मौसम और गतिशीलता” के वादे को बताते हैं.

चौहान की कहानी असामान्य नहीं है. चंडीगढ़ के हलचल भरे सेक्टर-17 बाजार में, कम से कम दो कंसल्टेंसी ने अमेरिकन कॉलेज में पढ़ाई के मान्यता प्राप्त कार्यक्रमों और अत्याधुनिक कैंपस सुविधाओं के बारे में चमकदार ब्रोशर की एक पंक्ति प्रदर्शित की. लेकिन करीब से देखें तो कॉलेज कहीं अमेरिका के पास नहीं, बल्कि भूमध्यसागरीय द्वीप साइप्रस में है.

यदि “विदेश में पढ़ाई की परामर्श” के बाहर ब्रोशर और संकेतों पर गौर किया जाए, तो पंजाबियों की बढ़ती संख्या अब पारंपरिक कनाडा मार्ग के बजाय साइप्रस, माल्टा, क्रोएशिया, कतर और चेक गणराज्य जैसे पूर्वी यूरोपीय देशों जैसे गंतव्यों को चुन रही है. हो सकता है कि वे सूची में शीर्ष पर न हों, लेकिन फिर भी उनमें “बेहतर जीवन” का आकर्षण है.

क्रोएशिया में प्रवास के बारे में पंजाबी में एक वीडियो का दृश्य। इन ‘टियर-2’ गंतव्यों के बारे में ऑनलाइन वीडियो तेजी से फैल रहे हैं | यूट्यूब स्क्रीनग्रैब

इटली के साथ-साथ कुछ पूर्वी यूरोपीय देशों को भी अवैध या गैर-दस्तावेज माइग्रेशन के लिए प्रवेश द्वार के रूप में देखा जाता है, इन मार्गों के माध्यम से डोंकी फ्लाइट्स के लिए एजेंटों और तस्करों को पकड़े जाने की रिपोर्टें हैं. जबकि लोग इटली या साइप्रस जैसे देशों में काम करना और बसना चुनते हैं, लेकिन इन्हें अक्सर कनाडा, अमेरिका या यूके तक पहुंचने के अंतिम लक्ष्य के साथ अंतिम गंतव्य के बजाय महज़ एक कदम के रूप में देखा जाता है. इटली में पंजाबी प्रवासियों के लिए खेती, डेयरी और पशुपालन आम व्यवसाय बन गए हैं.

अर्थशास्त्र और प्रवासन अनुसंधान विद्वान प्रोफेसर अश्विनी कुमार नंदा ने कहा, “अगर हम गंतव्यों को ऊपर की स्थिति के आधार पर रैंक करते हैं, तो यदि आपके पास संसाधन हैं तो पहला विकल्प संयुक्त राज्य अमेरिका है. लेकिन कई लोग अमेरिका जाने के अंतिम सपने के साथ कनाडा जाते हैं.”

चंडीगढ़ में सेंटर फॉर रिसर्च इन रूरल एंड इंडस्ट्रियल डेवलपमेंट (सीआरआरआईडी) और नेशनल इंस्टीट्यूट फॉर डेमोग्राफिक स्टडीज इन पेरिस द्वारा प्रवासन पैटर्न के 2015 के विश्लेषण के अनुसार, पंजाब में करीब 11 प्रतिशत परिवारों ने कम से कम एक मौजूदा अंतरराष्ट्रीय प्रवासी की सूचना दी है. लेकिन 10,000 से अधिक घरों का यह सर्वेक्षण इस लोकप्रिय धारणा को खारिज कर देता है कि कनाडा पंजाबी प्रवासियों के लिए प्राथमिक गंतव्य है. कई और लोग संयुक्त अरब अमीरात में गए हैं.

हालांकि इस क्षेत्र से कोई हालिया आधिकारिक डेटा उपलब्ध नहीं है, लेकिन रिपोर्ट यह दिखाते हुए कनाडा की रूढ़ि का खंडन करती है कि पंजाब के प्रवासियों (45 प्रतिशत) के लिए एशिया शीर्ष स्थान है, इसके बाद यूरोप (26 प्रतिशत) और उत्तरी अमेरिका (18 प्रतिशत) हैं).

अध्ययन से यह भी पता चलता है कि जातिगत गतिशीलता गंतव्य चयन और प्रवासन के कारणों दोनों को भारी रूप से प्रभावित करती है.

नंदा ने कहा कि गल्फ का मतलब “निम्न-श्रेणी की नौकरी के अवसर और काम” था और कई दलित वहां “मजदूर वर्ग” की नौकरियां कर रहे हैं.

हालांकि उच्च जाति की आबादी, विशेष रूप से जाट और खत्री सिख, कुल हिस्सेदारी के आधे से अधिक के साथ बाहरी प्रवासियों का सबसे बड़ा समूह बनाते हैं, अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) और अनुसूचित जाति (एससी) भी 23 प्रतिशत और 17 प्रतिशत के महत्वपूर्ण अनुपात का प्रतिनिधित्व करते हैं.

विरोधाभासी रूप से, प्रवासन दर ओबीसी (प्रति 1,000 पर 41) में सबसे अधिक है, इसके बाद उच्च जाति (प्रति 1,000 पर 37) और एससी (प्रति 1,000 पर 14) हैं. लेकिन सबसे बड़ा अंतर उन गंतव्यों में है जहां ये समुदाय समाप्त होते हैं.

संयुक्त अरब अमीरात – जो पंजाब के प्रवासियों की सबसे बड़ी संख्या को आकर्षित करता है – दलितों (52 प्रतिशत), भूमिहीन परिवारों (41 प्रतिशत) और निम्नतम जीवन स्तर वाले लोगों (72 प्रतिशत) के उच्चतम अनुपात को आकर्षित करता है.

इसके विपरीत, अध्ययन में पाया गया कि कनाडा को गैर-दलित और गैर-ओबीसी जातियां (17 प्रतिशत), कम से कम 10 एकड़ कृषि भूमि के मालिक (25 प्रतिशत) और उच्चतम जीवन स्तर वाले लोग (16 प्रतिशत) सबसे ज्यादा पसंद करते हैं.

CRRID अध्ययन के लेखकों में से एक, अर्थशास्त्री और प्रवासन अध्ययन विद्वान अश्विनी कुमार नंदा ने बताया, “दोआबा क्षेत्र भारत में दलितों की सबसे अधिक आबादी में से एक है, जिनमें से कई (जिनमें से) के पास छोटे आकार की भूमि जोत भी है.” उन्होंने दिप्रिंट को बताया कि अभाव प्रवासन का एक मजबूत चालक है, जिसके कारण कई लोगों को देश छोड़ने के लिए “पैसा या संसाधन उधार” लेना पड़ता है.

उन्होंने कहा, “दोस्तों/रिश्तेदारों से उधार लेना उन आप्रवासियों में सबसे अधिक है जो धन सूचकांक (74 प्रतिशत) में सबसे नीचे हैं और एससी समुदाय (71 प्रतिशत) से हैं. यह उत्पादक संपत्तियों की कमी के कारण हो सकता है, जो वाणिज्यिक बैंकों तक उनकी पहुंच को प्रतिबंधित करता है, जो साहूकारों की तुलना में अपेक्षाकृत कम लागत और जोखिम पर धन की पेशकश करते हैं.”

नवांशहर के बसपा जिला सचिव, कृष्ण बाली ने कहा कि “यहां सीखने का कोई मतलब नहीं है, यहां नौकरियां नहीं हैं. चाहे कोई भी जाति हो.”

नवांशहर में, फगवाड़ा-मोहाली एक्सप्रेसवे के किनारे विदेश में अध्ययन केंद्रों की एक पंक्ति के बीच, बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का जिला कार्यालय कुछ हद तक जगह से बाहर दिखता है. बसपा के जिला सचिव कृष्ण बाली के लिए, आप्रवासन एक ज्वलंत चिंता का विषय बना हुआ है. जबकि अधिकांश दलित परिवारों को ऐतिहासिक रूप से भूमि स्वामित्व और वित्तीय संसाधनों तक पहुंच से वंचित कर दिया गया है, बाली ने बताया कि इसने किसी को भी कनाडा या अन्य विदेशी चरागाहों की आकांक्षा करने से नहीं रोका है. “यहाँ सीखने का कोई मूल्य नहीं है, कोई नौकरियाँ नहीं हैं. इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन सी जाति है,” उन्होंने कहा.

लेकिन इस आधार पर भी यह व्यापक रूप से समझा जाता है कि जाति वीज़ा स्टांप में एक भूमिका निभाती है. “कनाडा ज्यादातर जाट लड़कों के लिए है, हाशिए पर रहने वाली जातियों के लोग ऑस्ट्रेलिया, पूर्वी यूरोप या खाड़ी देशों में जाते हैं,” 18 वर्षीय जसप्रीत ने कहा, जो एक प्रमुख समुदाय का सदस्य नहीं है.

जसप्रीत रोजाना आईईएलटीएस कक्षाओं में भाग लेती है और कहती है कि वह और उसकी सभी सहेलियाँ स्कूल की पढ़ाई पूरी करने के बाद विदेश जाने की उम्मीद करती हैं, भले ही उनमें से कोई भी आर्थिक रूप से समृद्ध न हो. उनके अनुसार, विदेश में कहीं भी बसने का भुगतान लंबी अवधि में इसके लायक है. जसप्रीत कनाडा के प्रति आसक्त नहीं हैं, उनका मानना है कि वहां के प्रमुख जट्ट सिख हैं जो फिल्मों और संगीत में इसे पसंद करते हैं.


यह भी पढ़ें: बेरोज़गारी बनी पलायन का कारण – पंजाब के बाद अब हरियाणा के युवक भाग रहे हैं अमेरिका


‘डिप्लोमा’ डिग्री 

विदेश जाने के लिए उठाई गई हर कदम फेयरीटेल जैसी नहीं होती है. यह सफलता की गारंटी नहीं देता है, और परिवार अक्सर इसमें शामिल लागतों का भुगतान करने के लिए संघर्ष करते रहते हैं, जिसके परिणामस्वरूप नाराजगी और मोहभंग होता है.

53 वर्षीय स्क्रैप डीलर विनोद कुमार, जो यूपी के कासगंज से पंजाब चले गए, यह सब अच्छी तरह से जानते हैं. उनके पांच बच्चों में सबसे बड़े बेटे को कनाडा जाने की उम्मीद थी, लेकिन कम IELTS स्कोर के कारण ये आकांक्षाएं धराशायी हो गईं. कुमार ने कहा, “आखिरकार, उसने यूके का विकल्प चुना और +2 के दो साल बाद, जब वह 20 साल का था, इसे भी छोड़ दिया. लेकिन मुझे नहीं पता कि वह क्या कर रहा है, वह केवल अपनी मां और भाई-बहनों को फोन करता है और वह बेहद उदास लगता है.”

अपने बेटे के विदेश में रहने की “शुरुआती समय” को बनाए रखने के लिए, कुमार ने यूपी में परिवार के पास जो भी ज़मीन थी, उसे बेच दिया – यह कदम उन परिवारों के बीच काफी आम है जिनके पास कुछ अन्य वित्तीय स्थिति नहीं है.

उन्होंने कहा, “भले ही यह सिर्फ 1 किला ही क्यों न हो, इससे डिप्लोमा के पहले वर्ष के लिए 8-10 लाख रुपये की मदद मिलती है. फिर, बच्चा नौकरी ढूंढने की कोशिश कर सकता है, या वहां (खुद को) बनाए रखने के लिए कुछ न कुछ कर सकता है.” कुमार को राहत है कि उनके अन्य बच्चों ने विदेश न जाने का संकल्प लिया है.

पत्रकार सुखमीत भसीन ने कहा कि “लोग कर्ज लेंगे, भीख मांगेंगे या उधार लेकर, लेकिन कनाडा में किसी डिप्लोमा कार्यक्रम में जाऐंगे, भले ही उसका कोई मान्यता या मूल्य नहीं है.”

वित्तीय दबाव और ज़मीन बेचने या ऋण लेने के जोखिमों के अलावा, संदिग्ध डिग्री कार्यक्रम और अनियमित कार्यस्थल निर्वासन का कारण बन सकते हैं. पिछले महीने, कनाडाई सरकार ने देश के आवास और मुद्रास्फीति संकट के कारण विदेशी छात्रों के लिए न्यूनतम जीवन-यापन आवश्यकताओं को दोगुना कर दिया. हरदीप निज्जर की हत्या के बाद से भारत के साथ तनावपूर्ण भू-राजनीतिक संबंधों से भी कोई मदद नहीं मिली है. रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि पिछले जुलाई से भारतीयों के लिए अध्ययन परमिट में 40 प्रतिशत की गिरावट आई है.

ये झटके 2022 और 2023 में भारतीय छात्रों, विशेषकर पंजाबियों के लिए दो बड़े झटकों के बाद आए हैं. सबसे पहले, तीन क्यूबेक संस्थानों को दिवालिया घोषित किए जाने और बंद किए जाने के बाद लगभग 2,000 छात्र अधर में रह गए थे. फिर एक कॉलेज ऑफर-लेटर घोटाला सामने आया जिसने 700 से अधिक छात्रों को प्रभावित किया और लगभग उनके निर्वासन का कारण बना.

संगरूर की तेईस वर्षीय सिमरन बाथ प्रभावित लोगों में से एक थी. उनके परिवार ने मॉन्ट्रियल, क्यूबेक में उनकी व्यावसायिक डिग्री के लिए अपनी 5 एकड़ जमीन ‘सुरक्षा’ के रूप में बेच दी. जब कॉलेज बंद हो गया, तो सिमरन को दर-दर भटकना पड़ा, यहां तक कि उन्होंने पंजाब में एमबीए करने के लिए खुद को इस्तीफा दे दिया. अंततः, कनाडाई अधिकारियों ने छात्रों के निर्वासन को रोकने के लिए हस्तक्षेप किया.

वर्षों से इमीग्रेशन के मुद्दे को कवर करने वाले पत्रकार सुखमीत भसीन ने “बेकार डिप्लोमा कार्यक्रमों में जाने” वाले परिवारों के संकट के खिलाफ आवाज उठाई. ये डिप्लोमा पाठ्यक्रम आम तौर पर बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन या कंप्यूटर एनालिटिक्स जैसे विशिष्ट विषय के लिए कौशल-उन्मुख शिक्षा प्रदान करते हैं, लेकिन पूर्ण डिग्री प्रोग्राम की तुलना में छोटे और शैक्षणिक रूप से कम कठोर होते हैं. ‘सर्टिफिकेट पाठ्यक्रमों’ के समान, डिप्लोमा कार्यक्रमों में प्रवेश अपेक्षाकृत आसान होता है लेकिन नौकरी बाजार में आमतौर पर इसका मूल्य कम होता है.

भसीन ने कहा, “लोग कर्ज लेंगे, भीख मांगेंगे या उधार लेंगे- और कनाडा में किसी डिप्लोमा कार्यक्रम में भाग लेंगे, जिसकी कोई मान्यता या मूल्य नहीं है.”

हालांकि, सभी बुरे सपनों की कहानियों के बावजूद, विदेश जाने के सपने जाति और वर्ग से परे बने रहते हैं. 50 वर्षीय जलेबी-विक्रेता वेद पाल, जिनका ठेला नवांशहर शहर के प्रसिद्ध आईईएलटीएस केंद्रों में से एक के बाहर लगता है, ने कहा कि करीब 30 लाख का ऋण लेना उनके लिए “काम” कर गया. उनका 24 वर्षीय बेटा अब “तकनीकी डिग्री” प्राप्त करने के बाद कनाडा में बस गया है. पाल के लिए, उनके बेटे की विदेश यात्रा दशकों पहले देहरादून से पंजाब तक उनके स्वयं के प्रवास से एक “अपग्रेड” का प्रतिनिधित्व करती है.

खाली घर, सुनसान शहर

ऐसा लगता है कि हर दूसरे दरवाजे पर ताला लगा हुआ है और दोआबा क्षेत्र के कई गांवों के साथ-साथ खटकर कलां, तल्हान और कोटली थान सिंह जैसी जगहों पर युवा चेहरे लगभग गायब हो गए हैं.

भगत सिंह के पैतृक गांव खटकर कलां में पर्यटक स्थल और “मॉडल विलेज” का दर्जा होने के बावजूद सूरज ढलते ही यहां एक बेचैन कर देने वाली शांति छा जाती है.

A locked home at village Khatkar Kalan near Nawanshahr | Photo: Sabah Gurmat

दिसंबर के अंतिम सप्ताह में शाम 6 बजे, पार्क और पुस्तकालय के पास अलाव के पास बैठे मध्यम आयु वर्ग के पुरुषों के एक समूह को छोड़कर, गांव सुनसान लग रहा था. 45 वर्षीय अमरीक सिंह ने अपनी हथेलियों के बीच मूंगफली दबाई और फिर साफ-सुथरे पक्के मकानों की कतार की ओर इशारा किया. उन्होंने कहा, “यह तो नॉर्वे चला गया है. वे दोनों कनाडा में हैं. यह परिवार अभी-अभी अमेरिका के लिए रवाना हुआ है. घर अब अंधेरे और खाली हैं, केवल देखभाल करने वाला ही कभी-कभार घर आता है.”

पूर्व सरपंच, सुखविंदर सिंह ने दिप्रिंट को बताया कि स्थानीय आबादी 1,200-1,300 के करीब होगी, और उस आंकड़े का “कम से कम दोगुना, अगर तिगुना नहीं” विदेश चला गया है.

तल्हान और भादस जैसे गांवों में भी यही कहानी है. युवा पुरुष और महिलाएं बहुत कम हैं और कई घरों में ताले लगे हैं या देखभाल करने वालों के अधीन हैं. एक और पलायन की याद दिलाने वाले विभाजन-युग के कुछ टूटे हुए घरों के साथ, वे रात होने के बाद लगभग भूतिया गांवों जैसा महसूस करते हैं.

खटकर कलां के एक अन्य अधेड़ उम्र के निवासी जय सिंह ने बताया कि कैसे आम आदमी पार्टी के भगवंत मान ने 2022 में मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के लिए इस गांव को चुना. उन्होंने कहा, “अगले साल भी, मान ने भगत सिंह की जयंती पर ग्रामीणों को संबोधित किया और वादा किया कि उनकी सरकार पंजाब में ‘रिवर्स माइग्रेशन’ शुरू करेगी.”

फिर भी, गांव में बंद दरवाजों और परिसरों की संख्या एक अलग कहानी बताती है. “जो चला गया, चला गया, कभी वापस नहीं आया. आप इसे कैसे उलट सकते हैं?” जयसिंह ने सवाल किया, “क्यों लौटें? पीछे मुड़कर नहीं देखना है. यहां किसी के लिए क्या है?”

(संपादन: अलमिना खातून)
(इस ग्राउंड रिपोर्ट को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: मिलिए भारत के ‘डंकी इन्फ्लुएंसर्स’ से, वह आपको पनामा जंगल, मेक्सिको का बॉर्डर पार करना सिखाएंगे


 

share & View comments