scorecardresearch
Tuesday, 28 May, 2024
होमएजुकेशनपुलिस बनी थेरेपिस्ट, टेस्ट्स पर लगा प्रतिबंध- कोटा में छात्रों की आत्महत्या को रोकने में हर कोई जुटा

पुलिस बनी थेरेपिस्ट, टेस्ट्स पर लगा प्रतिबंध- कोटा में छात्रों की आत्महत्या को रोकने में हर कोई जुटा

कोटा जिले के जवाहर नगर और कुनाडी पुलिस स्टेशनों में आत्महत्या से मौत के आधिकारिक रिकॉर्ड में नंबर 22 और नंबर 23 दर्ज कर लिए गए.

Text Size:

कोटा: राजस्थान के कोचिंग हब कोटा में 27 अगस्त को कुछ घंटों के लिए, 25,000 से अधिक छात्रों ने अपनी किताबों को एक तरफ रख दिया, अपने लैपटॉप बंद कर दिए. उन्हें कहा गया कि वो भूल जाएं कि उन्हें डॉक्टर और इंजीनियर बनना है और वो ये भी भूल जाएं कि उन्हें एनईईटी और जेईई जैसी प्रतियोगिता परीक्षाओं में टॉप करना है और वे ये भी भूल जाएं कि उनके माता पिता ने उनके लिए लोन लिया है.

ये सभी छात्र एक लाइव रॉक फेस्टिवल में भाग लेने के लिए एक बहुत बड़े मैदान में एकत्रित हुए. पूरा हॉस्टल खाली था और मुंबई से आए एक रॉक बैंड की धुन जिसपर कैलाश खेर का गाना अल्लाह के बंदे हंस दे का आनंद ले रहा था. जिसमें वो सभी छात्र नाच रहे थे.गा रहे थे.मस्ती कर रहे थे और अपने अपने स्मार्ट फोन को लहरा रहे थे. इसी हब के दो अलग-अलग हॉस्टल के कमरों में सिर्फ 2 ही लोग रुके हुए थे. एक आदर्श राज (18) और दूसरा अविष्कार कासले (17). दोनों अपने- अपने कमरे में ही रुके रहे.

इसी दिन दोपहर 3:15 बजे, कासले ने एक कोचिंग संस्थान की इमारत से छलांग लगा दी, जिसमें वह पिछले तीन वर्षों से पढ़ाई कर रहा था. इसी घटना के चार घंटे बाद, राज ने भी अपने किराए के फ्लैट की खिड़की से फांसी लगा ली. दोनों छात्र, वयस्कता की दहलीज पर, कोटा जिले के जवाहर नगर और कुनाडी पुलिस स्टेशनों में आत्महत्या से मौत के आधिकारिक रिकॉर्ड में नंबर 22 और नंबर 23 दर्ज कर लिए गए.

चिंतित शिक्षक बुदबुदा रहे हैं अभी तो साल खत्म भी नहीं हुआ है.. आठ महीने और तेईस छात्र. भारत के कोचिंग हब के रूप में कोटा के उभरने के बाद से तीन दशकों में यह आत्महत्या से होने वाली मौतों की सबसे अधिक संख्या है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

कोटा मेडिकल कॉलेज के मनोचिकित्सा विभाग के प्रोफेसर डॉ विनोद दड़िया ने कहा, “ऐसा लगता है जैसे बच्चे शहर में आ रहे हैं और मर रहे हैं.”

लेकिन अब, कोटा के अनुमानित 10,000 करोड़ रुपये के कोचिंग उद्योग की पूरी मशीनरी – राजनेताओं, पुलिस, जिला प्रशासन, शिक्षकों, संस्थान निदेशकों, छात्रावास मालिकों, मकान मालिकों, डॉक्टरों, परामर्शदाताओं और मनोचिकित्सकों तक ने अपना सारा ध्यान – छात्रों और उनके मानसिक स्वास्थ्य पर लगा दिया है. कोटा अब दो चरम सीमाओं के बीच झूल रहा है – एक ट्रेडमील और एक अत्यधिक देखभाल करने वाली नैनी।

छात्र, जिन्हें कभी कहा जाता था कि उनका एकमात्र काम पढ़ाई करना और प्रतियोगी परीक्षाओं में टॉप करना है, अचानक उनके बारे में सोचा जाने लगा है और उनकी हर एक हरकत पर ध्यान दिया जा रहा है जिसकी वजह से वो कई उपायों और सवालों से घिर गए है.

“तुम मुस्कुरा क्यों नहीं रहे हो?” “क्या तुम खुश हो?” “क्या आपको पर्याप्त आराम मिल रहा है?” “क्या आप अच्छा खा रहे हैं?”

शीर्ष कोचिंग कक्षाओं में से एक, एलन के प्रबंध निदेशक के साथ, बुनकर ने कोटा हॉस्टल एसोसिएशन द्वारा आयोजित संगीत समारोह में भाग लेने के बाद, कोटा के जिला मजिस्ट्रेट ओम प्रकाश बुनकर ने कहा, “पहले, हम उन लोगों की मदद कर रहे थे जो मदद के लिए आवाज दे रहे थे. अब, हमें उन्हें ढूंढना होगा और उनकी मदद करनी होगी. ”

कोटा में सनडे इज फ़नडे कांसेप्ट तेजी से फैलने लगा है. परामर्श सत्र, योग कक्षाएं और संगीत समारोह स्टूडेंट के टाइम टेबल का हिस्सा बन गई हैं. दो महीने के लिए टेस्ट रद्द कर दिए गए हैं. कोटा के अन्य कोचिंग हॉटस्पॉट्स में इंदिरा नगर, राजीव गांधी नगर, जवाहर नगर और लैंडमार्क सिटी में 4,000 से अधिक हॉस्टल और 40,000 पेइंग गेस्ट आवास की खिड़कियों पर जाली, ग्रिल और बार लगाए गए हैं. छत के पंखों में अब ‘आत्महत्या-विरोधी’ तंत्र के रूप में कार्य करने के लिए एक स्प्रिंग डिवाइस लगा दी गई हैं. दिवारें पॉजिटिव और इन्फ्लूएंशिंग लाइन्स से भर दी गई हैं.. पॉजिटिव मैसेज वाले पोस्टर नोटिस बोर्डों पर कक्षा के शेड्यूल के साथ जगह की तलाश में हैं. यही नहीं आत्महत्या एक बार फिर चुनावी मुद्दा बन गया है.

इस बीच, उत्तर प्रदेश, बिहार, राजस्थान, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और भारत के अन्य हिस्सों से माताएं और दादी-नानी अपने बच्चों पर नजर रखने के लिए अपना घर छोड़कर कोटा में रहने लगी हैं. बुनकर के नेतृत्व में प्रशासन आत्महत्या के प्रति संवेदनशील छात्रों की पहचान करने के लिए एक ऑनलाइन पोर्टल पर काम कर रहा है. नियमित आधार पर मनोवैज्ञानिक परीक्षण आयोजित करने की आवश्यकता पर जोर देते हुए बुनकर कहते हैं, ” साइकेट्रिक से जुड़े कुछ सवालों के साथ एक लंबी सूची तैयार की जा रही है.”


यह भी पढ़ेंः ‘शिक्षित लोगों को ही वोट दें’, कैसे एक वीडियो ने Unacademy के शिक्षक करण सांगवान की नौकरी छीन ली


हेल्पलाइन पर फोन की घंटी लगातार बजती रहती है

24 जून को, राजस्थान के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) उमेश मिश्रा ने एक छात्र प्रकोष्ठ स्थापित करने के लिए 11 अधिकारियों – छह महिलाओं और पांच पुरुषों – की एक टीम बनाई. अधिकांश की उम्र 40 के आसपास है और सबसे पहले उन्होंने एक हेल्पलाइन शुरू की.

हेल्पलाइन के लाइव होने के कुछ ही घंटों के भीतर, एसओएस कॉल आने लगीं. एक कॉलर ने बताया, “हमारी मेस का खाना बहुत ही खराब है, स्वाद बिलकुल भी नहीं है.” एक अन्य छात्र ने कहा, “मेरा हॉस्टल सुरक्षा शुल्क नहीं लौटा रहा है, मैं अपने घर वापस जाना चाहता हूं.” एक लड़की छात्रा “अश्लील टिप्पणियों” से परेशान थी जो किसी ने उसके सोशल मीडिया प्रोफ़ाइल पर पोस्ट की थी. एक अन्य अभ्यर्थी किसी से लंबी बातचीत करना चाहता था, इसलिए टीम का नेतृत्व कर रहे एएसपी चंद्रशील ठाकुर ने उससे घंटों बात की. ठाकुर ने कहा, “उसने सिर्फ इतना कहा कि उसका दिल पढ़ाई में नहीं लगता.”

हेल्पलाइन नंबर छात्रों के लिए सिंगल-विंडो विकल्प बन गया है. हेल्पलाइन पर अब तक 300 से ज्यादा एसओएस कॉल आ चुकी हैं, लेकिन पांच कॉल ने पूरे पुलिस स्टूडेंट सेल को हिलाकर रख दिया.

ठाकुर ने कहा, “इन्होंने आत्महत्या का प्रयास किया था. कुछ ने अपने कमरे का दरवाज़ा बंद कर लिया था. दूसरा नदी पर चला गया था. एक तो गायब ही हो गया था. हम उन्हें रोकने के लिए एक काउंसलर के साथ मिलकर काम कर रहे थे.”

कोटा के तलवंडी इलाके में राधा कृष्ण मंदिर की दीवारों पर लिखी छात्रों की इच्छाएं | फोटो: ज्योति यादव/दिप्रिंट
नई इच्छाओं के लिए जगह बनाने के लिए मंदिर की दीवारों को हर तीन महीने में नए सिरे से रंगा जाता है फोटो: ज्योति यादव/दिप्रिंट

छत के पंखों की जाली, ग्रिल, सुरक्षा जाल और स्प्रिंग उपकरण काम नहीं कर रहे हैं. छात्र बस हर दिन नए-नए तरीके खोज रहे हैं, लेकिन हेल्पलाइन एक सफल प्रयास साबित हो रहा है.

छात्र सेल के गठन के बाद से हर दिन, एएसआई संजू शर्मा और हेड कांस्टेबल मीना अपनी नीली पैंट और आसमानी शर्ट पहनती हैं – जो टीम के लिए एक नया ड्रेस कोड है – और हॉस्टल, पीजी और कोचिंग संस्थानों की ओर जाते हैं. सादे कपड़ों में पुलिस अब थेरेपिस्ट की भूमिका निभा रहे हैं.

वे कमजोर छात्रों की पहचान करने के मिशन पर हैं.

शर्मा ने जवाहर नगर में एलन इंस्टीट्यूट के गेट से गुजर रहे छात्रों के एक समूह से कहा, “बेटा, कृपया इस हेल्पलाइन नंबर की फोटो क्लिक करें और इसे अपने व्हाट्सएप ग्रुप में पोस्ट करें,” यह समूह दोपहर 2 से 8 बजे के बैच में लगभग 8,000 छात्रों का हिस्सा था. कुछ छात्र रुके, एक तस्वीर ली और अभ्यर्थियों की भीड़ में गायब हो गए.

हेल्पलाइन नंबर को लोकप्रिय बनाने के लिए कोचिंग क्षेत्रों का दौरा कर रहे एएसआई संजू मीना | फोटो: ज्योति यादव/दिप्रिंट

मीना ने कहा, “देखिए, उनके पास इतना भी समय नहीं है कि वे केवल उनके लिए शुरू की गई हेल्पलाइन नंबर को देख सकें.”

इसके बाद टीम इंद्रा नगर चली गई. इस इलाके में भी हजारों छात्रों का हॉस्टल से कोचिंग संस्थानों और वापसी में आना-जाना लगा रहता है. वे लहरों में आते-जाते हैं, कुछ सूरज की चमक से बचने के लिए छाता लिए रहते हैं. नवनिर्मित इमारतें किराये के विज्ञापनों (‘होम अवे फ्रॉम होम’), घर का बना खाना (‘मां के हाथ जैसा खाना’) का वादा करने वाले भोजनालयों (‘मां के हाथ जैसा खाना’), चाय की दुकानों और स्टेशनरी की दुकानों से सजी हुई हैं.

लगभग दोपहर हो गई है. मीना और शर्मा लड़कों के छात्रावास, मातृछाया में रुकते हैं. पहले तो मैनेजर ने उनसे बात करने से इनकार कर दिया. उसे विश्वास नहीं होता कि वो पुलिस हैं.

एएसआई शर्मा बताती हैं, ”हमने खाकी पोशाक नहीं पहनी है क्योंकि हम छात्रों को डराना नहीं चाहते हैं.” वे जोर-जोर से बहस करने लगते हैं जब तक कि शर्मा अपना पुलिस बैज नहीं दिखातीं.

वह कहती हैं, “छात्र अपनी भावनाएं हमारे साथ साझा नहीं करेंगे.”

अंत में, दोनों महिला पुलिसकर्मियों को मेस में जाने की अनुमति दी गई. लगभग तुरंत ही, जिन बच्चों के पास शिकायतें थी वो उन पंजाब, उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश के छात्रों से घिर गईं.

छात्रों का एक समूह लगभग एक स्वर में कहता है, “पानी गंदगी से भरा हुआ है और वे हमारी शिकायतें नहीं सुनते हैं.” शर्मा ने उनकी शिकायतें लिखीं और इस बारे में कुछ करने का वादा किया.

जैसे ही दोनों महिलाएं सीढ़ियों की ओर चलती हैं, उन्हें एक शांत, अस्थायी “मैम” सुनाई देती है. वे पीछे मुड़ती हैं और एक घबराए हुए छात्र को देखती हैं जो उनसे निजी तौर पर फोन पर बात करना चाहता है. नंबरों का आदान-प्रदान होता है और दोनों अधिकारी चली जाती हैं.

उन्होंने 150 लड़कों में से एक कमज़ोर बच्चे की पहचान की.

“जब 2022 में छात्र वापस आये, तो आत्महत्याएं भी लौट आईं. लेकिन इस बार पैटर्न बदल गया है. पहले, मौतें सर्दियों के महीनों में होती थीं [जब संस्थानों ने एनईईटी और जेईई परीक्षाओं के लिए पाठ्यक्रम पूरा कर लिया था]. अब, मौतें जून, जुलाई और अगस्त में हो रही हैं,” – डॉ दड़िया

मीना बिहार के गोपालगंज की उस लड़की को कभी नहीं भूल पाएंगी, जिसने लगभग 15 दिन पहले हेल्पलाइन नंबर पर कॉल की थी.

मीना ने कहा, “उसकी मतिभ्रमित थी. उसने कहा कि कोई उसके हाथ-पैर पकड़ रहा है और उसे सोने नहीं दे रहा है. उसके हॉस्टल प्रबंधक ने कहा कि उसे बुरे सपने आ रहे थे.”

मीना उसके हॉस्टल गई और लड़की को अपने साथ पुलिस स्टेशन ले आई. मीना ने कहा “वह घर जाना चाहती थी.” लेकिन लड़की का परिवार नहीं चाहता था कि वह वापस लौटे – क्योंकि उसका लौटना, इसका मतलब विफलता होगी.

लड़की के पिता से बात करने वाले एएसपी ठाकुर ने कहा, “उसके पिता ने कहा कि कोटा जाना उसकी अपनी पसंद थी, और अब जब उन्होंने फीस पर लाखों रुपये खर्च कर दिए हैं, तो उसे कोशिश करनी चाहिए.” पुलिस द्वारा उसके परिवार को उसे वापस लौटने के लिए मनाने से पहले मीना ने पूरी रात लड़की की देखभाल में बिताई.

हेल्पलाइन नंबर को लोकप्रिय बनाने के लिए कोचिंग क्षेत्रों का दौरा कर रहे एएसआई संजू मीना | फोटो: ज्योति यादव/दिप्रिंट

कुछ दिन पहले, पुलिस ने खुद को एक छात्रा जो अंग्रेजी साहित्य का अध्ययन करना चाहती थी और उसके पिता के बीच मध्यस्थ की भूमिका निभाते हुए पाया, जिन्होंने उस पर डॉक्टर बनने पर जोर दिया था. ठाकुर ने कहा, “उसके पिता सेना में हैं और हमें उनकी काउंसलिंग करनी पड़ी क्योंकि उनकी बेटी गंभीर दबाव में थी.”

परामर्शदाताओं को कौन परामर्श देगा?

कोटा में पुलिस, चिकित्सा समुदाय और जिला प्रशासन के शीर्ष अधिकारी जानते हैं कि संकट कानून और व्यवस्था से परे है. वे जो पेशकश कर रहे हैं वह गहरे घाव के लिए बैंड-एड की तरह है.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “11 पुलिस अधिकारियों की एक टीम 2 लाख छात्रों से निपटने के लिए पर्याप्त नहीं है.” और कोटा में पर्याप्त क्लीनिकल मनोवैज्ञानिक और मनोचिकित्सक नहीं हैं.

डॉ. दड़िया ने कहा, “पूरे जिले में लगभग 20 मनोचिकित्सक और पांच क्लीनिकल साइक्रेट्रिस्ट हैं.”

प्रशासन के हस्तक्षेप के बाद कोचिंग संस्थानों ने काउंसलर नियुक्त किए हैं. कागज पर, प्रत्येक केंद्र में कम से कम एक छात्र परामर्शदाता होता है. लेकिन यह निर्धारित करने के लिए कोई जांच नहीं की जाती है कि जिन लोगों को काम पर रखा गया है उनके पास छात्रों को परामर्श देने के लिए प्रासंगिक प्रमाण और योग्यता है या नहीं.

विशेषज्ञ टीम का हिस्सा रहे डॉ. दड़िया ने कहा, इनमें से अधिकांश परामर्शदाताओं के पास केवल मनोविज्ञान में मास्टर डिग्री है. सही जानकारी और अनुभव नहीं होने से, वे छात्रों को और अधिक नुकसान पहुंचा सकते हैं.

एलन कैरियर इंस्टीट्यूट के कोचिंग सेंटर के अंदर, जहां छात्रों के बीच तनाव के कारणों का पता लगाने के लिए विशेषज्ञों की एक टीम ने दौरा किया था | फोटो: ज्योति यादव/दिप्रिंट

डॉ. दड़िया के अनुसार, आत्महत्या से मरने वाले अधिकांश छात्र 16-18 वर्ष के बीच के एनईईटी अभ्यर्थी थे. पिछले साल भी ऐसा ही चलन था, जब जिले में 15 आत्महत्याओं से मौतें हुई थीं.

राजस्थान के गंगानगर की मोहिनी, कोटा के शीर्ष कोचिंग संस्थानों में से एक में काउंसलर के साथ बातचीत से डर गईं.

उसने कहा, “मेरा बेटा अपने एक सहपाठी की आत्महत्या से मृत्यु के बाद उदास महसूस कर रहा था. वह उनके पीछे वाली बेंच पर बैठता था. और फिर वह परीक्षा में अंकों को लेकर भी चिंतित था,” मोहिनी अपने बेटे की मानसिक स्थिति को लेकर इतनी चिंतित थी कि उसने अपना बैग पैक किया और उसके साथ रहने के लिए कोटा चली आईं.

मोहिनी ने याद किया, “परामर्शदाता ने मेरे बेटे से पहला सवाल यह किया, ‘क्या तुम आत्महत्या करने की योजना बना रहे हो?’ दूसरा सवाल था: ‘क्या आपने सोचा है कि आप खुद को मारने की योजना क्यों बना रहे हैं?”

मां और बेटा फिर कभी काउंसलर के पास नहीं गए, हालांकि वह अभी भी उसी कोचिंग सेंटर में पढ़ रहा है.

अभ्यर्थी सीमा और कृष्णा के साथ-साथ पुलिस को भी यह एहसास हो गया है कि केवल छात्रों को ही परामर्श की आवश्यकता नहीं है; माता-पिता को भी काउंसिलिंग की जरूरत है.

हेड कांस्टेबल मीना उन माताओं के साथ एक संक्षिप्त बैठक कर रही हैं जो अपने बेटों के साथ रहने के लिए कोटा आई हैं। यह जवाहर नगर, कोटा में आशीर्वाद बॉयज़ हॉस्टल है फोटो: ज्योति यादव/दिप्रिंट

हर बार जब कोचिंग सेंटर समय-समय पर जब पेरिओडिक टेस्ट लेते हैं, तो अंक दो फोन नंबरों पर भेजे जाते हैं, एक विद्यार्थियों के फोन पर और दूसरा अभिभावकों को.

बेनीवाल ने कहा, ”यह हर तीसरे हफ्ते चर्चा का केंद्र बिंदु बन जाता है.” “माता-पिता के साथ आने वाली फ़ोन कॉलें अपराध बोध सत्र में बदल जाती हैं.” अक्सर, परिवारों ने अपने बच्चे के कोटा में पढ़ाने के लिए ऋण लिया होता है, या फिर अपना सोना या जमीन बेची होती है, या अपनी बचत का पैसा बच्चों की फीस में लगाया होता है. अकेले ट्यूशन फीस 1.2-1.5 लाख रुपये सालाना है, जबकि हॉस्टल और पीजी का किराया 12,000-20,000 रुपये प्रति माह हो सकता है.

एक छात्र ने कहा, “छात्र जानते हैं कि उनके माता-पिता भुगतान करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं. और जब मंथली एग्जाम के दौरान उनके अंक कम हो जाते हैं, तो वे और अधिक तनावग्रस्त हो जाते हैं. वे अपने साथियों से लगातार कहते रहते हैं कि उनके लिए यह करो या मरो का समय है. ”

डॉ. दड़िया ने कहा कि कोटा प्रशासन ने 2014 में आत्महत्याओं पर डेटा एकत्र करना शुरू किया जब आठ छात्रों की कथित तौर पर आत्महत्या से मौत हो गई थी. अगले वर्ष, यह संख्या बढ़कर 17 हो गई. 2016 में, पुलिस आत्महत्या के 16 मामलों की जांच कर रही थी. अधिकारियों ने महसूस किया कि छात्र अधिकांश आत्म हत्या के प्रयास रविवार को ही कर रहे थे जब कोचिंग संस्थानों में टेस्ट होते थे. इसलिए उन्होंने सोमवार के लिए परीक्षाएं पुनर्निर्धारित कीं और रविवार को फन डे घोषित किया. माता-पिता, मीडिया और सरकार की निगरानी में, 2017 में संख्या घटकर सात हो गई. हालांकि, 2018 में, कोटा में आत्महत्या से मौत के 20 मामले दर्ज किए गए. फिर 2020 और 2021 में कोविड-के कारण लगे लॉकडाउन के दौरान शहर शांत रहा था.

डॉ दड़िया ने कहा, “जब 2022 में छात्र वापस आये, तो आत्महत्याएं भी लौट आईं. लेकिन इस बार पैटर्न बदल गया है. पहले, मौतें सर्दियों के महीनों में होती थीं [जब संस्थानों ने एनईईटी और जेईई परीक्षाओं के लिए पाठ्यक्रम पूरा कर लिया था]. अब, मौतें जून, जुलाई और अगस्त में हो रही हैं. ”

माता-पिता के लिए भी घर

परिवार के सदस्यों ने अपने बच्चों पर नजर रखने के लिए कोटा में रहना शुरू कर दिया है. मां और दादी पौष्टिक नाश्ते, मसालों और बर्तनों से भरे सूटकेस के साथ आती हैं. वे फ्लैट किराए पर लेते हैं और अपने बच्चों के साथ रहते हैं. यह ज्यादातर मध्यम वर्ग के माता-पिता हैं जो ऐसा करने में सक्षम हैं.

सबसे पहले, ये वो मांएं आती थीं जो ऑफिस में काम पर नहीं जाती थीं, फिर रिटायर्ड दादा-दादी रहने के लिए आने लगे. एक पुलिस अधिकारी ने कहा, और अब, कामकाजी माताएं अपने बच्चों के साथ रहने के लिए छुट्टियां ले रही हैं. कोटा में 1बीएचके फ्लैटों की मांग इस हद तक बढ़ रही है कि छोटे और स्टूडियो अपार्टमेंट के साथ नई इमारतों का निर्माण किया जा रहा है.

जवाहर नगर क्षेत्र में एक गर्ल्स हॉस्टल। “घर से दूर एक घर,” यह कहता है। राज्य सरकार द्वारा गठित एक विशेषज्ञ समिति ने पाया है कि घर की याद और अनुकूलनशीलता के मुद्दों के कारण छात्रों में तनाव पैदा हो गया है फोटो: ज्योति यादव/दिप्रिंट

अपने बच्चों की देखभाल वो वैसे अच्छी तरह से करती हैं. – उन्हें घर का बना खाना खिलाना, ध्यान भटकाने वाली चीजों को दूर करना और उन्हें पढ़ाई के लिए मजबूर करना. वे अपने बच्चों पर बाज़ की तरह नज़र रखते हैं और युवा प्रेम या घनिष्ठ मित्रता के किसी भी संकेत को तुरंत नकार देते हैं. एक पुलिस अधिकारी ने आगाह किया कि इस दृष्टिकोण का भी उल्टा असर पड़ सकता है, जिससे छात्रों पर और अधिक दबाव बढ़ सकता है.

बुनकर ने एक घटना को याद करते हुए कहा कि एक मां अपने बेटे को एक लड़की के साथ देखकर इतनी परेशान हो गई थी कि वह उसके हॉस्टल में चली गई और सार्वजनिक रूप से उसे शर्मिंदा किया. बुनकर ने कहा, “लड़की ने बाद में सुसाइड कर लिया. दूसरी बार, एक पिता और पुत्र में तीखी बहस हो गई. मां ने सुझाव दिया कि वे लड़के को कुछ समय के लिए अकेला छोड़ दें, और जब वे लौटे, तो वह मर चुका था. ”

कोचिंग संस्थानों में छात्रों के बीच एक पेकिंग ऑर्डर है, प्रदर्शन और अंकों के आधार पर एक सख्त पदानुक्रम है जो दो साल के लिए उनके जीवन को निर्धारित करता है.

11वीं कक्षा के विद्यार्थियों को सामूहिक रूप से नरचर बैच कहा जाता है क्योंकि वे शुरुआत करने जा रहे होते हैं. जब वे 12वीं कक्षा में जाते हैं, तो उन्हें उत्साही बैच कहा जाता है. फिर लीडर (छात्र जिन्हें बेसिक्स से शुरुआत करने की आवश्यकता है) और अचीवर बैच (जिन्होंने कम से कम एक बार पाठ्यक्रम को कवर किया है) हैं. अल्फा अचीवर्स को केवल भौतिकी और रसायन विज्ञान पढ़ाया जाता है.

पिरामिड के शीर्ष पर स्टार बैच या एसआरजी बैच है – उन छात्रों के लिए जिन्होंने लगातार दो मंथली टेस्ट में 720 में से 680 से अधिक अंक प्राप्त किए हैं. उन्हें सबसे प्रतिभाशाली और सर्वश्रेष्ठ कहा जाता है, जिनके एनईईटी और जेईई में टॉप करने की सबसे अधिक संभावना होती है. “स्टार बैच को छात्रवृत्ति की पेशकश की जाती है. उन्हें फैकल्टी द्वारा चुना और सराहा जाता है. बेनीवाल ने कहा, ये वही लोग हैं जिनके चेहरे बिलबोर्ड पर चमकने वाले हैं.

जनवरी 2023 में, अशोक गहलोत सरकार ने राजस्थान कोचिंग संस्थान (विनियमन) विधेयक 2023 का पहला मसौदा जारी किया – एक वादा जो कांग्रेस ने अपने 2018 के चुनाव घोषणापत्र में किया था. मसौदा विधेयक कोचिंग कक्षाओं पर नकेल कसता है जो टॉपर्स की सफलता की कहानियों का महिमामंडन करते हैं, मालिकों के लिए अपने संस्थानों को पंजीकृत करना अनिवार्य बनाता है, और प्रवेश के लिए योग्यता परीक्षा आयोजित करने का भी सुझाव देता है. हालांकि, बिल से कुछ भी ठोस नहीं निकला है.

कोटा में आठ प्रमुख कोचिंग दिग्गजों का वर्चस्व है: एलन, रेज़ोनेंस, मोशन, अनएकेडमी, फिजिक्स वाला, करियर पॉइंट, आकाश और सर्वोत्तम. जवाहर नगर, इंद्रा नगर, राजीव गांधी नगर और लैंडमार्क सिटी जैसे पड़ोस पहले से ही संस्थानों, हॉस्टल और पीजी से भरे हुए हैं. लेकिन मांग लगातार बढ़ रही है और उद्योग का विस्तार लगभग 15 किलोमीटर दूर कोरल पार्क तक हो गया है. अतिरिक्त 10,000 उम्मीदवारों को समायोजित करने के लिए एक नई कॉलोनी का निर्माण किया गया है. हॉस्टल के बगल में पहले से ही दो एलन कोचिंग सेंटर खुल चुके हैं.

कोटा हॉस्टल एसोसिएशन के एक सदस्य ने लगातार हो रहे होस्टल कोटिंग्स के विस्तार के बारे में कहा, “हर दिन, एक नया छात्र [कोटा में] आता है. आने वाले वर्षों में यह चरम पर होगा, और निर्माणाधीन एक और कॉलोनी होगी. ”

फिलहाल, सरकारी अधिकारी कोचिंग संस्थानों को सलाह दे रहे हैं कि वे बड़े होर्डिंग पर टॉपर्स की तस्वीरें न लगाएं. लेकिन कई छात्र इस सुझाव से नाखुश भी हैं.

कोटा कोचिंग हब में टॉपर्स का उनके रैंक के साथ एक विशाल, जीवंत अकादमी पोस्टर | फोटो: ज्योति यादव/दिप्रिंट

जून में मुजफ्फरपुर, बिहार से कोटा आए, मोहम्मद हम्माद ने कहा, “किसी ने उस बिलबोर्ड पर आने के लिए कड़ी मेहनत की है. यह कदम टॉपर से सुनहरा अवसर छीन लेगा. ” उन्होंने यह भी कहा कि टॉपर्स वाले होर्डिंग उनके लिए प्रेरणा और आकांक्षा का स्रोत हैं.

हम्माद उस दिन का सपना देख रहे हैं जब उसका चेहरा उस चमकदार बड़े बोर्ड पर चित्रित किया जाएगा और पूरा कोटा उसके चरणों में खड़ा होगा.

कोटा के कोचिंग क्षेत्र तलवंडी के मध्य में, राधा कृष्ण मंदिर अभ्यर्थियों और उनके माता-पिता की असुरक्षा और आशाओं का गवाह है. इसकी दीवारें हजारों-हजारों प्रार्थनाओं और शुभकामनाओं से भरी हुई हैं.

एक प्रार्थना में लिखा है, “हे भगवान, आप सब कुछ जानते हैं. कृपया मुझे कोटा में रहने और अपनी पढ़ाई पर ध्यान केंद्रित करने की शक्ति दें…” दूसरे में लिखा है, “कृपया भगवान, मुझे सही रास्ते पर ले जाएं मेरा मार्गदर्शन करें. मैं कभी भी ऐसा कुछ नहीं करूंगा जिससे मेरे माता-पिता को ठेस पहुंचे.” एक और विश यहां लिखी है जिसमें लिखा है “यह मेरा आखिरी प्रयास है, भगवान. कृपया मेरी इच्छा पूरी करें ताकि मैं अपने माता-पिता का सपना पूरा कर सकूं.” नई इच्छाओं के लिए जगह बनाने के लिए मंदिर समिति द्वारा हर तीन महीने में दीवारों पर रंग-रोगन किया जाता है.

मित्र लवनी शर्मा और सिद्धि शर्मा अपनी कक्षाओं के बाद राधा कृष्ण मंदिर में | फोटो: ज्योति यादव/दिप्रिंट

रिद्धि शर्मा और लावनी शर्मा हर दिन कक्षाओं के बाद मंदिर में रुकती हैं. वे दीवार पर लाल स्केच पेन से अपने भविष्य के नाम को वहां लिखती हैं: “डॉ रिद्धि और डॉ लावनी.”

(इस फीचर को पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ेंः ‘मैंने बच्चों को वीडियो नहीं दिखाया’- ट्रेन गोलीबारी पीड़ित की पत्नी अब आधार को ढाल के रूप में दिखाती है


 

share & View comments