scorecardresearch
Thursday, 30 May, 2024
होमफीचरज्ञानवापी में पूजा की अनुमति के बाद ‘इतिहास से भी पुराना’ शहर बनारस चुपचाप बदल रहा है

ज्ञानवापी में पूजा की अनुमति के बाद ‘इतिहास से भी पुराना’ शहर बनारस चुपचाप बदल रहा है

ज्ञानवापी मस्जिद समिति ने कहा, ‘हर रोज़ प्रताड़ित’ होते हैं. स्थानीय प्रशासन का कहना है, ‘किसी भी चीज़ के लिए एडीजी स्तर के अधिकारी की अध्यक्षता वाली उच्च स्तरीय समिति से मंजूरी लेनी होगी’.

Text Size:

वाराणसी: वाराणसी के बारे में लिखते हुए अमेरिकी लेखक मार्क ट्वेन ने एक बार कहा था, “बनारस इतिहास से भी पुराना है, परंपरा से भी पुराना है, किंवदंतियों से भी पुराना है और उन सभी को मिलाकर भी दोगुना पुराना दिखता है.” 2017 के उत्तर प्रदेश चुनाव में शहर में प्रचार करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वास्तव में ट्वेन को उद्धृत किया था.

जिला अदालत द्वारा हिंदुओं को विशाल तीन गुंबद वाली ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर पूजा करने की अनुमति देने के कुछ दिनों बाद, दुनिया के सबसे पुराने शहरों में से एक में जन-जीवन में कुछ खास बदलाव नहीं आया है. यह आज भी इतिहास से भी पुराना शहर लगता है.

अस्सी घाट पर साधु हमेशा की तरह अपना दिन गुज़ार रहे हैं. उनमें से एक, लहराती हुई सफेद दाढ़ी के साथ, अखबार पढ़ रहा है, दूसरा, जो दावा करता है कि वे इंदिरा गांधी के समय से एक ही स्थान पर बैठा है, एक परेशान पति से मिल रहा है, जो कहता है कि उसकी पत्नी पर भूत-प्रेत का साया है. पवित्र गंगा में नाव की सवारी के लिए ग्राहकों को लाने के लिए नाविक जी-जान से चिल्ला रहे हैं.

निष्क्रिय तीर्थयात्री, भीड़-भाड़ वाले पर्यटक, रिक्शा चालक, नकली ज़ारा हुडी से लेकर गेंदे के फूलों से लेकर गर्म जलेबी और ठंडी लस्सी तक सब कुछ बेचने वाले छोटे-मोटे दुकानदार — सभी जिद्दी यातायात, अनगिनत गड्ढों और लटकते तारों को पार करते हुए अपने-अपने काम पर जा रहे हैं.

ये नज़ारा किसी बाहरी व्यक्ति को यह विश्वास दिला सकता है कि मंदिर-मस्जिद विवाद पर अदालत में कड़वी लड़ाई चल रही थी, जिसका समापन अपनी रिटायरमेंट से एक दिन पहले जिला न्यायाधीश अजय कृष्ण विश्वेशा द्वारा वाराणसी प्रशासन को 355 साल पुरानी ज्ञानवापी मस्जिद के दक्षिणी तहखाने के अंदर पूजा और राग भोग की अनुमति देने के निर्देश के साथ हुआ, फैसले ने शहर के चरित्र में कोई बदलाव नहीं किया है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

लेकिन गोदौलिया चौक, जो काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद के बीच की साझा जगह की ओर जाता है, में एक साड़ी की दुकान पर काम करने वाले अब्दुल अज़हर कहते हैं, “आर्थिक मजबूरी शांति का सबूत नहीं है.”

शहर के अन्य मुसलमानों की तरह, 17-वर्षीय ने भी मुफ्ती-ए-बनारस मौलाना अब्दुल बातिन नोमानी के आह्वान पर पिछले शुक्रवार को बंद रखा था, लेकिन अंदर ही अंदर, वे जानते थे कि बंद — अदालत के आदेश और शहर के प्रशासन द्वारा इसके शीघ्र कार्यान्वयन के खिलाफ समुदाय द्वारा अपनी पीड़ा और विरोध दर्ज कराने का एक प्रयास — का बहुत कम प्रभाव पड़ेगा.

उन्होंने कहा, “हर कोई जानता है कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ेगा और हम अगले दिन हमेशा की तरह काम पर लौट आएंगे…लेकिन हम और क्या कर सकते हैं?”

अज़हर मुस्लिम बुनकरों द्वारा बुनी गई और ज्यादातर हिंदू महिलाओं द्वारा पहनी जाने वाली बनारसी रेशम साड़ियां बेचने वाली दर्जनों दुकानों में से एक पर काम करते हैं. यहां तक कि शहर में हिंदू देवताओं द्वारा पहनी जाने वाली पोशाकें भी ज्यादातर मुस्लिम बुनकरों द्वारा बनाई जाती हैं. अक्सर, रामलीला के लिए पुतले बनाने का काम वही लोग करते हैं जो मुहर्रम के लिए ताजिया बनाते हैं.

3,000 से अधिक बड़े और छोटे मंदिरों और इसके घाटों की लोकप्रिय कल्पना के साथ, जहां जीवन और मृत्यु हर रोज़ साथ-साथ चलते हैं, हिंदू धर्म के साथ शहर के गहरे संबंधों को व्यापक रूप से मान्यता प्राप्त है. धार्मिक अध्ययन की एक अमेरिकी विद्वान डायना Banaras: City of Light में लिखती हैं, “भारत में पारंपरिक रूप से हिंदू और बनारस शहर की तरह संपूर्ण हिंदू संस्कृति के प्रतीक कुछ ही शहर हैं.”

वाराणसी सैकड़ों मस्जिदों और मज़ारों का भी घर है, जिनमें से ज्ञानवापी मस्जिद सहित कई ने सदियों से नहीं तो दशकों से मंदिरों के साथ सीमाएं और स्थान साझा किए हैं.


यह भी पढ़ें: 2024 से पहले काशी तमिल संगमम 2.0 के साथ तैयार BJP, लेकिन इसे ‘चुनाव का हिस्सा’ मानने से किया इनकार


‘सब कुछ बदल गया है’

लेकिन ऐसा लगता है कि इस साझा ज़िंदगी को झटका लगा है. 88-वर्षीय एस.एम. यासीन जो अंजुमन इंतजामिया मस्जिद कमेटी के संयुक्त सचिव हैं, जो मस्जिद का प्रबंधन करती है, ने कहा, “अब सब कुछ बदल गया है.”

यासीन ने कहा, “जब 1991 में मामला शुरू हुआ, तो मैं सोमनाथ व्यास के साथ एक ही रिक्शे में अदालत जाता था…जब हरिहर पांडे की मृत्यु हो गई, तो मैं उनके घर गया, भले ही उन्होंने हम पर मामला दायर किया था. एक मान्यता थी कि अदालती मामले अलग होते हैं और रिश्ते भी अलग होते हैं जिन्हें हमने अपने ज़िंदगी में बनाया होता है.”

ऐसा माना जाता है कि सोमनाथ व्यास ने ज्ञानवापी मस्जिद के तहखाने में दक्षिणी तहखाने पर कब्ज़ा कर लिया था और 1993 तक वहां प्रार्थना करते थे, जब मुलायम सिंह के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी (सपा) सरकार ने 1992 के बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद पूरी मस्जिद को लोहे की बाड़ से बंद कर दिया था.

1991 में व्यास ने हरिहर पांडे के साथ, विवादित स्थान पर पहला अदालती मामला दायर किया था, जिसमें मस्जिद को ध्वस्त करने और ज़मीन हिंदुओं को देने की मांग की गई थी. वास्तव में अधिकांश हिंदू अभी भी दक्षिणी तहखाने को “व्यास जी का तहखाना” कहते हैं.

यासीन ने बताया कि तब और अब के बीच, शहर, प्रशासन और हिंदुओं और मुसलमानों के बीच पारस्परिक संबंधों में नाटकीय रूप से बदलाव आया है. उनके लिए सबसे गंभीर और सबसे दर्दनाक बदलाव मुसलमानों के प्रति प्रशासन के रवैये में बदलाव है.

रोने से पहले 80 वर्षीय बुजुर्ग ने कहा, “जिस रात वे पूजा कर रहे थे, मैं जिला मजिस्ट्रेट को फोन करता रहा. कोई जवाब नहीं मिला…जब मैंने लैंडलाइन पर फोन किया, तो मुझे बताया गया कि ‘साहब एक मीटिंग में हैं’.”

उन्होंने कहा, “मैं ज़िंदगी भर इसी शहर में रहा हूं, मैंने कभी नहीं सोचा था कि मुझे यह दिन देखना पड़ेगा.”

अपनी ओर से प्रशासन का कहना है कि मुस्लिम पक्ष से “बातचीत करने की कोई ज़रूरत नहीं” थी. एक अधिकारी ने कहा, “हम मंदिर समिति और याचिकाकर्ता के संपर्क में थे क्योंकि अदालत ने हमें ऐसा करने का आदेश दिया था. हम मस्जिद में नहीं जा रहे थे, इसलिए उनसे बात करने की कोई ज़रूरत नहीं थी.”

‘रोज़ाना की प्रताड़ना’

लेकिन मुफ्ती-ए-बनारस, मौलाना अब्दुल बातिन नोमानी, जो मस्जिद समिति के सचिव भी हैं, के लिए मस्जिद पक्ष के प्रति प्रशासन की कथित उदासीनता कोई नई बात नहीं थी. उन्होंने कहा, “पिछले कुछ साल में हमें प्रशासन से भारी शत्रुता का सामना करना पड़ा है.”

वे ऐसे कई मामलों का ज़िक्र करते हैं जहां मस्जिद ने रोज़मर्रा के छोटे-मोटे मामलों के लिए प्रशासन से संपर्क किया, लेकिन उनके अनुरोधों पर कोई कार्रवाई नहीं की गई.

उन्होंने कहा, “कुछ महीने पहले हम मस्जिद के अंदर इमाम और मुअज़्ज़िन के लिए एक छोटा फ्रिज़ लेना चाहते थे, जो वहां रहते हैं…उस समय बहुत गर्मी थी और उनके पास ठंडा पानी भी नहीं था और उनका खाना भी खराब हो जाता था.”

उन्होंने आगे कहा, “लेकिन जब हमने प्रशासन से मस्जिद के अंदर फ्रिज़ ले जाने की अनुमति मांगी, तो हमें बताया गया कि एक समिति इस मामले पर फैसला लेगी…कई महीने हो गए हैं और कोई फैसला नहीं लिया गया है – फ्रिज़ किसी के घर में बेकार पड़ा हुआ है.”

इस साल की शुरुआत में जब समिति ने प्रशासन को बताया कि मस्जिद के वज़ुखाने में एक टैंक (हौज़) में अधिकांश मछलियां मर रही थीं और उस जगह से बदबू आ रही थी. नतीजा यह हुआ कि कोर्ट के आदेश पर घटनास्थल सील कर दिया गया है, इसलिए प्रशासन कुछ नहीं कर सकता.

सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर आखिरकार सफाई कराई गई. नोमानी ने कहा, “हमारे लिए हर छोटी-बड़ी बात के लिए सुप्रीम कोर्ट जाना आसान नहीं है – इसमें हमें लाखों रुपये खर्च करने पड़ते हैं.”

“ये सिर्फ कुछ उदाहरण हैं…अगर हमें मस्जिद के अंदर पाइप भी लाना होता है, तो किसी न किसी बहाने से मना कर दिया जाता है. इस तरह का उत्पीड़न हमें रोज़ाना झेलना पड़ता है.”

आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए प्रशासन के एक अधिकारी ने कहा कि यह क्षेत्र एक उच्च सुरक्षा क्षेत्र है, जो केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) द्वारा संचालित है. अधिकारी ने दिप्रिंट को बताया, “संबंधित अधिकारियों की मंजूरी के बिना मस्जिद के अंदर किसी भी चीज़ की अनुमति देना हमारे लिए संभव नहीं है.” अधिकारी ने कहा, “एडीजी स्तर के अधिकारी की अध्यक्षता में एक उच्च स्तरीय समिति होती है, जिसकी बैठक हर तीन महीने में होती है…हमें वहां कुछ भी अनुमति देने से पहले उनकी मंजूरी लेनी होगी.”

फिर भी मस्जिद कमेटी के लिए प्रशासन के रवैये से पाखंड की बू आती है. यासीन ने कहा, “जब पूजा करने की बात आई तो वे सब कुछ इतनी तेज़ी से कैसे कर सकते थे — खंभों को काटने से लेकर मूर्ति लाने तक, पुजारी की व्यवस्था करना, रोशनी, कालीन, सब कुछ कुछ ही घंटों में — जबकि हमारे लिए यहां तक कि मस्जिद के अंदर एक फ्रिज़ लाना भी मुश्किल है. इतनी कठिन परीक्षा?” यासीन कहते हैं.

वाराणसी प्रशासन, जिसे दक्षिणी तहखाने में पूजा करने के लिए जिला अदालत के आदेशों का पालन करने के लिए सात दिन का समय दिया गया था, तुरंत हरकत में आया और रात भर पूजा की.

मस्जिद समिति के सदस्यों में से एक ने कहा, “हम अदालत जा रहे हैं. हां, लेकिन यह ज्यादातर हमारे समुदाय को खुश करने के लिए है. हम एक सांठगांठ के खिलाफ काम कर रहे हैं…हम जानते हैं कि कोई हमारी बात नहीं सुनेगा, लेकिन हम अपने समुदाय, अपने भाइयों का सामना कैसे करें?”

भले ही मुस्लिम समुदाय चिंतित और निराश है, काशी विश्वनाथ धाम जाने वाले कई हिंदू तीर्थयात्री बढ़ते तनाव से बेखबर हैं.

अदालत के आदेश के कुछ दिनों बाद काशी विश्वनाथ धाम का दौरा करने वाले दो युवा हिंदू लड़के बगल में एक मस्जिद को देखकर चौंक गए. उनमें से एक ने कहा, “अरे, यहां मस्जिद भी है…वाह, हिंदू-मुस्लिम भाई-भाई.” उसके शब्द शहर की बेचैनी में निरर्थक रूप से घुलते जा रहे हैं.

(संपादन : फाल्गुनी शर्मा)

(इस ग्राउंड रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: ‘पहले नाले को नदी बनाइए’ — काशी और हरिद्वार जैसी आरती के लिए कितनी तैयार है यमुना?


 

share & View comments