scorecardresearch
Sunday, 16 June, 2024
होमफीचर‘पहले नाले को नदी बनाइए’ — काशी और हरिद्वार जैसी आरती के लिए कितनी तैयार है यमुना?

‘पहले नाले को नदी बनाइए’ — काशी और हरिद्वार जैसी आरती के लिए कितनी तैयार है यमुना?

मज़दूर सीढ़ियों, मिनी गार्डन्स और प्रवेश द्वार के निर्माण में जुटे हैं, लेकिन ये मेकओवर नदी की सतह पर बहते कूड़े और औद्योगिक कचरे को छिपा नहीं सकता.

Text Size:

नई दिल्ली: राष्ट्रीय राजधानी की लंबे समय से उपेक्षित और अब लगभग नाला बन चुकी यमुना नदी एक भव्य धार्मिक अनुष्ठान के लिए तैयार हो रही है, वो भी इसकी सफाई होने से पहले. किसी धार्मिक अनुष्ठान को शुरू करने के लिए भारत अब स्वच्छता अभियान का इंतज़ार नहीं कर सकता, जिसमें नदी के पानी को साफ करने में दशकों लग जाते हैं, लेकिन या तो वो शुरू ही नहीं हो पाते या फिर सफल नहीं होते हैं.

हरिद्वार, ऋषिकेश और वाराणसी की तर्ज पर यमुना के तट पर भव्य आरती आयोजित करने की योजना के तहत कश्मीरी गेट के पास यमुना के वासुदेव घाट पर दो लाल बलुआ पत्थर के हाथी, 300 किलोग्राम की घंटी और एक राम मंदिर की प्रतिकृति पहले ही आ चुकी है. मज़दूर, सीढ़ियों, छोटे बगीचों और प्रवेश द्वार के निर्माण में जुटे हैं, लेकिन यह बदलाव यमुना नही के ऊपर तैरने वाले कचरे और औद्योगिक अपशिष्टों को छिपा नहीं सकता है.

यमुना एक्टिविस्ट विमलेन्दु झा ने दिप्रिंट को बताया, “इस समय, यमुना को जिस चीज़ की सबसे ज़्यादा ज़रूरत है वो एक उचित और व्यवस्थित सफाई प्रक्रिया, न कि किसी प्रकार की कोई आरती. हर सरकार इस मुद्दे पर बात करती है, लेकिन आज तक ज़मीन पर कुछ भी काम नहीं किया गया है. कोई भी पूजा या आरती नदी की कि जाती है, किसी नाले की नहीं और फिलहाल यमुना केवल एक नाला है. इसलिए सबसे पहले इस नाले को नदी में बदलने की ज़रूरत है.”

दशकों तक सामुदायिक लामबंदी, सफाई की गतिविधियों, समितियों और सिफारिशों के बाद भी, न तो दिल्ली में अधिकारी और न ही नदी से जुड़े एक्टिविस्ट यमुना को पुनर्जीवित करने का कोई समाधान ढूंढ पाए हैं. अब, जैसे-जैसे मोदी सरकार भारतीय शहरों में रिवरफ्रंट और मंदिर अर्थव्यवस्थाओं को विकसित करने पर जोर दे रही है, दिल्ली की यमुना भी एक भव्य बदलाव के लिए तैयार है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

अधिकारियों ने नदी की ओर सीढ़ियां बनाने की योजना बनाई है ताकि लोग आरती का आनंद ले सकें | फोटो: अलमिना खातून/दिप्रिंट

क्या स्वच्छता से ज्यादा जरूरी सौंदर्यीकरण है

इसी बीच एक कार यमुना ब्रिज पर आकर रुकती है. एक आदमी उसमें से बाहर निकलता है, अपने दाएं-बाएं देखता है, अपनी कार से एक नीले रंग का कूड़े की थैली निकालता है और सीधे नदी में डाल देता है. अगर आप यमुना के आस-पास से अक्सर गुजरते हैं, तो यह एक सामान्य दृश्य है.

यमुना भारत की सबसे पवित्र नदियों में से एक है. हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, नदी को देवी यमुना, सूर्य देव की बेटी और मृत्यु के देवता यम की बहन माना जाता है इसलिए इसकी पूजा की जाती है. लेकिन नदी को पूजा स्थल के रूप में इस्तेमाल करने की हालिया पीढ़ी की यादों में हर साल हाई फॉस्फेट स्तर के कारण उत्पन्न होने वाले जहरीले झाग में खड़े छठ पूजा करने वालों को देखना ही शामिल है. विमलेन्दु ने कहा, “इसलिए, सबसे पहले सरकार को नदी की सफाई के व्यवस्थित तरीके के बारे में सोचना चाहिए.”

वासुदेव घाट के पुनर्विकास की योजना का नेतृत्व दिल्ली के उपराज्यपाल वी.के. सक्सेना कर रहें हैं, और यह काम दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) द्वारा किया जा रहा है.

पहले कुदसिया घाट के नाम से जाना जाने वाला वासुदेव घाट नदी के पश्चिमी तट पर वज़ीराबाद और पुराने रेलवे पुल के बीच विकसित किया जा रहा है. साइट पर काम करने वाले मज़दूरों में से एक अशोक भारती ने कहा कि काम 2023 में शुरू हुआ था, लेकिन यमुना में आई बाढ़ के कारण काम को रोका गया था जिसे दिसंबर में फिर से शुरू किया गया.

उपराज्यपाल ने 22 जनवरी की शाम को वासुदेव घाट पर एक धार्मिक कार्यक्रम में भाग लिया और तट पर नव निर्मित अयोध्या राम मंदिर की प्रतिकृति के सामने पूजा की थी.

दीयों और रोशनी की सजावट से गुजरते हुए, एल-जी सक्सेना शंख, मंत्रों और जय श्री राम के नारों की के बीच से होते हुए 300 किलो की घंटी के पास गए और उसे बजाया, जिसके बाद राम मंदिर की प्रतिकृति की पूजा की गई.

नदी की ओर सीढ़ियां एक कतार में कई सीढ़ीयां भी बनाई जा रही हैं, ताकि लोग वहां बैठ कर आरती का आनंद ले सकें. घाट के प्रवेश द्वार पर स्थापित घंटी के अलावा, किनारे पर कई मंडप हैं. अधिकारियों के मुताबिक, करीब दो से तीन महीने में घाट पर आरती शुरू हो जाएगी.

एक मजदूर ने नाम न छापने की शर्त पर कहा, “यहां कई मिनी गार्डन बनाएं जाएंगे जहां लोग बैठ कर आराम कर सकेंगे. पैदल रास्तों को फूलों से सजाया जाएगा. काम पूरा होने के बाद पूरा घाट बिल्कुल अलग दिखेगा.”

वासुदेव घाट के पास रहने वाले 65-वर्षीय सुखवारा ने कहा, “मैं हर रोज आरती देखने के लिए आऊंगी, यह दिल्ली के लोगों के लिए वास्तव में एक अच्छा अनुभव होगा.”


यह भी पढ़ें: यमुना हमारे सीवेज से ही दिख रही है, नाले बंद कर देंगे तो वो नजर नहीं आएगी


नदी की राजनीति

धार्मिक अनुष्ठान अक्सर स्वच्छता और साफ-सफाई से जुड़े होते हैं, जो किसी भी पूजा में अहम भूमिका रखते हैं, लेकिन नदी का गंदा पानी, किनारों पर कूड़ा-कचरा और नाक ढकने पर मजबूर कर देने वाली बदबू को देखते हुए, यमुना घाट की आरती एक जल्दबाजी लगती है.

सुखवारा ने दिप्रिंट को बताया, “नदी का पानी बहुत लंबे समय से ऐसा ही है. शायद आरती की तारीख घोषित होते ही सफाई प्रक्रिया शुरू हो जाएगी.”

नजफगढ़ नाला यमुना को गंदा करने वाला पहला प्रमुख प्रदूषक है जो दिल्ली के वज़ीराबाद में यमुना में मिलता है और नदी के प्रदूषण में सबसे अधिक योगदान देने के लिए जाना जाता है.

विमलेन्दु ने कहा, “पूजा या आरती किसी नदी की कि जाती है, नाले की नहीं. और अभी तो यमुना पूरी तरह से नाला बन चुकी है. इसलिए, पहली ज़रूरत इस नाले को नदी में बदलने की है और फिर हम इसकी आरती करने के बारे में सोच सकते हैं.”

नदियों को बचाने का अभियान — चाहे उन्हें आपस में जोड़ना हो, या उन्हें टेम्स का रूप देने के लिए सफाई करना हो — भारतीय राजनीति में एक लंबे समय से अधूरी परियोजना रही है. बनारस जैसे वीवीआईपी निर्वाचन क्षेत्रों के वीवीआईपी घाट भी नदियों की किस्मत नहीं बदल पाए.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने फरवरी 2025 तक नदी को साफ करने के लिए 18 नवंबर 2021 को छह सूत्री कार्य योजना की घोषणा की थी. इस योजना में एसटीपी का निर्माण और उन्नयन, 100 प्रतिशत सीवर कनेक्टिविटी, सीवर नेटवर्क से गाद निकालना, नालों को रोकना शामिल है.

उन्होंने कहा था कि यमुना में गिरने वाले चार प्रमुख नालों — नजफगढ़, बादशाहपुर, सप्लीमेंट्री और गाजीपुर के अपशिष्ट नदी में गिरने से रोकने पर काम हो रहा है.

वासुदेव घाट के पास रहने वाले ट्रक ड्राइवर अगस्तेन ने कहा, “केजरीवाल ने केवल वादे किए हैं, लेकिन घाट पर जो भी काम हुआ है, वो मोदी सरकार और एलजी सक्सेना की वजह से हुआ है.”

आप सरकार ने यमुना में कचरा प्रवाहित करने वाले उद्योगों को बंद करने का भी वादा किया था.

68-वर्षीय अगस्तेन ने कहा, “जब मैं 30 या 40 साल पहले दिल्ली आया था, तब यमुना इतनी गंदी नहीं थी. पहले इसका पानी काफी साफ था, हम लोग इसका पानी पीते भी थे, लेकिन जैसे-जैसे आबादी बढ़ी, यमुना और भी गंदी होती गई.”


यह भी पढ़ें: मैली यमुना कब बनेगी निर्मल और टेम्स नदी जैसी


‘वाराणसी की तरह ही यमुना को भी पीएम की ज़रूरत’

विहिप सदस्य सुबोधकांत ने कहा, “नदियां हमारी सांस्कृतिक विरासत हैं और अगर गंगा की तरह यमुना में भी आरती शुरू हो जाए, तो लोग इसे साफ रखने के लिए निश्चित रूप से जागरूक होंगे, क्योंकि जब लोग आरती में शामिल होने और इसकी पूजा करने लगेंगे, तो वे गंदगी फैलाने से पहले ज़रूर सोचेंगे.”

लेकिन अगर वाराणसी में घाट कोई संकेत हैं, तो कांत का तर्क सच नहीं है. वाराणसी में असाई और वरुणा ऐसे उदाहरण हैं जो साबित करते हैं कि भगवान का डर भी पानी को साफ नहीं रख सके.

अरविंद केजरीवाल ने 2015 में गीता घाट पर पहली यमुना आरती की थी.

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा था, “हम पांच साल के भीतर यमुना को पुनर्जीवित करेंगे और मैं दिल्ली की मां और मुख्य जल स्रोत, यमुना नदी की संस्कृति और विरासत को बढ़ावा देने का वादा करता हूं.”

बता दें कि घाट के विकास कार्य के बीच लोग वासुदेव घाट पर जाकर मंडपों और राम मंदिर की प्रतिकृति के पास सेल्फी ले रहे हैं.

राजेश शुक्ला ने कहा, जो वाराणसी के मणिकर्णिका घाट पर रहते हैं और नमामि गंगे परियोजना में प्रांत संयोजक हैं, “मैं पिछले दस साल से गंगा की सफाई में लगा हुआ हूं और मैंने देखा है कि जब भी किसी नदी की आरती की जाती है, तो अधिक से अधिक लोग इसमें शामिल होते हैं और इसकी पूजा करते हैं और लोगों में इसे साफ रखने की भावना विकसित होती है. जिस प्रकार वाराणसी की आरती लोगों को गंगा को स्वच्छ रखने का एहसास दिलाती है. जब यमुना में भी आरती शुरू हो जाएगी, तो लोग निश्चित रूप से इसे साफ रखेंगे.”

वाराणसी में आरती करते हुए मोदी की छवि भी निर्वाचन क्षेत्र द्वारा लिए गए स्वच्छता संकल्प को परिभाषित करती है. यमुना भी इंतज़ार कर रही है.

शुक्ला ने कहा, “ना मैं यहां आया हूं ना मुझे किसी ने भेजा है, मुझे तो मां गंगा ने बुलाया है” — यह कहकर और अपने प्रमुख नमामि गंगे के साथ पीएम मोदी ने जनता को नदी को साफ रखने का बड़ा संदेश दिया. ऐसे ही अगर पीएम मोदी यमुना आरती में शामिल होते हैं और वहां से संदेश देते हैं तो इससे बड़ी बात कुछ नहीं हो सकती और अगर यमुना साफ रहेगी तो गंगा भी साफ रहेगी क्योंकि दोनों प्रयागराज में मिलते है.”

उन्होंने कहा, “हर नदी किसी न किसी बिंदु पर एक दूसरे से मिलती है. इसलिए अगर हम एक नदी को साफ रखते हैं तो हम कई नदियों को बचा सकते हैं.”

(संपादन : फाल्गुनी शर्मा)

(इस ग्राउंड रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: कोविड काल की गंगा की तस्वीर में चित्रकार ने कई कमियां छोड़ दी हैं, क्या प्रधानमंत्री मोदी उन्हें खोज पाएंगे


 

share & View comments