scorecardresearch
Sunday, 25 February, 2024
होमचुनाव‘5-स्टार कल्चर, मिस्ड कॉल से सदस्यता’: नरपत राजवी बोले— भैरों सिंह के दौर से मोदी तक BJP काफी बदल गई है

‘5-स्टार कल्चर, मिस्ड कॉल से सदस्यता’: नरपत राजवी बोले— भैरों सिंह के दौर से मोदी तक BJP काफी बदल गई है

दिप्रिंट के साथ एक स्पेशल इंटरव्यू में चित्तौड़गढ़ से बीजेपी उम्मीदवार नरपत सिंह राजवी ने पार्टी को 'फाइव स्टार' कल्चर के खिलाफ चेतावनी दी और कहा कि वरिष्ठ नेताओं को कार्यकर्ताओं को आगे बढ़ाने की परंपरा जारी रखनी चाहिए.

Text Size:

नई दिल्ली: राजस्थान की चित्तौड़गढ़ विधानसभा सीट से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के उम्मीदवार नरपत सिंह राजवी ने अपने आलाकमान को एक मैसेज दिया है: “फाइव स्टार कल्चर” से सावधान रहें.

पांच बार के विधायक, जिन्हें उनकी पारंपरिक सीट विद्याधर नगर से टिकट नहीं दिया गया और बाद में चित्तौड़गढ़ से मैदान में उतारा गया, ने कहा कि बीजेपी अब कार्यकर्ताओं को “विकास की संभावनाएं” नहीं देती है और चुनाव जीतने के लिए केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व पर भरोसा कर रही है.

उन्होंने कहा, “पहले, भैरों सिंह शेखावत, ललित किशोर चतुर्वेदी और हरि शंकर भाभरा जैसे नेताओं से मिलने के बाद कार्यकर्ताओं का गुस्सा कम हो जाता था. लेकिन अब वरिष्ठ नेताओं और पार्टी कार्यकर्ताओं – कैडर-आधारित पार्टी के रूप में बीजेपी की मुख्य ताकत – के बीच संवाद कमजोर हो रहा है. अब नेतृत्व यहां के कार्यकर्ताओं की सुनवाई नहीं कर रही है. इससे ही विद्रोह हुआ है.”

दिप्रिंट के साथ एक स्पेशल इंटरव्यू में, राजवी ने पार्टी संगठन से संबंधित कई अन्य प्रमुख मुद्दों पर बात की, जिसमें कार्यकर्ताओं से लेकर विद्रोही नेताओं के लिए निवारण तंत्र और उनके ससुर भैरों सिंह शेखावत के युग के बाद से बीजेपी कैसे बदल गई है, पर चर्चा की.

राजवी पिछले महीने तब सुर्खियों में आए जब बीजेपी ने उन्हें टिकट देने से इनकार कर दिया और उनकी जगह अपनी लोकसभा सांसद दीया कुमारी को विद्याधर नगर से मैदान में उतारा. राजवी साल 2008 से इस सीट का प्रतिनिधित्व कर रहे थे.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

72 वर्षीय शेखावत पहली बार 1993 में चित्तौड़गढ़ से विधानसभा के लिए चुने गए थे जब शेखावत राजस्थान के मुख्यमंत्री थे. उन्होंने राज्य में मंत्री के रूप में भी काम किया और स्वास्थ्य और उद्योग सहित प्रमुख विभागों को संभाला. 1990 में, जनता दल में विभाजन कराकर भैरों सिंह शेखावत सरकार को बचाने का श्रेय राजवी को दिया गया.

वह तब तक राज्य में एक प्रमुख नेता बने रहे जब तक शेखावत की शिष्या वसुंधरा राजे ने मुख्यमंत्री के रूप में अपने दूसरे कार्यकाल के दौरान उन्हें मंत्रिमंडल से बाहर नहीं कर दिया.

शेखावत, जिन्हें जनसंघ के दिनों से ही राजस्थान में बीजेपी के लिए आधार स्थापित करने का श्रेय दिया जाता है, तीन बार राज्य के मुख्यमंत्री और बाद में 2002 से 2007 तक भारत के उपराष्ट्रपति रहे.

‘यह अचानक हुआ, न्यूज़ के माध्यम से पता चला’

यह पूछे जाने पर कि उन्हें यह जानकर कैसा महसूस हुआ कि विद्याधर नगर से उनका टिकट काट दिया गया है, राजवी ने कहा कि वह “स्तब्ध” थे क्योंकि उन्हें नहीं लगा कि यह इतनी “कमजोर सीट” थी कि पार्टी को वहां से मौजूदा सांसद को मैदान में उतारना पड़ा.

उन्होंने कहा, “यह अचानक हुआ था. इसका कोई कारण नहीं था. मुझे इसके बारे में खबरों से ही पता चला. उम्मीदवारों की सूची घोषित करने से पहले किसी ने भी (पार्टी की ओर से) मुझसे इस पर चर्चा नहीं की.”

उन्होंने कहा कि, राजस्थान में, बीजेपी ने “सी-ग्रेड” या “डी-ग्रेड” सीटों पर अपनी संभावनाओं को बढ़ाने के लिए मौजूदा सांसदों को मैदान में उतारा है.

उन्होंने आगे कहा, “यहां (विद्याधर नगर) मैंने पिछली तीन बार जीत हासिल की है. मैंने विकास को आगे बढ़ाकर विधानसभा क्षेत्र बनाया. मेरे मन में कभी यह बात नहीं आई कि मुझे टिकट नहीं दिया जाएगा और पार्टी मेरी जगह एक सांसद को मैदान में उतारेगी.”

राजवी ने यह भी कहा कि विधायक के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने शिक्षा, स्वास्थ्य और विद्युतीकरण पर जोर दिया, यही वजह है कि पार्टी के फैसले से उनका नाराज होना “स्वाभाविक” था लेकिन उन्होंने “विनम्रता के साथ इसे स्वीकार कर लिया”.


यह भी पढ़ें: BJP सांसद दीया कुमारी ने कहा- राजस्थान में महिलाओं के खिलाफ अपराध बड़ा मुद्दा, गहलोत को नहीं मिलेगा वोट


‘मिस्ड कॉल’ के दौर में बीजेपी

इसके अलावा, राजवी ने उन बागी नेताओं पर अपनी राय व्यक्त की जो राजस्थान में बीजेपी की चुनावी गणना को बिगाड़ने के लिए खड़े हैं. उनके अनुसार, कैडरों की शिकायतों को दूर करने के लिए एक आंतरिक तंत्र का कमजोर होना और “दर्द कम करने वाले स्पर्श” की कमी इसके लिए जिम्मेदार है.

उन्होंने कहा, “विद्रोही नेता कोई नई घटना नहीं है, लेकिन यह इस पैमाने पर कभी नहीं था.”

उन्होंने कहा कि पहले के समय में शिकायत वाले कैडरों को भैरों सिंह शेखावत या ललित किशोर चतुर्वेदी (राजस्थान बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष) या हरि शंकर भाभरा (पूर्व उपमुख्यमंत्री) के साथ बातचीत की इजाजत दी जाती थी, लेकिन अब ऐसा बिल्कुल भी नहीं है. 

उन्होंने कहा कि बीजेपी हमेशा “कैडरों पर निर्भर रही जबकि कांग्रेस ज्यादातर वेतनभोगी कार्यकर्ताओं पर निर्भर रही”.

उस समय को याद करते हुए जब उनके ससुर 1985 के विधानसभा चुनावों में आमेर से चुनाव लड़ रहे थे, राजवी ने दिप्रिंट को बताया: “शेखावत जी बच्चों से परचे (पर्चे) लिखने में मदद लेते थे और बदले में उन्हें चॉकलेट देते थे. फिर ये पर्चे गांवों में बांटे गए. आजकल प्रचार की उस प्रणाली की जगह सीडी और पेन ड्राइव ने ले ली है.”

उन्होंने यह भी कहा कि अगर पार्टी कार्यकर्ताओं का ‘मोबाइल फोन बंद है या संपर्क में नहीं है’ तो उनके पास नेताओं से संवाद करने का कोई रास्ता नहीं है. उन्होंने कहा कि हाल के सालों में बीजेपी इस तरह से बदल गई है.

पांच बार के विधायक ने मीडिया पर भी मुद्दों को बढ़ा-चढ़ाकर पेश करने का आरोप लगाया.

उन्होंने कहा, “कई लोगों ने लिखा कि मैं एक लॉबी से जुड़ा हुआ था. यदि मैं वसुंधरा (राजे) जी से जुड़ा था, तो उन्होंने मुझे अपने मंत्रिमंडल में मंत्री के रूप में शामिल क्यों नहीं किया?”

उन्होंने कहा, “मैंने हमेशा सिद्धांतों की राजनीति में विश्वास किया है और उस विश्वास से कभी समझौता नहीं करूंगा.”

यह पूछे जाने पर कि वह भैरों सिंह शेखावत के समय से बीजेपी में पीढ़ीगत बदलाव को कैसे देखते हैं, राजवी ने कहा कि पार्टी ने तब “नेताओं को आगे बढ़ाया” और कार्यकर्ताओं और नेतृत्व के बीच एक संचार के लिए प्रभावी तंत्र हुआ करता था.

उन्होंने कहा, “अब किसी को पार्टी का सदस्य बनाने के लिए मिस्ड कॉल की व्यवस्था है. इस तरह हम कैडर कैसे बनाएंगे? पहले, जब कोई बीजेपी में शामिल होता था, तो उन्हें पार्टी की विचारधारा के बारे में सिखाया जाता था और सार्वजनिक बैठकों में भाग लेने के लिए कहा जाता था. शेखावत जी विधायकों के लिए प्रश्न लिखते थे और उन्हें किसी विशेष विषय पर बोलने में मदद करने के लिए खुद रिसर्च करते थे.”

उन्होंने कहा kf लेकिन इस तरह का हाथ पकड़ना अब बीजेपी के भीतर आदर्श नहीं रह गया है.

उन्होंने कहा कि विधायक दल के नेता या प्रदेश अध्यक्ष अब विधायकों को उन मुद्दों पर मार्गदर्शन नहीं करते हैं जिन्हें उजागर करने की आवश्यकता है और उनसे कैसे संपर्क किया जाए.

‘सामूहिक नेतृत्व एवं कोर ग्रुप’

चुनावों के लिए बीजेपी के “सामूहिक नेतृत्व” दृष्टिकोण पर राजवी ने कहा कि वह इसका समर्थन करते हैं.

उन्होंने कहा, “चुनाव में प्रतीक हमारा चेहरा है, पांच प्रण (पांच प्रतिज्ञा) की तरह, सामूहिक नेतृत्व पार्टी का मूल है.”

हालांकि, उन्होंने कहा कि “फाइव स्टार कल्चर ने पार्टी को अपनी चपेट में ले लिया है” और “अनुभवी नेताओं की सलाह को नजरअंदाज कर दिया गया है”.

उन्होंने आगे कहा, “हमारी पार्टी के संविधान में (प्रत्येक राज्य के लिए) कोर ग्रुप का कोई प्रावधान नहीं है, लेकिन अधिकांश सांसद कोर ग्रुप में हैं. उदाहरण के लिए राजस्थान में एक सांसद केवल छह से आठ विधानसभा क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करता है. जिन लोगों ने राज्य भर में काम किया है, उन्हें कोर ग्रुप का हिस्सा होना चाहिए.”

राजवी ने कहा कि “कोर ग्रुप” कभी-कभी रणनीति पर चर्चा करने के लिए बैठक करता है लेकिन पार्टी “अब कार्यकर्ताओं का पोषण नहीं कर रही है और केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व पर भरोसा कर रही है”.

राजवी ने उस समय को भी याद किया जब उन्हें राजस्थान बीजेपी का महासचिव बनाया गया था और बीकानेर और जोधपुर का प्रभार दिया गया था. वह कहते हैं, “उस समय बीकानेर में केवल 750 बीजेपी के मेंबर थे. मैंने जिला अध्यक्ष और अन्य लोगों को प्रोत्साहित किया और हमने पांच से छह वर्षों के भीतर इसे बढ़ाकर 1.2 लाख कर दिया.”

(संपादन : ऋषभ राज)

(इस ख़बर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: MP के 3 क्षेत्रों में कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने के लिए SP, BSP और बागियों पर भरोसा क्यों कर रही है BJP


 

share & View comments