scorecardresearch
Friday, 12 July, 2024
होमDiplomacy'द्वितीय विश्व युद्ध में मित्र राष्ट्रों के लिए अकेले लड़े थे' - इटली ने नाइक यशवंत घाडगे को दिया सम्मान

‘द्वितीय विश्व युद्ध में मित्र राष्ट्रों के लिए अकेले लड़े थे’ – इटली ने नाइक यशवंत घाडगे को दिया सम्मान

द्वितीय विश्व युद्ध में इतालवी अभियान के दौरान मित्र देशों की ओर से लड़ने वाले भारतीय सेना के सैनिकों के सम्मान में पेरुगिया में धूपघड़ी स्मारक का अनावरण किया गया. उस समय नाइक घाडगे 22 साल के थे.

Text Size:

नई दिल्ली: द्वितीय विश्व युद्ध में इतालवी अभियान के दौरान नाजी कब्जे से इटली की मुक्ति के लिए लड़ने वाले 50,000 भारतीय सेना के सैनिकों की याद में एक स्मारक का शनिवार को इटली में अनावरण किया गया. इटालियन अभियान के दौरान कार्रवाई में मारे गए भारतीय सैनिकों को श्रद्धांजलि के रूप में पेरुगिया के मोंटोन में इतालवी सैन्य इतिहासकारों द्वारा ‘वी.सी. यशवंत घडगे सूंडियाल मेमोरियल’ का अनावरण किया गया.

ये सैनिक ब्रिटिश कॉमनवेल्थ फोर्स के चौथे, आठवें और 10वें डिवीजन का हिस्सा थे जो धुरी राष्ट्र, जैसे-जर्मनी, इटली और जापान के खिलाफ लड़े थे. इटालियन अभियान इटली को जर्मन कब्जे से मुक्त कराने के लिए मित्र राष्ट्र, जैसे- ग्रेट ब्रिटेन, अमेरिका और सोवियत संघ द्वारा दो साल के अभियान (1943-1945) को समर्पित था.

सम्मानित होने वाले भारतीय सैनिकों में नाइक यशवंत घाडगे भी शामिल थे. उनके सम्मान में एक स्मारक धूपघड़ी बनाई गई जो एकता का प्रतीक है. इस पर आदर्श वाक्य “ओमाइंस सब ईओडेम सोल” अंकित है, जिसका अनुवाद है “हम सभी एक ही सूर्य के नीचे रहते हैं”.

इटली में भारत की राजदूत डॉ. नीना मल्होत्रा ​​ने समारोह में भारत का प्रतिनिधित्व किया. शनिवार को इस कार्यक्रम में कई इतालवी नागरिक, विशिष्ट अतिथि और इतालवी सशस्त्र बलों के सदस्य भी शामिल हुए.

दिलचस्प बात यह है कि इटली में दिए गए 20 विक्टोरिया क्रॉस में से छह भारतीय सैनिकों को दिए गए थे.

इस युद्ध में 23,722 भारतीय सैनिक घायल हुए थे, जिनमें से 5,782 ने अपनी जान गंवाई और पूरे इटली में फैले 40 राष्ट्रमंडल युद्ध कब्रों में उनके स्मारक हैं.


यह भी पढ़ें: भारत सबसे तेज अर्थव्यवस्था के ठप्पे में न उलझे, आर्थिक सफलताओं पर ध्यान दे


नाइक यशवन्त घाडगे

शनिवार को अनावरण किए गए स्मारक का नाम नाइक यशवंत घाडगे, विक्टोरिया क्रॉस के नाम पर रखा गया था, जो एक सम्मान का प्रतीक है. 10 जुलाई 1944 को ऊपरी तिबर घाटी की ऊंचाइयों पर लड़ाई में वह मारे गए थे.

नाइक घाडगे महरत्ता लाइट इन्फैंट्री के एक सैनिक थे जिन्होंने द्वितीय विश्व युद्ध (1939-1945) के दौरान इटली में सेवा दी थी. यूके के राष्ट्रीय सेना संग्रहालय के अनुसार, वह केवल 22 वर्ष के थे जब धुरी राष्ट्रों से लड़ते हुए उनकी मृत्यु हो गई.

उन्हें 1944 में मरणोपरांत विक्टोरिया क्रॉस दिया गया.

1944 के मध्य में त्रासिमेनो झील के आसपास जर्मन स्थिति के उल्लंघन के बाद, मित्र राष्ट्र जर्मन सुरक्षा की अगली प्रमुख रेखा की ओर उत्तर की ओर बढ़े, जिसे गोथिक रेखा के रूप में जाना जाता है.

इस ऑपरेशन के पहले चरण में, 3/5वीं महरत्ता लाइट इन्फैंट्री को, 10वीं भारतीय डिवीजन की अन्य यूनिट के साथ, सिट्टा डे कैस्टेलो शहर पर कब्ज़ा करने में सहायता करने के लिए ऊपरी तिबर घाटी के पहाड़ी इलाके के माध्यम से पेरुगिया से आगे बढ़ना था.

मराठा 30 जून को पियानेलो पहुंचे. लेकिन वहां से, मोंटे डेले गोर्गास तक पहुंचने से पहले उन्हें मोंटे कुक्को, मोंटे गेंगारेला और मोंटे मारुचिनो सहित कई पहाड़ों का सामना करना पड़ा.

8 जुलाई तक, वे माउंट गेंगारेला तक अपनी लड़ाई लड़ते रहे. मोंटे गेंगारेला के पास प्वाइंट 613, प्वाइंट 624 से शुरू किए गए जर्मन जवाबी हमलों के दबाव में आ गया. दुश्मन की मशीनगनों का पूरी ताकत के साथ सामाना किया गया.

10 जुलाई 1944 को, ऊपरी तिबर घाटी में लड़ते समय, ‘सी’ कंपनी जिसे प्वाइंट 624 के खिलाफ हमला शुरू करने के लिए भेजा गया था, मशीन-गन से हो रही भारी गोलीबारी की चपेट में आ गई, जिसमें नाइक घाडगे को छोड़कर बाकी सभी लोग मारे गए. कंपनी ने अपने कमांडर, कैप्टन मैडिमन और छह अन्य को भी खो दिया और 15 अन्य लोग घायल हो गए.

नाइक घाडगे अपनी टीम में एकमात्र जीवित बचे थे.

बाद में उनके बारे में कहा गया कि कैसे उन्होंने फिर मशीन गन पोस्ट पर हमला किया और एक ग्रेनेड फेंका जिसने मशीन गन को नष्ट कर दिया और उसका ऑपरेटर मारा गया. फिर उसने बंदूक दल के एक अन्य सदस्य को गोली मारने के लिए अपने टॉमीगन का इस्तेमाल किया. उसके पास अपनी बंदूक को दोबारा लोड करने का समय नहीं था, इसलिए उसने बंदूक चालक दल के शेष दो लोगों को मारने के लिए इसका इस्तेमाल किया.

छाती और पीठ स्नाइपर की गोलियों से छलनी हो गया था लेकिन घायल नाइक घाडगे उस पोस्ट पर थे जिस पर उन्होंने मित्र राष्ट्रों के लिए अकेले ही कब्जा कर लिया था. उनकी बहादुरी के परिणामस्वरूप, जर्मनों को प्वाइंट 624 से पीछे हटना पड़ा, जिससे मराठाओं को आगे बढ़ने का रास्ता मिल गया.

(संपादन: ऋषभ राज)

(इस ख़बर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: दस मिनट में पहुंचेंगे चेन्नई से बेंगलुरु? IIT मद्रास की ‘हाइपरलूप रेल’ 10 वर्षों में सच करेगी ये सपना


 

share & View comments