Wednesday, 7 December, 2022
होमडिफेंसभारत और अमेरिका के बीच 'युद्ध अभ्यास 22' इसी महीनें उत्तराखंड में, रक्षा मंत्रालय ने दी जानकारी

भारत और अमेरिका के बीच ‘युद्ध अभ्यास 22’ इसी महीनें उत्तराखंड में, रक्षा मंत्रालय ने दी जानकारी

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक इसमें अमेरिकी सेना के 11वीं एयरबोर्न डिवीजन के दूसरे ब्रिगेड तथा भारतीय सेना के असम रेजिमेंट के जवान हिस्सा लेंगे

Text Size:

भारत और अमेरिका के बीच होने वाले भारत-अमेरिका संयुक्त प्रशिक्षण अभ्यास का 18वां संस्करण इस महीनें उत्तराखंड में आयोजित किया जाएगा. इसे ‘युद्ध अभ्यास 22’ का नाम दिया गया है. इसकी जानकारी रक्षा मंत्रालय ने मंगलवार को दी.

दोनों देशों की सेनाओं के बीच रक्षा, रणनीति, तकनीक आदि के आदान प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल यह युद्ध अभ्यास आयोजित किया जाता है. पिछले साल अक्टूबर में यह अमेरिका के अलास्का में आयोजित किया गया था.

रक्षा मंत्रालय के मुताबिक इसमें अमेरिकी सेना के 11वीं एयरबोर्न डिवीजन के दूसरे ब्रिगेड तथा भारतीय सेना के असम रेजिमेंट के जवान हिस्सा लेंगे.

बयान में आगे कहा गया है कि युद्ध अभ्यास में दोनों देशों के सैनिक सामान्य उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए मिलकर काम करेंगे जिसमें मानवीय सहायता और आपदा राहत कार्यों पर अधिक ध्यान केंद्रित रहेगा. दोनों देशों के सैनिक किसी भी प्राकृतिक आपदा में तुरंत और समन्वित राहत प्रयास शुरू करने का अभ्यास करेंगे।

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

रक्षा मंत्रालय ने आगे कहा कि इस अभ्यास से दोनों देशों के सेनाओं को अपना अनुभव और कौशल एक दूसरे साझा करने तथा सूचनाओं का आदान प्रदान में तकनीक के मदद लेने की जानकारी मिलेगी. इसके साथ ही पेशेवर कौशल और अनुभव का लाभ लेने के लिए कमांड पोस्ट अभ्यास तथा विशेषज्ञ शैक्षणिक चर्चा (ईएडी) भी आयोजित की जाएगी।

इसमें सेनाओं को पर्वतीय युद्ध कौशल, निगरानी ग्रिड की स्थापना, प्रतिकूल इलाके और जलवायु परिस्थितियों में चिकित्सा सहायता आदि का प्रशिक्षण दिया जाएगा.


यह भी पढ़ें: आर्टिलरी से रॉकेट लांचर तक- अजरबैजान के खिलाफ रक्षात्मक क्षमता के लिए आर्मेनिया ने किया भारत का रुख


share & View comments