scorecardresearch
Thursday, 18 July, 2024
होमफीचर'स्ट्रीट डांस, मूव्स, 1 बैटल और जर्मनी जाने का मौका', जानिए डांसर्स की कहानी उनकी जुबानी

‘स्ट्रीट डांस, मूव्स, 1 बैटल और जर्मनी जाने का मौका’, जानिए डांसर्स की कहानी उनकी जुबानी

स्ट्रीट डांस के रूप में जाने जाने वाले डांस स्टाइल ब्रेकिंग ने अब अपनी जगह ओलंपिक गेम्स पेरिस 2024 में बना ली है. और खिलाड़ियों और डांसर्स को गोल्ड जीतने का मौका दे रहा है.

Text Size:

नई दिल्ली: डांस फ्लोर पर तेज म्यूजिक में एक दूसरे से बेहतर डांस का दम भरने वाला ये बैटल जर्मनी तक पहुंचाएगा या फिर अगर ये डांसर और लकी हुए तो ये उन्हें पेरिस ओलंपिक में भी अपनी इस डांसिंग कला दिखाने का मौका देगा.

सोलह भारतीय स्ट्रीट डांसर के बीच हुआ ये डांस बैटल, एक ट्रॉफी और जर्मनी में भारत को रिप्रेजेंट करने और बैटल करने का मौका. इस बैटल का जज कोई बड़ा डांसर या फिर कोरियोग्राफर नहीं बल्कि वहां मौजूद भीड़ जज और जूरी है.

लगभग चार घंटे तक चले इस डांस बैटल में जोश था. 16 स्ट्रीट डांसर्स के बीच तीन राउंड में डांस बैटल हुआ और जीतने वाले नेपो भारत को जर्मनी में रिप्रजेंट करेंगे.

हालांकि नेपो भारत में पहली बार आयोजित डांस बैटल डांस योर स्टाइल 2021 इंडिया के विनर रह चुके हैं. दीपक शाही उर्फ नेपो ने कहा, “स्टेज परफॉरमेंस के लिए पहले से किसी एक गाने पर तैयारी की जा सकती है, लेकिन बैटल में कौन सा गाना बजाया जाएगा और आपको सामने वाले के साथ कम्पीट करना पड़ेगा. बैटल में प्रजेंस ऑफ़ माइंड बहुत जरुरी होता है.”

बैटल में भाग लेने के लिए दिल्ली, कोलकाता, उत्तर प्रदेश, बेंगलूरू सहित कई राज्यों से भाग क्रम्पिंग आर्टिस्ट सूरज उर्फ मजिन बू कहा, “सभी डांसर बहुत ही नर्वस हैं और सबने अपनी तरफ से पूरी तैयारी की है, यहां कोई किसी से कम नहीं है इसलिए बैटल में ही पता चलेगा की क्या होता है.”

स्ट्रीट डांस बैटल में आपको पहले से नहीं पता होता है कि स्टेज पर उस वक्त कौनसा गाना बजेगा या फिर आपके सामने दूसरा ओपोनेन्ट कौन होगा. स्टेज पर डीजे जैसे ही ब्रेकिंग बीट्स वाले गाने बजाता है, डांसर को अपने बेस्ट मूव्स दिखाने होते हैं.

 

दीपक शाही उर्फ नेपो | फोटोः विशेष प्रबंधन द्वारा

स्ट्रीट डांस और ओलंपिक 

स्ट्रीट डांस के रूप में जाने जाने वाले डांस स्टाइल ब्रेकिंग ने अब अपनी जगह ओलंपिक गेम्स पेरिस 2024 में बना ली है. स्ट्रीट डांस की कैटगरी से निकलकर ब्रेकिंग अब ओलंपिक में गोल्ड जीतने का मौका दे रहा है.

नेपो ने कहा, “स्ट्रीट डांस जिस लेवल पर है उससे हम पहले से भी बहुत खुश थे लेकिन ये ओलंपिक का हिस्सा है तो अब ये हैप्पीनेस एक्सट्रीम लेवल पर पहुंच चुका है. ये चीज़ हमें और ज्यादा मोटीवेट करती है कि अब स्ट्रीट डांस करके कोई अपने देश के लिए मैडल भी ला सकता है.”

उन्होंने आगे कहा कि भारत के डांसर्स भी खूब मेहनत कर रहे है और हमें लगता है कि भारत भी गोल्ड मैडल जीत सकता है.

कोलकाता की वैकिंग पंकिंग आर्टिस्ट मेखोला बोस कहती हैं ये बहुत ही प्राउड फीलिंग है कि स्ट्रीट डांसिंग ओलंपिक लेवल का डांस स्टाइल बन चुका है और ये जरूर और लोगो को भी इस डांस फॉर्म की तरफ आकर्षित करेगा.

डांस बैटल

दिल्ली के छत्तरपुर में रेडबुल द्वारा आयोजित डांस यॉर स्टाइल में भारत के विभिन्न राज्यों से 16 डांसर्स ने हिस्सा लिया.

डांस यॉर स्टाइल के 16 स्ट्रीटडांसर्स | फोटोः विशेष प्रबंधन द्वारा

इस डांस बैटल का जज कोई और नहीं बल्कि वहां मौजूद ऑडिएंस थी. जो हर राउंड के बाद दो में से किसी एक डांसर के लिए वोट करते थे और वो अगले राउंड में पहुंच जाता था.

मेखोला कहती है, रेडबुल की वजह से बहुत सारे डांसर्स को मौका मिल रहा है, जिससे सभी केटेगरी के डांसर्स अपना स्टाइल लोगों को दिखा सकते हैं उन तक पंहुचा सकते हैं.

उन्होंने आगे कहा कि रेडबुल की वजह से ऑडिएंस तक इसकी रीच बढ़ती ही चली जा रही है.

बता दें कि रेडबुल एकमात्रा ऐसा ब्रांड है जो स्ट्रीट डांस का स्पॉसर है और दुनिया भर में रेडबुल ही स्ट्रीट डांस बैटल एवं अन्य कॉम्पीटीशन आयोजित करवाता है.

मेखोला कहती है “अब समय के साथ धीरे- धीरे बहुत सारे लोकल स्पोंसर्स सामने आने लगे है, अब प्रोडक्शन वैल्यू भी इवेंट्स की बढ़ गई है तो ये चीज़ भी बहुत ही पॉजिटिव है.”

उन्होंने आगे बताया कि स्पांसर ढूंढ़ना हमेशा से ही एक बड़ा टास्क रहता है क्योंकि उनको रिटर्न में कितना मिलेगा इस बात के लिए मनाना भी थोड़ा मुश्किल होता है.

बोस ने आगे कहा कि “मैं आशा करती हूं कि डांस में और भी प्रमोटर्स और स्पोंसर्स सामने आये ताकि टैलेंट और आगे बढ़ पाए.”

परिवार का सपोर्ट

जब आप डांस नहीं करते तब क्या करते हो? इस सवाल के जवाब में वहां मौजूद डांसर्स ने अलग अलग जवाब अपने अंदाज़ में दिए. मेखोला कहती है, “जब में डांस नहीं कर रही होती हूं तो मैं ड्रम बजाती हूं, मॉडलिंग करती हूं और डांस सिखाती हूं.” वहीं सूरज उर्फ़ मजिन बू का जवाब इससे बिलकुल अलग ही है, उनका कहना है कि जब में डांस नहीं करता तो मुझे कुछ भी अच्छा नहीं लगता है मैं उदास हो जाता हूं.

भारतीय परिवारों में नाचने-गाने को जब तक आप अपना शौक बनाए रखें तब तक ही ठीक है लेकिन अगर आप उसमें अपना करियर देखते हैं तो कई बार मां -बाप आपके भविष्य को देखते हुए इसका सपोर्ट नहीं करते है. लेकिन जब उन्हें पता चल जाता है कि आप इससे बेहतर और कुछ कर ही नहीं सकते तो वो भी इस सफर में साथ दे ही देते हैं.

वैकिंग पंकिंग आर्टिस्ट बोस कहती है, “मुझे डिस्को म्यूजिक बहुत पसंद है और म्यूजिक की वजह से ही मैंने डांस को चुना फिर इस स्टाइल को. पहले पहले फॅमिली को लगता था की मैं लाइफ के साथ क्या कर रही हूं, लेकिन जैसे जैसे मैं आगे बढ़ती गई और अच्छा करने लगी तो उन्होंने सपोर्ट करना शुरू किया. उन्होंने जब देखा की मुझे इससे प्यार है तो बहुत सपोर्ट किया. अब मेरा स्टाइल बहुत ग्रो कर रहा है लोग इसकी तरफ बहुत आ रहे है.”

कोलकाता की वैकिंग पंकिंग आर्टिस्ट मेखोला बोस | फोटोः विशेष प्रबंधन द्वारा

परिवार के सपोर्ट के बारे में बताते हुए नेपो ने कहा कि उनकी फॅमिली ने पहले उन्हें इतना ज्यादा सपोर्ट नहीं किया लेकिन जब उन्होंने डांस बैटल डांस योर स्टाइल 2021 इंडिया का खिलाब जीता तो उसके बाद से उनके परिवार ने उनका पूरा सपोर्ट किया.

उन्होंने कहा कि मैं फ्यूचर में Les Twins डांसर्स के साथ परफॉर्म करना चाहता हूं. मैं उनका दोस्त बनना चाहता हूं.

अपने अनुभव साझा करते हुए मजिन बू ने कहा, “यूट्यूब पर एक बैटल देखा था जिसने मुझे बहुत इंस्पायर किया जिसके बाद मैंने ये स्टाइल चुना. उसके बाद मैंने सोचा कि मुझे सिर्फ क्रम्पिंग ही करना है.”

उन्होंने कहा, फॅमिली ने हमेशा सपोर्ट किया इस चीज़ के लिए बहुत ग्रेटफुल हूं. उन्हें मेरे स्टाइल के बारे में ज्यादा पता नहीं है उनको क्रम्पिंग और हिप-हॉप में ज्यादा फर्क भी नहीं पता है लेकिन फिर भी मेरे पापा ने मेरा पूरा साथ दिया.

रेडबुल प्रेजेंट्स डांस यॉर स्टाइल के तीसरे और आखरी राउंड में दीपक शाही उर्फ़ नेपो और बेंगलुरु के हिप-हॉप डांसर प्रदीप के ने एक दूसरे को कड़ी टक्कर दी. और अंत में जनता के वोट ने नेपो को विजेता चुना जो भारत को 4 नवंबर 2023 को जर्मनी में रेड बुल डांस योर स्टाइल वर्ल्ड फ़ाइनल में रिप्रजेंट करेंगे.

रेडबुल प्रेजेंट्स डांस यॉर स्टाइल में ऑडिएंस वोटिंग | फोटोः अलमिना खातून/दिप्रिंट

बैटल के दौरान जिस तरह बीट पर डांसर्स नाच रहे थे उससे भी ज्यादा जोश ऑडिएंस के बीच था. सभी नाच-गा रहे थे अपने पसंदीदा स्ट्रीट डांसर का नाम लेकर चिल्ला रहे थे और उसको सपोर्ट कर रहे थे.

अपनी जीत के बाद नेपो ने दिप्रिंट से बातचीत में कहा कि “मुझे जीतने की खुशी तो बहुत ज्यादा है, लेकिन उससे भी ज्यादा अब जिम्मेदारी है क्योंकि पूरे इंडिया को जर्मनी में रिप्रेजेंट करना है तो उसके लिए बहुत तैयारी करनी पड़ेगी.”

“मुझे इंडिया के लिए अभी से ही प्रैक्टिस शुरू कर देना है.”

दूसरे रनर-अप दीपक के कहना है कि हर जीत तो लगी रहती है,और उन्हें इस फैसले से कोई दिक्कत नहीं है.

एक सवाल के जवाब में कि क्या अगर ये बैटल बेंगलुरु में होता तो रिजल्ट कुछ और होता इसके जवाब में प्रदीप ने कहा कि मुझे नहीं पता वहां बैटल होता तो रिजल्ट क्या होता लेकिन मुझे इतना जरूर लगता है कि अगर बैटल बेंगलुरु में होता तो शायद ज्यादा निष्पक्ष रिजल्ट आता.


यह भी पढ़ें: ‘गरीबी, स्लम, पेरेंट्स का विरोध’, भारतीय ब्रेकडांसर्स ओलंपिक के लिए तैयार, कठिन हालात में भी नहीं टूटे


share & View comments