Thursday, 26 May, 2022

रूही तिवारी

रूही तिवारी
129 पोस्ट0 टिप्पणी
रूही तिवारी 'दिप्रिंट' में एसोसिएट एडिटर हैं. इन्होंने दिल्ली विवि के हिंदू कॉलेज से अर्थशास्त्र में बीए और एशियन कॉलेज ऑफ जर्नलिज्म से पत्रकारिता मे डिप्लोमा किया है. इन्होंने 2007 से अपना केरियर शुरू किया और इंडियन एक्सप्रेस तथा मिंट में काम किया. उनकी रुचि तथा विशेषज्ञता राजनीति, खासकर कांग्रेस तथा वामदलों की, और ग्रामीण मामलों, आधार तथा सरकार के अन्य जनकल्याण कार्यक्रमों से संबंधित नीतियों में है. इन्होंने एक साल काठमांडो में काम किया है, जहां अंग्रेजी दैनिक 'रिपब्लिका' में साप्ताहिक स्तंम लिखा और विभिन्न संगठनों में रिसर्च एनालिस्ट का काम भी किया. इन्होंने नेपाल पर एक पुस्तक 'द लैंडस्केप ऑफ मधेस: पॉलिटिक्स, सोसाइटी ऐंड इकोनॉमी ऑफ द प्लेन्स' का संपादन किया और उसमें एक अध्याय भी लिखा है. लेखन के अलावा ये रोज वीडियो निर्माण करके मल्टीमीडिया पत्रकारिता में भी सक्रिय हैं. इनसे संपर्क करें- ruhi.tewari@theprint.in इनका ट्वीटर है- @RuhiTewari

मत-विमत

वीडियो

राजनीति

देश

न सुन जू न ही कन्फ्यूशियस, शी जिनपिंग समेत चीन के आला नेता किस ‘दार्शनिक’ से ले रहे सबक

चीनी राज्य-व्यवस्था ज्यादा-से-ज्यादा अधिनायकवादी होती गई है, जिसके पीछे उस दर्शन का हाथ है जो सरकारी सत्ता हासिल करने, इनाम और सजा देने पर ज़ोर देता है.

लास्ट लाफ

उपभोक्ता अब कार का नया मॉडल चाहते हैं और क्वाड रूम में ‘विशाल हाथी’

दिप्रिंट के संपादकों द्वारा चुने गए पूरे दिन के सबसे अच्छे कार्टून.