scorecardresearch
Monday, 15 July, 2024
होमविदेश2 साल बाद भारत में होगा पूर्णकालिक अमेरिकी राजदूत, सीनेट ने एरिक गार्सेटी के नाम पर लगाई मुहर

2 साल बाद भारत में होगा पूर्णकालिक अमेरिकी राजदूत, सीनेट ने एरिक गार्सेटी के नाम पर लगाई मुहर

लॉस एंजेलिस के पूर्व मेयर एरिक गार्सेटी का नामांकन इस कारण से बहुत दिनों तक रुका रहा कि उन्होंने अपने पूर्व सहयोगी के खिलाफ कोई कारवाई नहीं की, जिनपर डराने-धमकाने और यौन उत्पीड़न का आरोप था.

Text Size:

नई दिल्ली: भारत में राजदूत के रूप में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन द्वारा सुझाए गए व्यक्ति एरिक गार्सेटी के नामांकन पर अमेरिकी सीनेट मुहर लगा दी है.

यह फैसला बीते दो साल से नई दिल्ली स्थित अमेरिकी दूतावास में पूर्णकालिक दूत नहीं होने बाद आया है. भारत-अमेरिका संबंधों के इतिहास में यह अब तक की सबसे लंबी रिक्ति थी.

पिछले हफ्ते, विदेशी संबंधों की सीनेट समिति ने गार्सेटी के नामांकन को 13:8 से मंजूरी दे दी. प्रक्रिया के अंतिम चरण को पूरा होने के बाद इसे मंजूरी के लिए भेज दिया गया.

जुलाई 2021 में आधिकारिक तौर पर नामांकित, गार्सेटी पर आरोपों के कारण महीनों तक सीनेट में नामांकन रुका रहा. गार्सेटी पर आरोप था कि वह यौन उत्पीड़न और धमकाने के आरोपी अपने एक पूर्व सहयोगी के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहे थे. हालांकि लॉस एंजेलिस के पूर्व मेयर ने इन दावों का बार-बार खंडन किया है.

नई दिल्ली स्थित अमेरिकी दूतावास में बैठने वाले अंतिम अमेरिकी राजदूत केनेथ जस्टर थे, जिन्होंने जनवरी 2021 में पद छोड़ दिया था. जब से जस्टर ने बाइडेन के अंदर पदभार ग्रहण किया है, तब से वाशिंगटन ने दिल्ली में अपने मिशन में छह प्रभारी सीडीए तैनात किए हैं, जिनके नाम हैं- डॉन हेफ्लिन, एडगार्ड कगन, डैनियल स्मिथ, अतुल केशप, पेट्रीसिया ए. लैसीना और एलिजाबेथ जोन्स.

विशेषज्ञों का कहना था कि राजदूत के पद पर लंबे समय तक रिक्ति ऐसे समय में आई है जब भारत-अमेरिका संबंध अपने ‘सबसे महत्वपूर्ण चरण’ पर पहुंच रहे हैं, और अमेरिका के दृष्टिकोण से रणनीतिक संबंधों के दीर्घकालिक दृष्टिकोण की आवश्यकता थी.

थिंक टैंक सेंटर फॉर स्ट्रैटेजिक एंड इंटरनेशनल स्टडीज (CSIS) द्वारा संकलित डेटा से पता चलता है कि भारत में अमेरिकी राजदूतों ने आमतौर पर अपने पूर्ववर्तियों के प्रस्थान के 6 से 7 महीने के भीतर पदभार ग्रहण कर लिया है.

इसके अलावा, अमेरिकी विदेश सेवा संघ (एएफएसए) के आंकड़ों के आधार पर पिछले दिसंबर में दिप्रिंट द्वारा किए गए एक विश्लेषण से पता चलता है कि अमेरिकी विदेश सेवा के पेशेवर संघ के मुताबिक 20 अमेरिकी राजदूत नामित सीनेट से पुष्टि की प्रतीक्षा कर रहे थे, लेकिन फिर भी गार्सेटी को लेकर मामला लंबित रखा गया. 

बिडेन का समर्थन और व्हिसलब्लोअर का दावा

सीनेट में पिछले सप्ताह के मतदान के दौरान तनाव चरम पर था.

लॉस एंजेलिस मेयर कार्यलय में गार्सेटी के पूर्व संचार निदेशक नाओमी सेलिगमैन ने दावा किया था कि उन्होंने कार्यस्थल में यौन उत्पीड़न के आरोप पर आंखें मूंद लीं था. नाओमी सेलिगमैन ने विभिन्न मीडिया आउटलेट्स से उनके नामांकन की पुष्टि के खिलाफ अभियान चलाने का आग्रह किया था.

सोमवार को सीएनएन को दिए एक साक्षात्कार में, सेलिगमैन ने कहा, ‘वह एक राजदूत बनने या वास्तव में इस देश या इस दुनिया में कहीं भी सार्वजनिक पद संभालने के योग्य नहीं है.’

गार्सेटी के पूर्व सहयोगी रिक जैकब्स यौन उत्पीड़न के आरोपी कर्मचारी थे और मामला सबसे पहले पत्रकार याशर अली द्वारा दायर किया गया था, जिसने पूरे देश का ध्यान आकर्षित किया था.

रिपब्लिकन के साथ-साथ गार्सेटी की अपनी पार्टी डेमोक्रेटिक पार्टी के कुछ सदस्यों ने यौन दुराचार के आरोपों के कारण उनके नामांकन का विरोध किया है.

दावों के बावजूद, बाइडेन प्रशासन ने कई मौकों पर उनके नामांकन के लिए अपना समर्थन दोहराया है.

सीनेट की विदेश संबंध समिति द्वारा नामांकन को मंजूरी दिए जाने के बाद के सबसे हालिया मामले में, अमेरिकी विदेश विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने कहा, ‘यह हमारे दोनों लोगों के हित में होगा कि हमारे पास एक स्थायी राजदूत हो. हम आशा करते हैं कि महापौर और जल्द ही बनने वाले राजदूत एरिक गार्सेटी जल्द ही उस पद को संभालने में सक्षम होंगे.’

मुख्य रूप से रिपब्लिकन सीनेटरों द्वारा गार्सेटी के नामांकन पर रोक लगा दी गई थी, यही वजह है कि पिछली कांग्रेस द्वारा उनकी पुष्टि नहीं की जा सकी थी. हालांकि बाइडेन ने इस साल जनवरी में उन्हें उसी पद पर दोबारा नामित किया था.

गार्सेटी को जो बाइडेन के ‘विश्वसनीय राजनीतिक सहयोगी’ के रूप में जाना जाता है, और उन्होंने उनके 2020 के राष्ट्रपति अभियान के सह-अध्यक्ष के रूप में भी काम किया. एक समय पर, उन्हें जो बाइडेन के मंत्रिमंडल के लिए माना जाता था.

(इस लेख को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: क्यों केंद्र सरकार को भोपाल गैस त्रासदी के पीड़ितों को खुद की जेब से पैसे नहीं देने चाहिए


 

share & View comments