Saturday, 25 June, 2022
होमविदेशयूरोपीय संघ के साथ ब्रेग्जिट व्यापार वार्ता में हल तलाशने का वक्त बीता जा रहा है: ब्रिटेन

यूरोपीय संघ के साथ ब्रेग्जिट व्यापार वार्ता में हल तलाशने का वक्त बीता जा रहा है: ब्रिटेन

ब्रिटेन सरकार ने कहा कि अभी तक वार्ता ‘सार्थक’ रही है लेकिन ‘हमें अंतहीन वार्ता में उलझने के बजाय जल्द ही असली प्रगति होते देखना आवश्यक है क्योंकि उत्तरी आयरलैंड में वास्तविक मुददे हल नहीं हुए हैं.’

Text Size:

लंदन: ब्रिटेन की सरकार ने यूरोपीय संघ के साथ ब्रेग्जिट के बाद व्यापार के मसलों को हल करने के लिए वार्ता तेज करने की शनिवार को कोशिश की और कहा कि दोनों पक्षों के बीच अब भी मतभेद हैं और इन्हें दूर करने के लिए वक्त बीता जा रहा है.

ब्रिटेन और यूरोपीय संघ (ईयू) के वार्ताकारों ने उत्तरी आयरलैंड के लिए व्यापार नियमों को लेकर पैदा हुए प्रमुख मतभेदों को हल करने के लिए पिछले हफ्ते ब्रसेल्स में मुलाकात की थी. मंगलवार को लंदन में वार्ता की गयी और ब्रिटेन ने कहा कि ‘मूलभूत मुद्दों पर मतभेद अब भी बने हुए हैं.’

ब्रिटेन सरकार ने कहा कि अभी तक वार्ता ‘सार्थक’ रही है लेकिन ‘हमें अंतहीन वार्ता में उलझने के बजाय जल्द ही असली प्रगति होते देखना आवश्यक है क्योंकि उत्तरी आयरलैंड में वास्तविक मुददे हल नहीं हुए हैं.’

उत्तरी आयरलैंड ब्रिटेन का हिस्सा है और उसकी सीमा यूरोपीय संघ के सदस्य आयरलैंड से लगती है. उत्तरी आयरलैंड सामान के लिए यूरोपीय संघ की शुल्क मुक्त एकल बाजार के तहत आता है जबकि ब्रिटेन 2020 के अंत में 27 देशों के इस संघ से अलग हो चुका है.

इस विशेष दर्जे के कारण आयरलैंड द्वीप पर खुली सीमा है जो 1998 के गुड फ्राइडे समझौते के बाद से उत्तरी आयरलैंड की शांति प्रक्रिया का एक अहम स्तंभ है. लेकिन इसका मतलब है कि ब्रिटेन के बाकी हिस्सों से उत्तरी आयरलैंड में आने वाले सामान के लिए आयरिश सागर में एक नयी सीमाशुल्क सीमा होगी जबकि वे एक ही देश का हिस्सा हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

इससे उत्तरी आयरलैंड में आने वाले कुछ सामान और व्यापार के लिए मुश्किलें पैदा हो गयी हैं. प्रशीतित मांस पर यूरोपीय संघ के नियमों ने सॉसेज की कमी पैदा कर दी है और अब ब्रिटेन दावा करता है कि क्रिसमस के लिए पटाखों को उत्तरी आयरलैंड आने से रोका जा रहा है.

वहीं, यूरोपीय संघ, ब्रिटेन पर ऐसे कानूनी समझौते पर फिर से बातचीत करने का आरोप लगाता है जिस पर उसने एक साल से भी कम समय पहले हस्ताक्षर किए थे. कुछ अधिकारियों का कहना है कि यह दिखाता है कि ब्रिटेन की सरकार पर भरोसा नहीं किया जा सकता है. बहरहाल, यूरोपीय संघ समझौते में बदलाव करने के लिए राजी हो गया और उसने उत्तरी आयरलैंड में आने वाले भोजन, पौधों और पशुओं पर 80 प्रतिशत तक शुल्क कम करने का प्रस्ताव दिया है.

ब्रिटेन ने इन प्रस्तावों का स्वागत किया है लेकिन वह मांग कर रहा है कि यूरोपीय संघ की सर्वोच्च अदालत को समझौते पर किसी भी विवाद को हल करने की भूमिका से हटा दिया जाए और इसके स्थान पर एक स्वतंत्र मध्यस्थता अदालत बने. लेकिन इस सुझाव को यूरोपीय संघ ने नकार दिया है.

यूरोपीय संघ के मुख्य वार्ताकार मारोस सेफकोविक और ब्रिटेन के डेविड फ्रॉस्ट का वार्ता की प्रगति का आकलन करने के लिए अगले हफ्ते के अंत में लंदन में मुलाकात करने का कार्यक्रम है.


यह भी पढ़ें: कब तक अंबानी और अडानी का वर्चस्व बना रहेगा? दक्षिण कोरिया और जापान से मिल सकता है जवाब


 

share & View comments