scorecardresearch
Monday, 27 May, 2024
होमविदेश'भारतीय नेता कैम्ब्रिज, हार्वर्ड में बोल सकता है लेकिन भारत की यूनिवर्सिटी में नहीं', लंदन में बोले राहुल गांधी

‘भारतीय नेता कैम्ब्रिज, हार्वर्ड में बोल सकता है लेकिन भारत की यूनिवर्सिटी में नहीं’, लंदन में बोले राहुल गांधी

कांग्रेस नेता ने कहा, 'भारत में कई महान लोग यात्रा पर गए हैं, सबसे प्रसिद्ध यात्रा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी द्वारा की गई थी. यह यात्रा वास्तव में एक आत्मनिरीक्षण है, लोगों को सुनने का प्रयास है.

Text Size:

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने लंदन में प्रवासी भारतीयों से बातचीत के दौरान कहा कि उन्होंने भारत जोड़ो यात्रा के दौरान पाया कि देश में मुख्य मुद्दे महंगाई, बेरोजगारी और महिलाओं के खिलाफ हिंसा हैं.

रविवार को लंदन में बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा, ‘मुझे भारतीय राजनीति और वैश्विक राजनीति पर बात करने के लिए कैंब्रिज विश्वविद्यालय में बोलने की अनुमति दी गई और वहां काफी अच्छा माहौल है. मैं सोच रहा था, यह काफी अजीब है कि एक भारतीय राजनेता कैंब्रिज विश्वविद्यालय और हार्वर्ड विश्वविद्यालय में भाषण दे सकता है, लेकिन वह भारत के एक विश्वविद्यालय में भाषण नहीं दे सकता है.’

केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि विपक्ष को संसद में मुद्दे उठाने की इजाजत नहीं है.

उन्होंने कहा, ‘कारण यह है कि हमारी सरकार विपक्ष के किसी भी विचार, विपक्ष की किसी भी अवधारणा पर चर्चा करने की अनुमति नहीं देती है. संसद भवन में भी ऐसा ही होता है. जब हमें महत्वपूर्ण चीजों नोटबंदी, जीएसटी, चीनी हमारे क्षेत्र के अंदर बैठे थे, हम इन सवालों को उठाने की कोशिश करते हैं, तो हमें सदन में इन सब मुद्दों को उठाने की अनुमति नहीं दी जाती है.’

राहुल ने आगे कहा कि यह एक सच्चाई है, यह शर्मनाक है, लेकिन यह सच है और यह वह भारत नहीं है जिसके हम सभी आदी हैं. हमारा देश अपनी बात खुल कर बोलने वाला देश है. जहां हम अपनी बुद्धिमत्ता पर गर्व करते हैं, एक-दूसरे की राय का सम्मान करते हैं, एक-दूसरे की बात सुनते हैं. लेकिन यह चीज़ अब नष्ट हो गई है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

यात्रा के पीछे का मकसद

राहुल गांधी ने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा के पीछे का मकसद सीधे जनता के बीच जाना था.

कांग्रेस नेता ने कहा, ‘भारत में कई महान लोग यात्रा पर गए हैं, सबसे प्रसिद्ध यात्रा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी द्वारा की गई थी. विवेकानंद जी जाहिर तौर पर देश भर में चले. गुरु नानक जी देश भर में चले. यह यात्रा वास्तव में एक आत्मनिरीक्षण है, लोगों को सुनने का प्रयास है.

यात्रा के बारे में बात करते हुए राहुल गांधी ने कहा, महंगाई, बेरोजगारी और महिलाओं के खिलाफ हिंसा देश में प्रमुख मुद्दे हैं.

राहुल गांधी ने कहा, ‘यह मेरे लिए एक अद्भुत अनुभव था, हमने कन्याकुमारी से शुरू किया और कश्मीर तक गए, गर्मी में, बारिश में, बर्फ में हजारों किलोमीटर. हम अपने देश को बहुत विस्तार से समझ पाए, हमने हजारों लोगों से, किसानों से, आप जैसे छात्रों से बात की. हम युवाओं से मिले और मुख्य मुद्दा हिंसा, मूल्य वृद्धि और भारतीय महिलाएं जिस हिंसा का सामना करती हैं.’


यह भी पढ़ें: सिसोदिया को भले क्लीन चिट न दें, पर खीरे की चोरी में हीरे की डकैती वाली साजिश से चौकन्ने रहिये


share & View comments