scorecardresearch
Monday, 26 February, 2024
होमविदेशUAE में बोले Modi- जलवायु परिवर्तन पर वैश्विक सहयोग जरूरी, पर ग्लोबल साउथ की प्राथमिकताओं से न हो समझौता

UAE में बोले Modi- जलवायु परिवर्तन पर वैश्विक सहयोग जरूरी, पर ग्लोबल साउथ की प्राथमिकताओं से न हो समझौता

COP28 जलवायु शिखर सम्मेलन के लिए दुबई में मौजूद प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत एकमात्र ऐसा देश है जो अपने राष्ट्रीय निर्धारित योगदान (एनडीसी) को प्राप्त करने की राह पर है.

Text Size:

दुबई (यूएई) : जलवायु परिवर्तन के खिलाफ मजबूत वैश्विक सहयोग की वकालत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि ये कदम ग्लोबल साउथ की विकास प्राथमिकताओं से समझौता न करें.

COP28 जलवायु शिखर सम्मेलन के लिए दुबई में मौजूद प्रधानमंत्री मोदी ने संयुक्त अरब अमीरात स्थित समाचार पत्र अलेतिहाद से बात करते हुए कहा कि भारत एकमात्र ऐसा देश है जो अपने राष्ट्रीय निर्धारित योगदान (एनडीसी) को प्राप्त करने की राह पर है.

जलवायु वित्त के बारे में पीएम मोदी ने कहा कि उन्होंने हमेशा कहा है कि जलवायु परिवर्तन एक सामूहिक चुनौती है जो एकीकृत वैश्विक प्रतिक्रिया की मांग करती है.

उन्होंने कहा, “यह पहचानना जरूरी है कि विकासशील देशों ने इस समस्या को पैदा में योगदान नहीं दिया है. फिर भी विकासशील देश समाधान का हिस्सा बनने के इच्छुक हैं.”

पीएम मोदी ने आगे कहा, “लेकिन, वे आवश्यक वित्तपोषण और प्रौद्योगिकी तक पहुंच के बिना योगदान नहीं कर सकते… इसलिए मैंने अपेक्षित जलवायु वित्तपोषण और प्रौद्योगिकी हस्तांतरण सुनिश्चित करने के लिए वैश्विक सहयोग की पुरजोर वकालत की है.”

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि जैसे-जैसे राष्ट्र जलवायु कार्रवाई को आगे बढ़ाते हैं, यह समानता, जलवायु न्याय, साझा दायित्वों और साझा क्षमताओं पर आधारित होना चाहिए.

उन्होंने कहा, “इन सिद्धांतों का पालन करके, हम एक स्थायी भविष्य की ओर एक रास्ता बना सकते हैं जो किसी को भी पीछे नहीं छोड़ेगा.” उन्होंने आगे जोर देकर कहा कि “हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि ग्लोबल साउथ की विकास प्राथमिकताओं से समझौता न किया जाए.”

पीएम मोदी ने इस दिशा में भारत द्वारा की जा रही कई पहलों के बारे में भी विस्तार से बताया.

एलेतिहाद की रिपोर्ट के अनुसार, मिशन लाइफस्टाइल फॉर एनवायरनमेंट (मिशन LiFE), दुनिया को पर्यावरण के अनुकूल जीवनशैली अपनाने के लिए प्रेरित करने की एक पहल है.

पीएम मोदी ने कहा, “हमने टिकाऊ जीवनशैली पर एक वैश्विक मिशन शुरू किया है – ‘लाइफ, लाइफस्टाइल फॉर एनवायरनमेंट’ – जो टिकाऊ उपभोग जीवनशैली में बदलाव और परिपत्र अर्थव्यवस्था सिद्धांतों को बढ़ावा देता है.”

उन्होंने आगे कहा, “मिशन LiFE के लिए मेरा आह्वान इस विश्वास पर आधारित है कि ग्रह-समर्थक जीवनशैली और विकल्पों का एक जन आंदोलन वैश्विक जलवायु कार्रवाई में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है.”

भारत ने स्वैच्छिक, ग्रह-समर्थक कार्यों को प्रोत्साहित करने के लिए एक तंत्र की भी संकल्पना की है जो जलवायु परिवर्तन पर प्रभावी ढंग से प्रतिक्रिया दे सकता है, जिसे “ग्रीन क्रेडिट पहल” कहा जाता है.

भारत ने जनवरी 2023 में अपने राष्ट्रीय हरित हाइड्रोजन मिशन की घोषणा की, जिसका उद्देश्य हरित हाइड्रोजन और उसके डेरिवेटिव के उत्पादन, उपयोग और निर्यात के लिए एक वैश्विक केंद्र बनना है. हाल ही में, नई दिल्ली हरित हाइड्रोजन उत्पादन पर विशेष ध्यान देने के साथ प्रौद्योगिकियों को बढ़ाने में मदद के लिए एक संयुक्त हाइड्रोजन टास्क फोर्स स्थापित करने पर भी सहमत हुई.

पीएम मोदी ने कहा कि देश में 2030 तक 5 एमएमटीपीए हरित हाइड्रोजन उत्पादन का लक्ष्य है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि राष्ट्रीय हरित हाइड्रोजन मिशन के लिए 80 गीगावॉट इलेक्ट्रोलाइज़र क्षमता और 125 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा की आवश्यकता है, जिसमें लगभग 100 बिलियन अमेरिकी डॉलर का कुल निवेश होने का अनुमान है.

उन्होंने आगे आग्रह किया, “यूएई के दोस्तों, जिनके पास पहले से ही भारत के नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र में पर्याप्त निवेश है, से भारत में हरित हाइड्रोजन क्षेत्र में निवेश करें.”

प्रधानमंत्री मोदी ने इस बात पर जोर दिया कि भारत की जी20 अध्यक्षता के दौरान जलवायु कार्रवाई प्राथमिकता वाले विषयों में से एक थी और नई दिल्ली जी20 शिखर सम्मेलन में इस पर उचित रूप से ध्यान दिया.

मोदी ने कहा, “मुझे खुशी है कि हाल ही में नई दिल्ली जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान, इस पहलू पर उचित तौर से गौर किया गया है, जिसमें वैश्विक स्तर पर सभी स्रोतों से निवेश और जलवायु वित्त को अरबों से खरबों डॉलर तक तेजी से और बड़े पैमाने पर बढ़ाने की आवश्यकता की मान्यता भी शामिल है.”

उन्होंने कहा कि भारत की जी20 अध्यक्षता के दौरान, देश ने सुनिश्चित किया कि जलवायु परिवर्तन और जलवायु कार्रवाई पर विशेष ध्यान दिया जाए, जो जी20 नई दिल्ली नेताओं की घोषणा में नजर आता है.

पीएम मोदी ने कहा, इनमें हरित विकास समझौता, एसडीजी की प्रगति में तेजी लाने पर जी20 2023 कार्य योजना, सतत विकास के लिए जीवन शैली के उच्च-स्तरीय सिद्धांत, हाइड्रोजन पर उच्च-स्तरीय स्वैच्छिक सिद्धांत, साथ ही आपदा राहत कार्य समूह का संस्थागतकरण, शामिल हैं.

उन्होंने कहा कि पिछले 9 वर्षों में, भारत ने उदाहरण के तौर पर प्रदर्शित किया है कि देश जलवायु परिवर्तन से निपटने में अपनी भूमिका निभाने में सबसे आगे है.

प्रधान मंत्री ने कहा, “COP26 में, मैंने ‘पंचामृत’ – भारत की पांच महत्वाकांक्षी प्रतिबद्धताएं- जिनमें वैश्विक जलवायु कार्रवाई में हमारे योगदान के रूप में प्रस्तुत किया.”

पांच महत्वाकांक्षी प्रतिबद्धताओं में निम्नलिखित चीजें शामिल हैं: 2030 तक 500GW गैर-जीवाश्म ऊर्जा क्षमता तक पहुंचना; यह सुनिश्चित करना कि 2030 तक इसकी 50 प्रतिशत ऊर्जा आवश्यकताएं नवीकरणीय ऊर्जा स्रोतों से पूरी हों; अब से 2030 के बीच कुल अनुमानित कार्बन उत्सर्जन में 1 बिलियन टन की कमी करना; 2030 तक अर्थव्यवस्था की कार्बन तीव्रता को 2005 के स्तर से 45 प्रतिशत कम करना; और 2070 तक शुद्ध शून्य उत्सर्जन के लक्ष्य को प्राप्त करना, एलेतिहाद ने यह जानकारी दी है.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि, भारत ने अपने वादों को अमल में लाया है और COP27 से पहले अपने अद्यतन राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान (NDCs) प्रस्तुत किए हैं, और दीर्घकालिक-निम्न उत्सर्जन विकास रणनीति (LT-LEDS) प्रस्तुत की है, जिसने COP27 के दौरान इसके नेट ज़ीरो के कदम को आगे बढ़ाया है.

यह देखते हुए कि भारत अपने राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान (एनडीसी) को प्राप्त करने वाला एकमात्र देश है, पीएम मोदी ने आगे कहा कि वैश्विक स्तर पर जलवायु दृष्टिकोण उतना सकारात्मक नहीं है. लेकिन, उन्होंने उम्मीद जताई कि COP28 शिखर सम्मेलन वैश्विक समुदाय को 2030 के लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए सक्रिय करेगा.

उन्होंने कहा, “हम एकमात्र जी20 देश हैं जो अपने एनडीसी को हासिल करने की राह पर हैं.”

“दुर्भाग्य से, वैश्विक स्तर पर, जलवायु को लेकर नजरिया उतना सकारात्मक नहीं है, और ऐसी चिंताएं हैं कि हम एक वैश्विक समुदाय के रूप में अपने 2030 के लक्ष्यों को प्राप्त नहीं कर पाएंगे.”

राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान, उत्सर्जन में कटौती और जलवायु प्रभावों के अनुकूल होने के लिए एक जलवायु कार्य योजना है. पेरिस समझौते के प्रत्येक पक्ष को एक एनडीसी स्थापित करना और हर पांच साल में इसे अपडेट करना आवश्यक है.

प्रधानमंत्री ने कहा, “मुझे उम्मीद है कि यह आयोजन वैश्विक समुदाय को गलती में सुधार करने और प्रयासों को दोगुना करने के लिए प्रेरित करेगा ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि हम अपने 2030 लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए ट्रैक पर लौट आएं.”


यह भी पढे़ं : ब्लिंकन बोले- अभी हमारा फोकस संघर्ष विराम बढ़ाने पर, गाज़ा से और ज्यादा बंधकों को निकालने की कोशिश


 

share & View comments