Thursday, 7 July, 2022
होमविदेशनीदरलैंड में कोरोना संक्रमण बढ़ने पर लॉकडाउन लागू, सैकड़ों लोगों ने किया विरोध प्रदर्शन

नीदरलैंड में कोरोना संक्रमण बढ़ने पर लॉकडाउन लागू, सैकड़ों लोगों ने किया विरोध प्रदर्शन

कार्यवाहक प्रधानमंत्री मार्क रूट ने शुक्रवार को आंशिक लॉकडाउन की घोषणा की और कहा कि यह कम से कम तीन सप्ताह तक लागू रहेगा.

Text Size:

यूट्रेक्ट (नीदरलैंड): नीदरलैंड में कोरोनावायरस संक्रमण के मामले बढ़ने के बीच लागू किए गए लॉकडाउन के बाद उत्तरी शहर यूट्रेक्ट में बड़ी संख्या में विरोध प्रदर्शन हुए.

सरकारी प्रसारक ‘एनओएस’ ने बताया कि एम्सटर्डर्म से 140 किलोमीटर दूर ल्यूवॉर्डन में चौराहे पर सैकड़ों की संख्या में युवा इकट्ठा हुए और उन्होंने लॉकडाउन के विरोध में प्रदर्शन किया. एनओएस ने अपनी खबर में बताया कि बाद में दंगा पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को खदेड़ दिया.

मीडिया में आई खबरों में कहा गया कि दक्षिणी शहर ब्रेडा में ‘बार’ तय समय से ज्यादा वक्त तक खुले रहे. यूट्रेक्ट में, छात्र सुजैन वान डे वेर्ड ने नए प्रतिबंधों पर अप्रसन्नता व्यक्त की.

उन्होंने कहा, ‘मेरे लिए लॉकडाउन को स्वीकार करना बहुत मुश्किल है. यह बहुत बुरा है और यह कुछ ऐसा है जो एक छात्र के तौर पर मेरे सामाजिक जीवन और मेरे आराम करने के तरीके को तबाह करता है.’

देश की लगभग 85 प्रतिशत आबादी का पूर्ण टीकाकरण हो गया है लेकिन बृहस्पतिवार को देश के सार्वजनिक स्वास्थ्य संस्थान ने 24 घंटों में 16,364 नए मामले सामने आने की बात कही. देश में संक्रमण के ये अब तक के सर्वाधिक मामले हैं. संक्रमण से 18,600 से अधिक लोग जान गंवा चुके हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

कार्यवाहक प्रधानमंत्री मार्क रूट ने शुक्रवार को आंशिक लॉकडाउन की घोषणा की और कहा कि यह कम से कम तीन सप्ताह तक लागू रहेगा. उन्होंने कहा कि उनकी सरकार ‘संक्रमण पर कठोर प्रहार करना चाहती है.’

गौरतलब है कि महाद्वीप के कुछ हिस्सों में संक्रमण की नई लहर शुरू होने के बाद पश्चिमी यूरोप के किसी देश में लगा यह पहला लॉकडाउन है.


यह भी पढ़े: UN की जलवायु परिवर्तन बैठक में छाया रहा उत्सर्जन-कटौती और गरीब देशों को आर्थिक मदद देने का मुद्दा


 

share & View comments