Thursday, 11 August, 2022
होमविदेशयूक्रेन संकट के बीच मास्को पहुंचे पाकिस्तान के PM इमरान खान क्यों हैं उत्साहित

यूक्रेन संकट के बीच मास्को पहुंचे पाकिस्तान के PM इमरान खान क्यों हैं उत्साहित

मास्को पहुंचकर इमरान खान ने कहा, 'मेरा आने का ये बहुत अच्छा समय है और मैं काफी उत्साहित हूं.'

Text Size:

नई दिल्ली: पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान यूक्रेन में जारी संकट के बीच दो दिन की आधिकारिक यात्रा पर रूस गए हैं. इस यात्रा में वो रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के साथ द्विपक्षीय मामलों पर चर्चा करेंगे जिसमें ऊर्जा सहयोग प्रमुख है.

मास्को पहुंचकर खान ने कहा, ‘मेरा आने का ये बहुत अच्छा समय है और मैं काफी उत्साहित हूं.’

खान के साथ एक उच्च-स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी मौजूद है और उम्मीद है कि रूसी कंपनियों के सहयोग से लंबे समय से विलंबित गैस पाइपलाइन के निर्माण पर जोर दिया जाएगा. रूसी सैनिकों के पूर्वी यूक्रेन के अलगाववादी क्षेत्रों में प्रवेश करने और ‘विशेष सैन्य अभियान’ शुरू करने के बाद राष्ट्रपति पुतिन से मिलने वाले इमरान खान पहले विदेशी नेता हैं.

कीव में गुरुवार को कई विस्फोटों की आवाज सुनी गई. इस बीच, यूक्रेन के राष्ट्रपति व्लादिमीर ज़ेलेंस्की ने देश में मिसाइल हमलों की खबरों की पुष्टि की और मार्शल लॉ की घोषणा की.

अमेरिका ने इमरान खान की मास्को यात्रा की निंदा की है और कहा कि हर जिम्मेदार देश की जिम्मेदारी है कि वो यूक्रेन में रूस के कदमों का विरोध करे. अमेरिका के गृह विभाग के प्रवक्ता नेड प्राइस ने बुधवार को कहा था कि उन्होंने यूक्रेन के हालात पर पाकिस्तान को अपनी स्थिति से अवगत करा दिया है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें


यह भी पढ़ें: PFI को पता है कि सांप्रदायिक शेर की सवारी खतरनाक होती है- इनकी बुनियाद नफरत पर खड़ी है


इमरान खान की यात्रा पर पाकिस्तानी मीडिया की प्रतिक्रिया

रूस के डिप्टी विदेश मंत्री ने मास्को में इमरान खान का स्वागत किया. पाकिस्तान के पीएमओ ने इमरान खान की कुछ तस्वीरें भी साझा कीं. मास्को में उन्हें गॉर्ड ऑफ ऑनर और रेड कॉर्पेट रिसेप्शन दिया गया.

 

दो दशकों में पाकिस्तानी प्रधानमंत्री की ये पहली रूस की आधिकारिक यात्रा है. इससे पहले मार्च 1999 में नवाज शरीफ ने रूस की यात्रा की थी.

डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक, ‘पाकिस्तान के अधिकारियों ने इस यात्रा को ऊर्जा की कमी वाले देश के लिए ऊर्जा, क्षेत्रीय संपर्क और अफगानिस्तान में अमेरिका-वापसी के बाद की भूमिका के लिए दुर्लभ अवसर बताया है.’

रिपोर्ट के अनुसार, ‘इसका पश्चिम के साथ पाकिस्तान के संबंधों पर प्रभाव पड़ेगा, एक सोच है कि यह यात्रा एक दोधारी तलवार है और सरकार को सावधानी से चलना चाहिए.’

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून की रिपोर्ट के अनुसार, ‘यह यात्रा बहुआयामी पाकिस्तान-रूस संबंधों को और गहरा करने और विविध क्षेत्रों में आपसी सहयोग को बढ़ाने में योगदान देगी.’


यह भी पढ़ें: यूक्रेन जा रहा एअर इंडिया का विमान वापस बुलाया गया, कीव स्थित भारतीय दूतावास ने जारी की एडवाइजरी


‘पुतिन या विदेश मंत्री ने क्यों नहीं किया स्वागत’

पाकिस्तान के लोग पीएम इमरान खान की मास्को यात्रा का स्वागत कर रहे हैं.

पाकिस्तान के पूर्व सैनिक मेजर आदिल रजा ने पीएम की यात्रा को ‘पश्चिमी देशों की हिपोक्रेसी’ के मुंह पर तमाचा है.

पाकिस्तानी पत्रकार नायला इनायत ने इमरान खान पर निशाना साधते हुए कहा कि वो पुतिन से ज्यादा रूस को जानते हैं.

वहीं कुछ लोगों का कहना है कि रूस के राष्ट्रपति पुतिन या विदेश मंत्री ने इमरान खान की आगवानी क्यों नहीं की.


यह भी पढ़ें: सोवियत संघ के परमाणु हथियारों की जासूसी के लिए शीत युद्ध अभियान में CIA और PLA ने ऐसे मिलाए थे हाथ


 

share & View comments