Thursday, 30 June, 2022
होमदेशदिल्ली में हुई बारिश से घटा राजधानी का तापमान, पर ट्रैफिक और जलभराव से परेशान हुए लोग

दिल्ली में हुई बारिश से घटा राजधानी का तापमान, पर ट्रैफिक और जलभराव से परेशान हुए लोग

राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में आंधी के कारण पेड़ उखड़ गए और सप्ताह के पहले कार्य दिवस पर आईटीओ, डीएनडी और एम्स के पास विभिन्न जगहों पर यातायात जाम की सूचना मिली.

Text Size:

नई दिल्ली: लंबे समय से लू और गर्मी झेल रही दिल्ली को सोमवार को राहत मिली. यहां सुबह आंधी और बारिश की वजह से कहीं लोगों को गर्मी से मुक्ति मिली तो यह बारिश कई जगहों पर परेशानी का सबब भी बनी. दिल्ली में न्यूनतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. बारिश के चलते दिल्ली के कई इलाकों में पानी भर गया, ट्रैफिक जाम हो गया और कई उड़ाने भी प्रभावित हुईं.

राष्ट्रीय राजधानी के कुछ हिस्सों में आंधी के कारण पेड़ उखड़ गए और सप्ताह के पहले कार्य दिवस पर आईटीओ, डीएनडी और एम्स के पास विभिन्न जगहों पर यातायात जाम की सूचना मिली.

मौसम विभाग के मुताबिक, यह इस मौसम की पहली मध्यम-तीव्रता वाली आंधी थी. गर्मी की शुरुआत एक मार्च से मानी जाती है. मौसम विभाग ने कहा, ‘आम तौर पर मार्च और मई के बीच 12 से 14 दिनों तक गरज के साथ बारिश होती है. लेकिन इस मौसम में केवल चार से पांच बार गरज के साथ बारिश हुई और वह भी ज्यादातर शुष्क रही.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

गरज के साथ छींटे पड़ने और बारिश के कारण सोमवार को तापमान में खासी गिरावट आई. सुबह 5.40 बजे से सात बजे के बीच तापमान 11 डिग्री गिरकर 29 डिग्री सेल्सियस से 18 डिग्री सेल्सियस हो गया. सुबह 8.30 बजे न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम 17.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि सुबह 8.30 बजे तक 12 मिलीमीटर बारिश हुई. अधिकतम तापमान 37 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने की संभावना है.

दिल्ली में रविवार को अधिकतम तापमान सामान्य से एक डिग्री कम 39.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जबकि न्यूनतम तापमान सामान्य से तीन डिग्री कम 23.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.


यह भी पढ़ें: क्वाड चुनौतियों का सागर है, नौसेना को अंग्रेजों के जहाज डुबोने वाले मराठा सरखेल से सीख लेनी चाहिए


 

share & View comments