रमेश जारकीहोली की फाइल फोटो । ट्विटर
Text Size:

बैंगलुरु : कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा सरकार मंगलवार को उस वक्त एक बार फिर से विवादों में घिर गई जब जल संसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली के कथित रूप से एक सेक्स स्कैंडल में शामिल होने की बात प्रकाश में आई.

एक ‘सेक्स सीडी’ जिसमें कथित रूप से मंत्री जारकीहोली दिख रहे हैं, प्रकाश में आई है और पुलिस में शिकायत दर्ज करा दी गई है.

यह, उस घटना के सिर्फ एक महीने बाद प्रकाश में आया है, जब कांग्रेस नेता प्रकाश राठौड़ को राज्य विधान परिषद के सत्र के दौरान कथित रूप से अश्लील वीडियो को सर्च करते हुए पाया गया था.

जारकीहोली के मामले में सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश कल्लाहल्ली द्वारा की गई शिकायत को बैंगलुरू पुलिस की सेंट्रल डिवीज़न ने दर्ज कर लिया है. शिकायत में आरोप लगाया गया है कि वीडियो में मंत्री द्वारा महिला को नौकरी दिलाने के बदले में ‘यौन सुख’ (सेक्शुअल फेवर) की मांग की गई थी.

पुलिस के सूत्रों का कहना है कि वे सीडी की सच्चाई की जांच कर रहे हैं और अभी इस बात का भी पता नहीं है कि इसे कब बनाया गया है. उन्होंने कहा कि चूंकि महिला अभी तक शिकायत करने के लिए आगे नहीं आई है इसलिए उससे आधिकारिक बयान लेने की कोशिश की जा रही है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

दिप्रिंट द्वारा देखी गई कलाहल्ली की शिकायत के मुताबिक, उन्होंने महिला (जो कि ‘आर्थिक रूप से पिछड़े परिवार’ की है) की ओर से शिकायत दर्ज कराई है. उन्होंने आरोप लगाया कि जारकीहोली ने महिला को कर्नाटक पावर ट्रांसमिशन कॉर्पोरेशन लिमिटेड में नौकरी देने का वादा किया था. आगे उन्होंने कहा कि उन्होंने बैंगलुरू के पुलिस कमिश्नर कमल पंत से मुलाकात की है क्योंकि ‘शक्तिशाली मंत्री के शामिल होने की वजह से यह काफी संवेदनशील मामला है’.

दिप्रिंट ने कल्लाहल्ली को फोन करके और टेक्स्ट मैसेज करके संपर्क करने की कोशिश की लेकिन वे कोई भी कमेंट करने के लिए उपलब्ध नहीं हो पाए.

अपनी शिकायत में उन्होंने पुलिस से कहा,’चूंकि मैं सामाजिक रूप से सक्रिय हूं इसलिए महिला के परिवार ने मुझे एक शिकायपत्र व सीडी के साथ संपर्क किया और सारे विवरण को मेरे साथ साझा किया. कृपया सच्चाई की जांच करें, मंत्री के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करें और पीड़िता को सुरक्षा प्रदान करें.’

कोयला एवं खनन मंत्री प्रल्हाद जोशी, कर्नाटक उद्योग मंत्री जगदीश शेट्टर और गृह मंत्री बसवराज बोम्मई ने कथित सीडी या ऐसी किसी भी घटना के बारे में जानकारी होने से इनकार किया.

बीजेपी के प्रवक्ता गणेश कार्णिक ने कहा कि जांच पूरी होने के बाद पार्टी आवश्यक कार्रवाई करेगी. ‘कानून अपना काम करेगा.’


यह भी पढ़ेंः 10 दलबदलुओं की कर्नाटक कैबिनेट में सीटें पक्की वहीं सीनियर भाजपा नेता वेटिंग लिस्ट में


पहली बार नहीं हुआ है कर्नाटक में ऐसा

यह पहली बार नहीं हुआ है जब कर्नाटक के किसी राजनेता का नाम ‘सेक्स स्कैंडल’ में आया है. वर्ष 2012 में तीन बीजेपी मंत्री लक्ष्मण सावदी, कृष्ण पालेमर और सीसी पाटिल को सदन के अंदर अश्लील वीडियो देखते हुए कैमरे में कैद किया गया था. सावदी इस समय राज्य के उप मुख्यमंत्री हैं और पाटिल लघु उद्योग मंत्री हैं.

कांग्रेस नेता एचवाई मेटी, इस वक्त येदियुरप्पा के राजनीतिक सचिव बीजेपी विधायक रेणुकाचार्य, बीजेपी के एसए रामदास पर भी इससे पहले ‘सेक्शुअल फेवर’ की मांग करने का कथित रूप से आरोप लगा था.

जारकीहोली, जो कि पहले कांग्रेस के साथ थे, अब उत्तर कर्नाटक के बेलागावी से शक्तिशाली बीजेपी मंत्री हैं. वे इस क्षेत्र से कर्नाटक की राजनीति में सक्रिय चार भाइयों में से एक हैं.

इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें.


यह भी पढ़ेंः संत से ठग बने शख्स ने BJP से नजदीकी होने का दावा कर राजनेताओं, अदाकारों और व्यवसाइयों को धोखा दिया


 

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here