scorecardresearch
Tuesday, 25 June, 2024
होमराजनीति'महिलाएं, युवा, हर समुदाय- समाज के किसान और मेरे देश के गरीब, ये हैं देश की 4 जातियां' शीत सत्र से पहले बोले PM

‘महिलाएं, युवा, हर समुदाय- समाज के किसान और मेरे देश के गरीब, ये हैं देश की 4 जातियां’ शीत सत्र से पहले बोले PM

संसद के शीतकालीन सत्र के शुरू होने से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने विपक्षी पार्टियों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अगर मैं वर्तमान चुनाव नतीजों के आधार पर कहूं, तो ये विपक्ष में बैठे हुए साथियों के लिए Golden Opportunity है.

Text Size:

नई दिल्ली: पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में तीन में भारतीय जनता पार्टी की जीत के बीच सोमवार से संसद का शीत सत्र शुरू हो गया है. संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होते ही बीजेपी सांसदों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की मौजूदगी में लोकसभा में ‘तीसरी बार मोदी सरकार’ और ‘बार-बार मोदी सरकार’ के नारे लगाए. हालांकि सत्र शुरू होने के दस मिनट के भीतर ही लोकसभा की 12 बजे तक के लिए कार्यवाही स्थगित कर दी गई.

संसद के शीतकालीन सत्र के शुरू होने से पहले पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि राजनैतिक गर्मी बड़ी तेज से बढ़ रही है. कल चार राज्यों के चुनाव के नतीजे सामने आए. परिणाम बहुत उत्साहजनक हैं. खासकर उन लोगों के लिए उत्साहजनक हैं जो देश के आम लोगों के कल्याण और देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए प्रतिबद्ध हैं.

‘देश की चार जातियां’

पीएम ने सदन के बाहर मीडिया से बातचीत के दौरान कहा,” कल ही 4 राज्यों के चुनाव नतीजे आए हैं. बहुत ही उत्साहवर्धक परिणाम आए हैं. ये उनके लिए उत्साहवर्धक हैं, जो देश के सामान्य मानवी के कल्याण के लिए, देश के उज्ज्वल भविष्य के लिए समर्पित हैं.सभी समाजों और सभी समूहों की महिलाएं, युवा, हर समुदाय और समाज के किसान और मेरे देश के गरीब.”

उन्होंने कास्ट सेंसस के ऊपर कटाक्ष करते हुए कहा कि “सभी समाजों और सभी समूहों की महिलाएं, युवा, हर समुदाय और समाज के किसान और मेरे देश के गरीब. ये 4 ऐसी महत्वपूर्ण जातियां हैं.”

पीएम ने कहा कि इनके सशक्तिकरण, उनके भविष्य को सुनिश्चित करने वाली ठोस योजनाएं और अंतिम व्यक्ति तक पहुंच के उसूलों पर जो चलता है, उन्हें भरपूर समर्थन मिलता है.

मोदी ने कहा कि इतने उत्तम जनादेश के बाद आज हम संसद के इस नए मंदिर में मिल रहे हैं. जब इस नए परिसर का उद्घाटन हुआ था, तो उस समय एक छोटा सा सत्र था और एक ऐतिहासिक निर्णय हुआ था.

लेकिन इस बार लबें समय तक इस सदन में कार्य करने का अवसर मिलेगा.देश ने नकारात्मकता को नकारा है. सत्र के प्रारंभ में विपक्ष के साथियों के साथ हमारा विचार विमर्श होता है, सबके सहयोग के लिए हम हमेशा आग्रह करते हैं. इस बार भी ये सभी प्रक्रियाएं पूर्ण कर ली गई हैं. लोकतंत्र का ये मंदिर जन आकांक्षाओं के लिए, विकसित भारत की नीवं को अधिक मजबूत बनाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण मंच है.

पीएम ने इस मौके पर सभी सांसदों से गुजारिश करते हुए कहा कि, “मेरा सभी माननीय सांसदों से आग्रह है कि वो ज्यादा से ज्यादा तैयारी कर के आएं और सदन में जो भी बिल रखे जाएं उन पर गहन चर्चा हो.”

पीएम ने विपक्षी पार्टियों पर कटाक्ष करते हुए कहा कि अगर मैं वर्तमान चुनाव नतीजों के आधार पर कहूं, तो ये विपक्ष में बैठे हुए साथियों के लिए Golden Opportunity है. उन्होंने यह भी कहा कि अपनी पराजय का गुस्सा निकालने की योजना इस सत्र में निकालने की बजाय, इस पराजय से सीखकर, पिछले 9 साल में चलाई गई नकारात्मकता की प्रवृत्ति को छोड़कर इस सत्र में अगर सकारात्मकता के साथ आगे बढ़ेंगे तो देश उनकी तरफ देखने का दृष्टिकोण बदलेगा.


यह भी पढ़ें: जनता के सामने ‘नतमस्तक’ हुए PM मोदी — जहां दूसरों से उम्मीद खत्म होती है, वहां से मोदी की गारंटी शुरू होती है


 

share & View comments