scorecardresearch
Thursday, 20 June, 2024
होमराजनीतिअशोक चव्हाण के BJP में शामिल होने के साथ ही — कांग्रेस का एक और राजवंश ढह गया

अशोक चव्हाण के BJP में शामिल होने के साथ ही — कांग्रेस का एक और राजवंश ढह गया

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री और कद्दावर नेता ने सोमवार को कांग्रेस पार्टी छोड़ दी और मंगलवार को भाजपा में शामिल हो गए. विश्लेषकों ने कहा कि इस कदम से कांग्रेस को बहुत नुकसान होगा.

Text Size:

मुंबई: पिछले दो साल में अशोक चव्हाण अक्सर उन कार्यक्रमों में शामिल नहीं हुए जहां उनके उपस्थित होने की उम्मीद थी और उन कार्यक्रमों में भाग लिया जहां उनकी उपस्थिति ने भौंहें चढ़ा दीं, जिससे उनके कांग्रेस से नाखुश होने और संभवतः भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में शामिल होने की अटकलें लगने लगी थीं.

हालांकि, मंगलवार को हवा का रुख साफ हो गया, जब राज्य के उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की मौजूदगी में चव्हाण ने बीजेपी का हाथ थाम लिया.

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री चव्हाण हमेशा इन स्थितियों को “पूर्व प्रतिबद्धताओं”, “ट्रैफ्रिक में फंसना”, और “संयोग” जैसी बातों से समझाते थे, जिससे उनकी पार्टी के साथ उनके मतभेदों की चर्चा पर कोई असर नहीं पड़ता था.

ये बातचीत सोमवार को चरम बिंदु पर पहुंच गई जब 66-वर्षीय चव्हाण ने विधायक पद से इस्तीफा दे दिया और कांग्रेस पार्टी छोड़ दी.

पत्रकारों से बात करते हुए महाराष्ट्र के डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस ने चव्हाण के भाजपा में शामिल होने पर कोई टिप्पणी नहीं की, लेकिन कहा कि कई कांग्रेस नेता पार्टी के संपर्क में हैं क्योंकि वे कांग्रेस के भीतर “दबा हुआ” महसूस कर रहे हैं.

फडणवीस ने कहा, “आगे-आगे देखो होता है क्या.”

दिप्रिंट से बात करते हुए राजनीतिक टिप्पणीकार हेमंत देसाई ने कहा कि अगर चव्हाण भाजपा में शामिल होते हैं, तो चव्हाण के इस्तीफे के संबंध में पार्टी के लिए सबसे बड़ा लाभ यह होगा कि यह कांग्रेस को बहुत कमज़ोर कर देगा.

देसाई ने कहा, “चाहे वे जितिन प्रसाद हों, देवरस या सिंधिया, कांग्रेस ने अपने कई पुराने राजवंश परिवारों को खो दिया है. महाराष्ट्र में चव्हाण एक प्रमुख राजवंश था. अशोक चव्हाण महाराष्ट्र कांग्रेस के सबसे बड़े चेहरों में से एक थे, जो पूर्व सीएम और इसकी राज्य इकाई के पूर्व अध्यक्ष रह चुके थे. उनके पिता आपातकाल के दौरान महाराष्ट्र के सीएम थे, इसलिए उनके जाने से पार्टी को बहुत नुकसान हुआ.”

इस बीच कांग्रेस नेताओं के साथ-साथ राजनीतिक विश्लेषकों के अनुसार, चव्हाण के लिए व्यक्तिगत रूप से सबसे बड़ा लाभ यह सुनिश्चित करना होगा कि आदर्श हाउसिंग सोसाइटी विवाद, जिसके कारण उन्हें अपना मुख्यमंत्री पद गंवाना पड़ा, केंद्रीय जांच एजेंसियों द्वारा फिर से नहीं उठाया जाएगा.

पत्रकारों से बात करते हुए चव्हाण ने कहा था, “जब तक मैं कांग्रेस में था, मैंने ईमानदारी से पार्टी के लिए काम किया. मुझे किसी से कोई शिकायत नहीं है और व्यक्तिगत तौर पर मुझे किसी से कोई दिक्कत नहीं है. मेरी अगली राजनीतिक दिशा एक दो दिन में तय हो जाएगी. मैंने अभी तक कुछ भी तय नहीं किया है…मैंने भाजपा में शामिल होने के बारे में अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया है.”


यह भी पढ़ें: एक कांग्रेस, कई गुट – देवड़ा का इस्तीफा कैसे पेश कर रहा है खत्म होती मुंबई इकाई की झलक


कांग्रेस का चव्हाण राजवंश

अशोक चव्हाण और उनके पिता शंकरराव चव्हाण महाराष्ट्र की राजनीति में पहली और एकमात्र पिता-पुत्र की जोड़ी हैं, जो सीएम पद पर आसीन हैं.

शंकरराव चव्हाण ने पहली बार आपातकाल के दौरान 1975 से 1977 तक और फिर 1986 से 1988 तक सीएम रहे. 1992 में बाबरी मस्जिद को गिराए जाने के समय वे केंद्रीय गृह मंत्री थे.

इन वर्षों में महाराष्ट्र का नांदेड़ जिला चव्हाण परिवार का गढ़ बन गया, जब अशोक चव्हाण ने 1987 में नांदेड़ संसदीय क्षेत्र से अपना पहला चुनाव लड़ा.

आज, चव्हाण परिवार के कई सदस्य नांदेड़ जिले में चुनावी राजनीति में सक्रिय हैं. अशोक चव्हाण की पत्नी अमिता ने 2014 के राज्य विधानसभा चुनाव में भोकर निर्वाचन क्षेत्र से जीत हासिल की, जहां से अशोक चव्हाण ने 2019 में चुनाव लड़ा और जीत हासिल की.

अशोक चव्हाण के अब अलग हो चुके बहनोई भास्कर खटगांवकर भी सांसद थे. अशोक चव्हाण की दो बेटियों में से एक – श्रीजया – के संभवतः राजनीतिक मैदान में उतरने की भी खबरें आई हैं.

2022 में जब राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा नांदेड़ में महाराष्ट्र से गुजरी, तो कहा जाता है कि श्रीजया अपने पिता के साथ तैयारी में सक्रिय रूप से शामिल थीं और उन्हें गांधी के साथ चलते हुए भी देखा गया था.

अशोक चव्हाण ने कांग्रेस में अपना करियर कांग्रेस में बतौर युवा कार्यकर्ता शुरू किया था. वे सांसद, विधायक, एमएलसी भी रहे और शहरी विकास, गृह, परिवहन, सांस्कृतिक मामले, प्रोटोकॉल, उद्योग, खनन आदि जैसे विभागों को संभालने वाले कई राज्य मंत्रिमंडलों का हिस्सा रहे हैं.

वे उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार में भी मंत्री थे, जिसमें अविभाजित शिव सेना, अविभाजित राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस शामिल थी, जो 2019 में सत्ता में आई थी. इस कार्यकाल के दौरान, वे मराठा आरक्षण पर कैबिनेट उपसमिति पर ठाकरे सरकार का नेतृत्व भी कर रहे थे.

26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले के बाद मौजूदा विलासराव देशमुख के इस्तीफा देने के बाद 2008 में उन्हें महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री के पद पर पदोन्नत किया गया था.

कांग्रेस नेताओं और विश्लेषकों के अनुसार, चव्हाण का पार्टी में सबसे बड़ा योगदान शायद 2009 के महाराष्ट्र चुनावों में कांग्रेस की जीत थी जब पार्टी ने अपनी स्थिति में सुधार किया और लगातार तीसरी बार सत्ता में आई.

अशोक चव्हाण ने राज्य में तैयारी का नेतृत्व किया, एनसीपी के साथ चुनाव पूर्व गठबंधन में चुनाव में उतरे और महाराष्ट्र की 288 विधानसभा सीटों में से 82 सीटें हासिल कीं. एनसीपी ने 62 सीटें जीतीं और गठबंधन एक स्थिर सरकार सत्ता में आई और अशोक चव्हाण फिर सीएम बने.

हालांकि, उनका कार्यकाल अल्पकालिक था क्योंकि मराठा नेता को मुंबई के आदर्श हाउसिंग सोसाइटी के विवाद में कथित संलिप्तता के बाद सीएम पद से इस्तीफा देना पड़ा था.

आदर्श विवाद

चव्हाण ने कथित तौर पर रिश्तेदारों के लिए दो फ्लैटों के बदले में मुंबई में आदर्श हाउसिंग सोसाइटी के लिए अतिरिक्त निर्माण क्षेत्र को मंजूरी देने के लिए 2010 में महाराष्ट्र के सीएम पद से इस्तीफा दे दिया था.

यह भी आरोप लगाया गया कि कुल फ्लैटों का 40 प्रतिशत जो मूल रूप से 1999 के कारगिल युद्ध नायकों और युद्ध विधवाओं को आवंटित किया जाना था, नागरिकों को आवंटित कर दिया गया था.

केंद्रीय जांच ब्यूरो ने जुलाई 2012 में मामले में अपनी चार्जशीट दायर की, जिसमें अशोक चव्हाण पर साजिश और भ्रष्टाचार का आरोप लगाया गया.

2015 में जब महाराष्ट्र में देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली सरकार सत्ता में थी, तब सीबीआई ने अशोक चव्हाण के खिलाफ मुकदमा चलाने के लिए राज्यपाल से मंजूरी मांगी थी. राज्यपाल ने फरवरी 2016 में मंजूरी दे दी, लेकिन अशोक चव्हाण ने इसे बॉम्बे हाई कोर्ट में चुनौती दी.

बॉम्बे हाई कोर्ट ने पूर्व सीएम के पक्ष में फैसला सुनाते हुए कहा कि सीबीआई नए कागज़ात ॉपेश करने में विफल रही है जिसे सबूत में बदला जा सकता है.

नाम न छापने की शर्त पर कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, “कांग्रेस में अफसोस की बात यह है कि पिछले एक साल से अधिक समय से अशोक चव्हाण को कुछ नेताओं से धीरे-धीरे याद दिलाया जा रहा है कि उन्हें अभी भी मामले में क्लीन चिट नहीं मिली है.”

हालांकि, आदर्श विवाद ने कांग्रेस के भीतर अशोक चव्हाण के दर्जे को कम नहीं किया. पार्टी ने उन्हें 2014 का लोकसभा चुनाव उनके गृह क्षेत्र नांदेड़ से लड़ने के लिए नामांकित किया, जिसे उन्होंने आसानी से जीत लिया. 2015 में पार्टी ने उन्हें प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नियुक्त किया था.

जनवरी 2019 में दिप्रिंट से बात करते हुए पूर्व सीएम ने कहा था कि आदर्श विवाद का उनके या उनकी पार्टी के चुनावी प्रदर्शन पर कोई असर नहीं पड़ा है. उन्होंने कहा, “यहां तक कि पिछले चुनाव में भी इस मुद्दे को सामने लाया गया था. इसके बावजूद, मैं चुनाव जीत गया.”

उन्होंने कहा था, “यह मुद्दा उस समय विपक्ष द्वारा बनाया गया था. मैंने हमेशा कहा है कि यह एक दुर्घटना थी जिससे मैं गुजरा. मैं इससे बच गया. मैं फिर से सक्रिय राजनीति में वापस आ गया. मेरी पार्टी महाराष्ट्र में अच्छा प्रदर्शन कर रही है. इसलिए, मुझे नहीं लगता कि यह कोई बड़ा मुद्दा है.”

कांग्रेस के अंदरूनी मुद्दे

पिछले दो साल में अशोक चव्हाण ने महाराष्ट्र के राजनीतिक क्षेत्र में सभी को उनके संभावित इस्तीफे के बारे में अटकलें लगाने के कई अवसर दिए.

जून 2022 में वे उन मुट्ठी भर कांग्रेस विधायकों में से थे जो एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाली सरकार के विश्वास मत के दौरान अनुपस्थित रहे. तब नेता ने कहा था कि वे ट्रैफिक में फंसे हुए हैं.

उस साल सितंबर में अशोक चव्हाण की देवेंद्र फडणवीस के साथ मुलाकात से एक बार फिर उनके भाजपा में शामिल होने की चर्चा छिड़ गई थी, जिसे उन्होंने “निराधार” कह कर खारिज कर दिया था. उन्होंने एक राजनीतिक रणनीतिकार के आवास पर हुई मुलाकात को एक संयोग बताया था.

दिसंबर 2022 में उन्होंने पूर्व प्रतिबद्धता का हवाला देते हुए एमवीए पार्टियों की एक संयुक्त रैली को छोड़ दिया.

नाम न छापने की शर्त पर कांग्रेस के एक अन्य नेता ने कहा कि पार्टी के कई पुराने नेता इस बात से नाराज़ थे कि कांग्रेस दूसरी पार्टियों से आने वाले लोगों को मौका दे रही है. उन्होंने कहा कि एक शिकायत यह भी है कि पार्टी नेतृत्व महीनों तक पार्टी कार्यकर्ताओं से नहीं मिलते हैं.

पत्रकारों से बात करते हुए कि कांग्रेस छोड़ने के कारण पर चव्हाण ने कहा: “हर चीज़ के लिए कोई कारण नहीं होता है. मुझे लगा कि मुझे अन्य विकल्प तलाशने चाहिए इसलिए मैंने अपना इस्तीफा दे दिया.”

कांग्रेस के एक अन्य पूर्व सीएम पृथ्वीराज चव्हाण ने अपने सहयोगी के कांग्रेस छोड़ने के फैसले को “दुखद” बताया. हालांकि, उन्होंने स्पष्ट किया कि पार्टी सभी विधायकों तक पहुंच गई है और उन्होंने आश्वासन दिया है कि वे पार्टी के प्रति वफादार हैं.

कराड से विधायक पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा, “कांग्रेस विधायक दल की बैठक बुलाई गई है और उचित व्हिप जारी किया जाएगा.”

पृथ्वीराज चव्हाण ने बताया कि कैसे उनके सहयोगी अशोक चव्हाण ने एक दिन पहले ही एक चुनावी रणनीति बैठक में भाग लिया था और यह कहकर चले गए थे कि उन्हें अगले दिन (सोमवार) कैसे निर्णय जारी रखना चाहिए.

उन्होंने कहा, “रात भर में क्या गलत हुआ? कोई नहीं जानता. क्या दबाव था, क्या मजबूरी थी? हम सभी सिर्फ अनुमान लगा सकते हैं, लेकिन केवल वे (अशोक चव्हाण) ही कारण बता सकते हैं.”

(संपादन : फाल्गुनी शर्मा)

(इस रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: 6 महीने, 6 दौरे — कैसे प्रधानमंत्री महाराष्ट्र के ‘मुश्किल मैदान’ पर ‘मोदी की गारंटी’ बेच रहे हैं


 

share & View comments