Sunday, 26 June, 2022
होमराजनीति'हमारा अपमान किया गया, CM से मिलने नहीं दिया जाता'- शिवसेना के बागी विधायकों का उद्धव को खुला पत्र

‘हमारा अपमान किया गया, CM से मिलने नहीं दिया जाता’- शिवसेना के बागी विधायकों का उद्धव को खुला पत्र

विधायकों ने पत्र में कहा है कि राज्य में शिवसेना का मुख्यमंत्री होने के बावजूद पार्टी के विधायकों को वर्षा बंगला (मुख्यमंत्री आवास) जाने का अवसर नहीं मिला. सीएम के आसपास के लोग तय करते थे कि हम उनसे मिल सकते हैं या नहीं. हमें लगा कि हमारा अपमान किया गया है.

Text Size:

नई दिल्ली/मुंबई: शिवसेना के बागी विधायकों की ओर से साझा किए गए पत्र जिसे एकनाथ शिंदे ने गुरुवार को अपने ट्विटर हैंडल पर साझा किया है. विधायकों ने पत्र में शिकायत की है कि उन्हें सीएम से मिलने नहीं दिया जाता और आदित्य ठाकरे के साथ अयोध्या न जाने दिया गया.

एकनाथ शिंदे द्वारा साझा किए गये बागी शिवसेना विधायकों के पत्र के मुताबिक, ‘जब हिंदुत्व और राम मंदिर पार्टी के लिए अहम मुद्दे हैं तो पार्टी ने हमें अयोध्या जाने से क्यों रोका. आदित्य ठाकरे की अयोध्या यात्रा के दौरान विधायकों को बुलाया गया और अयोध्या जाने से रोक दिया गया.’

जब हम सीएम से नहीं मिल पाते, तो हमारे ‘असली विपक्ष’- कांग्रेस और राकांपा के लोगों को उनसे मिलने का मौका मिलता था और यहां तक ​​कि उन्हें उनके निर्वाचन क्षेत्रों में काम के लिए धन भी दिया जाता था.

विधायकों ने पत्र में कहा है कि राज्य में शिवसेना का मुख्यमंत्री होने के बावजूद पार्टी के विधायकों को वर्षा बंगला (मुख्यमंत्री आवास) जाने का अवसर नहीं मिला. सीएम के आसपास के लोग तय करते थे कि हम उनसे मिल सकते हैं या नहीं. हमें लगा कि हमारा अपमान किया गया है.


यह भी पढ़ें: ‘राजनीति में सबकुछ अस्थिर होता है और बहुमत चंचल’, ‘सामना’ के जरिए बागियों को दो-टूक


फ्लोर टेस्ट जब होगा सब देखेंगे : संजय राउत

गुवाहाटी में एकनाथ शिंदे खेमे के 20 विधायकों के संपर्क में होने का दावा करते हुए, शिवसेना नेता संजय राउत ने गुरुवार को कहा कि जब फ्लोर टेस्ट होता है तो सभी देखेंगे, यह कहते हुए कि ईडी के दबाव में पार्टी छोड़ने वाले बालासाहेब ठाकरे के असली फॉलोअर नहीं हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार में राजनीतिक अस्थिरता के बीच, राउत ने आगे दावा किया कि पार्टी अभी भी मजबूत है और बागी बाल ठाकरे के सच्चे ‘भक्त’ नहीं हैं.

एकनाथ शिंदे पर तंज कसते हुए राउत ने कहा, ‘हम उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में बालासाहेब ठाकरे के काम के साथ हैं, मैं बालासाहेब ठाकरे का समर्थन करता हूं और मैं बालासाहेब ठाकरे का अनुसरण करता हूं, आपके इस प्रकार के बयान से यह साबित नहीं होगा कि आप बालासाहेब के सच्चे फॉलोअर हैं. उन्हें ईडी का डर है.’

उन्होंने कहा, ‘मैं किसी खेमे की बात नहीं करूंगा, मैं अपनी पार्टी की बात करूंगा. हमारी पार्टी आज भी मजबूत है.. करीब 20 विधायक हमारे संपर्क में हैं..जब वे मुंबई आएंगे तो आपको पता चल जाएगा. जल्द ही खुलासा हो जाएगा कि किन परिस्थितियों में इन विधायकों ने हम पर दबाव बनाया.’

उन्होंने कहा कि पार्टी नेता नितिन देशमुख, जो बुधवार को सूरत से नागपुर लौटे थे और आरोप लगाया कि अपहरण के प्रयास थे, एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे.

राउत ने कहा, ‘सीएम आज कोई बैठक नहीं करेंगे, कुछ विधायक आधिकारिक काम के लिए वर्षा बंगला जा रहे हैं. नितिन देशमुख प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे.’

उन्होंने कहा, ‘कुछ विधायक दौड़ते हैं और उन्हें लगता है कि वे शेर हैं लेकिन हमने कल एक शेर देखा जब उद्धव ठाकरे ‘मातोश्री’ गए और हमने शिव सैनिक को देखा, वे असली शिव सैनिक हैं. अगर कुछ विधायक जाते हैं तो यह साबित नहीं होता है कि सरकार नष्ट हो गई है.’

उन्होंने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के दबाव में पार्टी छोड़ने के लिए एकनाथ शिंदे की आलोचना की और कहा कि वे उद्धव ठाकरे के साथ खड़े हैं.

उन्होंने कहा, ‘जो ईडी के दबाव में पार्टी छोड़ता है वह सच्चा बालासाहेब भक्त नहीं है. हम सच्चे बालासाहेब भक्त हैं … भले ही हमारे पास ईडी का दबाव है लेकिन उद्धव ठाकरे के साथ खड़े रहेंगे … जब फ्लोर टेस्ट होगा तो हर कोई देखेगा कि कौन है सकारात्मक और कौन नकारात्मक है.’

शिवसेना सांसद ने आगे कहा, ’17 से 18 विधायकों को बीजेपी पार्टी ने हिरासत में लिया है, बीजेपी राज्यों में ये विधायक हिरासत में हैं.’

इस बीच, महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी (एमवीए) सरकार में राजनीतिक अस्थिरता के बीच राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख शरद पवार ने गुरुवार को पार्टी की बैठक की.

विशेष रूप से, एकनाथ शिंदे के साथ गुवाहाटी, असम के रैडिसन ब्लू होटल में महाराष्ट्र के कुल 42 विधायक मौजूद हैं. इसमें शिवसेना के 34 विधायक और आठ निर्दलीय विधायक शामिल हैं. सूत्रों ने जानकारी दी.

गुरुवार सुबह गुवाहाटी में शिवसेना नेता एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में विधायकों के बागी समूह में सात और विधायक शामिल हो गए हैं, जिससे महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी सरकार में राजनीतिक अस्थिरता और बढ़ गई है.

वे गुवाहाटी के रैडिसन ब्लू होटल पहुंचे, जहां अन्य विधायक खेमेबंदी कर रहे हैं. शिंदे के साथ गुवाहाटी में बीती रात चार और विधायक शामिल हुए.

इसके अलावा, शिवसेना विधायक दल द्वारा 34 विधायकों के हस्ताक्षर वाले एक प्रस्ताव पारित किया गया है कि बागी नेता एकनाथ शिंदे नेता बने रहेंगे, इसे राज्य के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को भेजा गया है.

इसके अतिरिक्त, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बुधवार को अपने परिवार के सदस्यों के साथ अपने आधिकारिक आवास ‘वर्षा’ को छोड़ दिया, जब उन्होंने बागी विधायकों के मुंबई लौटने और ऐसी मांग करने पर पद छोड़ने की इच्छा व्यक्त की.

राज्य में राजनीतिक अस्थिरता के बीच कल रात जब ठाकरे अपने आधिकारिक आवास ‘वर्षा बंगले’ से अपने परिवार के साथ निकले तो शिवसेना कार्यकर्ताओं और समर्थकों ने उनके समर्थन में पंखुड़ियों की बौछार की और नारेबाजी की.

राजनीतिक संकट के बाद, शिवसेना ने एकनाथ शिंदे को पार्टी के विधायक दल के नेता के पद से हटा दिया. हालांकि, बागियों ने संकल्प के साथ पलटवार किया है.

प्रस्ताव में कहा गया है कि पिछले दो साल में शिवसेना की विचारधारा से समझौता किया गया है. उन्होंने अनिल देशमुख और नवाब मलिक का जिक्र करते हुए ‘सरकार में भ्रष्टाचार’ पर भी असंतोष व्यक्त किया, जो वर्तमान में जेल में हैं.

एकनाथ शिंदे ने कहा था, ‘भारत गोगावाले को शिवसेना विधायक दल का मुख्य सचेतक नियुक्त किया गया है. इसलिए सुनील प्रभु द्वारा आज शाम विधायक दल की बैठक के संबंध में जारी आदेश अवैध है.’

इससे पहले, ठाकरे ने फेसबुक के माध्यम से राज्य के लोगों को संबोधित किया और कहा कि वह पार्टी विधायकों को अपना इस्तीफा देने के इच्छुक हैं जो इसे राजभवन ले जा सकते हैं.

यह देखते हुए कि पार्टी के विधायकों का एक वर्ग उन्हें हटाने के लिए गोलियां चला रहा था, उन्होंने कहा था कि सूरत जाने के बजाय, वे उन्हें अपनी भावनाओं से अवगत करा सकते थे. ठाकरे ने कहा था कि अगर ‘एक भी विधायक’ उनके खिलाफ है तो यह उनके लिए शर्म की बात है.

ठाकरे ने कहा था, ‘अगर कोई विधायक चाहता है कि मैं मुख्यमंत्री नहीं रहूं, तो मैं अपना सारा सामान वर्षा बंगले (सीएम का आधिकारिक आवास) से मातोश्री ले जाने के लिए तैयार हूं.’

उन्होंने कहा था, ‘मैं विधायकों को अपना इस्तीफा देने के लिए तैयार हूं, वे यहां आएं और मेरा इस्तीफा राजभवन ले जाएं. मैं शिवसेना पार्टी प्रमुख का पद भी छोड़ने को तैयार हूं, दूसरों के कहने पर नहीं बल्कि अपने कार्यकर्ताओं के कहने पर.’

शिवसेना नेता संजय राउत ने संकट से शिवसेना के आगे बढ़ने का भरोसा जताया.

उन्होंने कहा, ‘उद्धव ठाकरे महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री हैं और वह सीएम बने रहेंगे. अगर हमें मौका मिला, तो हम सदन के पटल पर अपना बहुमत साबित करेंगे.’

हालांकि, शिवसेना के बागी विधायकों ने कहा है कि विभिन्न विचारधाराओं के कारण एनसीपी और भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के साथ सरकार बनाने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं में भारी असंतोष है.


यह भी पढ़ें: विपक्ष के राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार यशवंत सिन्हा बोले—‘बुलडोजर राज’ या संविधान के बीच चुनाव किया जाना है


 

share & View comments