Monday, 24 January, 2022
होमराजनीतिमानसिक रूप से कमजोर नाबालिग बलात्कार पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए BJP ने हाई लेवल कमेटी बनाई

मानसिक रूप से कमजोर नाबालिग बलात्कार पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए BJP ने हाई लेवल कमेटी बनाई

अधिकारिक सूत्रों के अनुसार, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पुलिस महानिदेशक एम. एल. लाठर से इस मामले में रिपोर्ट मांगी है और विस्तृत जांच के निर्देश दिए हैं.

Text Size:

जयपुर: भारतीय जनता पार्टी की राजस्थान इकाई ने मानसिक रूप से कमजोर कथित रूप से बलात्कार पीड़िता नाबालिग के लिए न्याय सुनिश्चित करने के लक्ष्य से एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया है.

समिति के सदस्य अलवर की इस नाबालिग पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी से मिलने जयपुर से रणथंभौर रवाना हुए. गौरतलब है कि प्रियंका निजी दौरे पर रणथंभौर आयी हुई हैं.

अलवर जिले के मालाखेड़ा थाना क्षेत्र में मंगलवार को घंटों लापता रहने के बाद मानसिक रूप से कमजोर 14 साल की किशोरी रात करीब नौ बजे तिजारा फाटक के पास घायल अवस्था में मिली थी. पीड़िता के जनांगों सहित अन्य गंभीर चोटों को देखते हुए बुधवार को जयपुर के एक अस्पताल में उसकी सर्जरी की गई है.

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनियां ने समिति के सदस्यों के साथ बृहस्पतिवार को जे. के. लोन अस्पताल में पीड़िता और उसके परिजनों से मिलकर हालचाल पूछा.

भाजपा की इस उच्च स्तरीय समिति में राष्ट्रीय सचिव अल्का गुर्जर, महिला मोर्चा की प्रदेशाध्यक्ष अल्का मूंदडा, प्रदेश भाजपा के मुख्य प्रवक्ता एवं विधायक रामलाल शर्मा, दौसा से सांसद जसकौर मीणा, पार्टी के प्रदेश मंत्री जितेद्र गोठवाल शामिल हैं.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष संगीता बेनीवाल भी अस्पताल पहुंचीं और चिकित्सकों से पीड़िता का हालचाल पूछा.

बेनीवाल ने बताया कि बच्ची के इलाज की व्यवस्था का जायजा लिया और आवश्यकता अनुसार मनोरोग चिकित्सकों को भी उसकी देखभाल के लिए तैनात किया गया है.

पुलिस का कहना है कि यह प्रथक दृष्टया यह बलात्कार का मामला लगता है, लेकिन अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है. मामले की जांच के लिए पुलिस दल का गठन किया गया है.

अधिकारिक सूत्रों के अनुसार, मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने पुलिस महानिदेशक एम. एल. लाठर से इस मामले में रिपोर्ट मांगी है और विस्तृत जांच के निर्देश दिए हैं.

अलवर की पुलिस अधीक्षक तेजस्वनी गौतम ने बताया कि क्षेत्र में लगे करीब 150 सीसीटीवी कैमरों के फुटेज की जांच की जा रही है, अभी तक 3-4 संदिग्धों से पूछताछ की गई है लेकिन अभी तक कुछ स्पष्ट नहीं है.

वहीं राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने बृहस्पतिवार को प्रदेश सरकार पर निशाना साधते हुए सवाल किया कि इस मामले में कांग्रेस सरकार क्यों गूंगी बहरी बनी हुई है?


यह भी पढ़े: यूपी में BJP के मंत्री धर्मपाल सिंह सैनी समेत कुल 11 विधायकों ने छोड़ी पार्टी, अब भी भगदड़ जारी


share & View comments