scorecardresearch
Tuesday, 25 June, 2024
होमराजनीतिMP में मेगा पोल इवेंट से बाहर किए जाने पर उमा भारती का BJP पर तंज, बोली- जनता का ध्यान मुझ पर होता

MP में मेगा पोल इवेंट से बाहर किए जाने पर उमा भारती का BJP पर तंज, बोली- जनता का ध्यान मुझ पर होता

पूर्व मुख्यमंत्री, जिन्हें पार्टी अध्यक्ष जे.पी.नड्डा द्वारा जन आशीर्वाद यात्रा को हरी झंडी दिखाने के लिए आमंत्रित नहीं किया गया था, का कहना है कि अगर कहा गया तो वह आगामी चुनावों के लिए प्रचार करेंगी.

Text Size:

नई दिल्ली: भाजपा की मध्य प्रदेश इकाई में दरारें तब चौड़ी होने लगी हैं जब पार्टी अध्यक्ष जे.पी.नड्डा ने रविवार को रवाना की गई विशाल जन आशीर्वाद यात्रा की अतिथि सूची से पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती को बाहर कर दिया.

राम मंदिर आंदोलन की अग्रिम पंक्ति की फायरब्रांड नेता भारती ने मीडिया से कहा कि पार्टी को कम से कम उन्हें “औपचारिकता के तौर पर” निमंत्रण भेजना चाहिए था, हालांकि वह किसी भी मामले में यात्रा में शामिल होने की योजना नहीं बना रही थीं.

नेता ने पार्टी नेतृत्व पर कटाक्ष करते हुए कहा कि भाजपा नेता शायद इस बात से घबरा गए होंगे कि “अगर मैं यात्रा में होती तो सारी जनता का ध्यान मुझ पर होता.”

भारती ने संवाददाताओं से कहा, “ज्योतिरादित्य सिंधिया – जिनके 2020 में कांग्रेस से दलबदल हो गया था – ने शायद उस वर्ष राज्य सरकार बनाने में भाजपा की मदद की थी, लेकिन मैंने उन्हें (2003 में) बड़ा बहुमत दिलाया.”

2003 में भारती ने तीन-चौथाई बहुमत से कांग्रेस के मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के शासन को ख़त्म कर दिया था.

भारती ने रविवार को यह भी कहा कि वह राज्य में स्कूलों और अस्पतालों की खराब स्थिति से संबंधित मुद्दों को उठाना जारी रखेंगी, लेकिन उन्होंने कहा कि उनके मन में सिंधिया के खिलाफ कुछ भी नहीं है, जो एक “प्यारे भतीजे” की तरह हैं.

हालांकि, पूर्व मुख्यमंत्री यात्रा उद्घाटन से बाहर किए जाने से बहुत नाराज़ थीं, उन्होंने कहा कि वह कम से कम “आमंत्रण के योग्य” थीं.

उनका मानना है कि पार्टी उन्हें आगामी राज्य चुनावों के प्रचार करने के लिए आमंत्रित कर सकती है, और “इन सबके बावजूद” वो इसे करने के लिए तैयार है.

जैसे ही भारती की टिप्पणियां वायरल हुईं, नेता ने एक्स पर सोमवार को स्वीकार किया कि उन्हें मध्य प्रदेश चुनाव से पहले यात्रा को हरी झंडी दिखाने के लिए आमंत्रित नहीं किया गया था.

उन्होंने पोस्ट में लिखा, “मुझे जन आशीर्वाद यात्रा शुरू करने का निमंत्रण नहीं मिला. ये सच है कि मैंने ये बात कही है. लेकिन मुझे निमंत्रण मिले या न मिले, इससे मैं कम या ज्यादा (महत्वपूर्ण) नहीं हो जाती. हां, अब अगर मुझे बुलाया जाएगा तो मैं कहीं नहीं जाऊंगी. न तो शुरुआत में और न ही 25 सितंबर को समापन समारोह में.”

उन्होंने यह भी कहा कि वह “जब भी और जहां भी शिवराज जी (मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान) मुझसे कहेंगे” प्रचार करेंगी.

“मेरे मन में शिवराज जी के प्रति सम्मान और उनके हृदय में मेरे प्रति जो स्नेह है, वह अटूट और मजबूत है. अगर वह मुझसे प्रचार करने के लिए कहेंगे तो मैं उनके प्रति सम्मान के कारण ऐसा करूंगी.”

भारती ने कहा कि आमंत्रित नहीं किए जाने के बावजूद वह पार्टी की संभावनाओं को नुकसान पहुंचाने वाला कोई कदम नहीं उठाएंगी. उन्होंने कहा, ”मैं उन लोगों में से हूं जिनके खून-पसीने से भाजपा बनी है. मैं पार्टी को कभी नुकसान नहीं पहुंचाऊंगी.”

मध्य प्रदेश भाजपा ने अभी तक इस मामले पर कोई टिप्पणी नहीं की है. लेकिन विपक्षी कांग्रेस ने कहा कि यह स्पष्ट संकेत है कि भारती को दरकिनार किया जा रहा है.

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने कहा, “भाजपा में अपने वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार करने की संस्कृति और परंपरा है… पहले बलराज मधोक को दरकिनार किया गया और फिर अटल और आडवाणी जी को मोदी द्वारा दरकिनार किया गया और अब उमा भारती को मध्य प्रदेश में शिवराज सिंह चौहान और भाजपा द्वारा दरकिनार किया जा रहा है. वह दिन दूर नहीं जब चुनाव के बाद चौहान खुद ही किनारे कर दिए जायेंगे.”

(संपादन: अलमिना खातून)

(इस ख़बर को अंग्रज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: नहीं खत्म हो रहा ‘वन नेशन वन इलेक्शन’ पर विवाद, अधीर रंजन चौधरी ने कमेटी का सदस्य बनने से किया इनकार


 

share & View comments