Thursday, 26 May, 2022
होमराजनीतित्रिपुरा में पुलिस कार्रवाई के खिलाफ TMC ने दिया गृह मंत्रालय के बाहर धरना

त्रिपुरा में पुलिस कार्रवाई के खिलाफ TMC ने दिया गृह मंत्रालय के बाहर धरना

तृणमूल कांग्रेस के नेता सुखेंदु शेखर रॉय ने कहा, 'हम चाहते हैं कि गृह मंत्री हमारी बात सुनें. त्रिपुरा में हो रही हिंसा के लिए शाह और मोदी दोनों को जवाब देने की जरूरत है.’

Text Size:

नई दिल्ली: तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) सांसदों के एक प्रतिनिधिमंडल ने त्रिपुरा में पार्टी की एक युवा नेता पर पुलिस की कथित बर्बरता और गिरफ्तारी को लेकर सोमवार को यहां गृह मंत्रालय (एमएचए) के बाहर धरना दिया.

तृणमूल कांग्रेस सांसदों ने केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के खिलाफ नारेबाजी की और शाह से मिलने का समय मांगा.

तृणमूल कांग्रेस के नेता सुखेंदु शेखर रॉय ने कहा, ‘हम चाहते हैं कि गृह मंत्री हमारी बात सुनें. त्रिपुरा में हो रही हिंसा के लिए शाह और मोदी दोनों को जवाब देने की जरूरत है.’

तृणमूल कांग्रेस के सांसद सौगत रॉय ने कहा कि त्रिपुरा में पार्टी की युवा नेता सायानी घोष की गिरफ्तारी के खिलाफ भी यह विरोध प्रदर्शन था.

तृणमूल कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) शासित त्रिपुरा में अव्यवस्था की स्थिति होने का आरोप लगाया क्योंकि घोष को पुलिस ने गिरफ्तार किया और उन पर हत्या के प्रयास का आरोप लगाया था.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

टीएमसी प्रमुख एवं पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भी दिन में यहां पहुंचने की उम्मीद है.

त्रिपुरा पुलिस ने रविवार को घोष को हत्या के प्रयास के आरोप में गिरफ्तार किया था, जब उन्होंने शनिवार रात ‘खेला होबे’ के नारे लगा कर राज्य के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब की एक बैठक को कथित रूप से बाधित कर दिया था.

पुलिस के एक अधिकारी ने कहा था कि तृणमूल कांग्रेस की पश्चिम बंगाल युवा इकाई की सचिव घोष को अगरतला के एक पुलिस थाने में पूछताछ के लिए बुलाए जाने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया.

उच्चतम न्यायालय ने हाल में त्रिपुरा पुलिस को यह सुनिश्चित करने का निर्देश दिया था कि किसी भी राजनीतिक दल को शांतिपूर्ण तरीके से प्रचार करने के लिए कानून के अनुसार अपने अधिकारों का उपयोग करने से रोका नहीं जाए.


यह भी पढ़ें: पाकिस्तान के F-16 विमान को मार गिराने वाले अभिनंदन वर्तमान को मिला वीर चक्र


 

share & View comments