Thursday, 20 January, 2022
होमराजनीतियुवाओं को लुभाने के लिए अनुच्छेद 370 के नाम पर अमित शाह के संसदीय क्षेत्र में BJP कराएगी स्पोर्ट्स लीग

युवाओं को लुभाने के लिए अनुच्छेद 370 के नाम पर अमित शाह के संसदीय क्षेत्र में BJP कराएगी स्पोर्ट्स लीग

गुजरात बीजेपी नेताओं का कहना है कि लीग का उद्देश्य, ज़्यादा से ज़्यादा युवाओं को बीजेपी के साथ जोड़ना, और खेलों में उनकी हिस्सेदारी को बढ़ाना है.

Text Size:

नई दिल्ली: गांधीनगर में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) एक क्रिकेट और कबड्डी लीग शुरू करने जा रही है- जो धारा 370 के नाम पर गांधी नगर लोकसभा प्रीमियर लीग 370, या जीएलपीएल 370 कहलाएगी – जिसका दोहरा लक्ष्य युवाओं के बीच खेल को प्रोत्साहन देना और उन्हें बीजेपी के साथ जोड़ना है.

गांधीनगर चुनाव क्षेत्र का प्रतिनिधित्व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह करते हैं. गांधीनगर लोकसभा चुनाव क्षेत्र के बीजेपी प्रभारी हरशद पटेल ने दिप्रिंट को बताया कि पहले ही 1400 टीमें क्रिकेट के लिए और 400 टीमें कबड्डी के लिए रजिस्ट्रेशन करा चुकी हैं.

पार्टी की प्रदेश इकाई के महासचिव प्रदीप सिंह वाघेला ने कहा कि शाह ‘गुजरात के पसंदीदा चेहरे’ हैं और जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा ख़त्म करने किए उन्होंने ही धारा 370 को ख़त्म किया था और इसीलिए बीजेपी ने लीग का नाम, धारा 370 के ऊपर रखने का फैसला किया.

वाघेला ने कहा, ‘युवा का प्रेम उनकी (अमित शाह) ओर और ज़्यादा बढ़ा है, आर्टिकल 370 हटाने के बाद.’ पटेल ने कहा कि लीग का उद्देश्य ज़्यादा से ज़्यादा युवाओं को बीजेपी के साथ जोड़ना है, और साथ ही साथ खेलों में उनकी भागीदारी बढ़ाना है.

उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी खेलों में भारत की भागीदारी बढ़ाने पर बल दिया था. इसलिए इस प्रतियोगिता को आयोजित करने का उद्देश्य, युवाओं को किसी भी खेल को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना है. हमने क्रिकेट और कबड्डी के साथ शुरूआत की है, लेकिन हम एथलेटिक्स में भी प्रयोगिताएं आयोजित कराएंगे’.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

ये लीग दिसंबर और जनवरी के बीच खेली जाएगी.


यह भी पढ़ेंः आंतरिक सुरक्षा की चुनौतियों के मद्देनजर अमित शाह शासन पर ज्यादा ध्यान दें और नड्डा पार्टी संभालें


बाद में और टीमें जुड़ेंगी

पटेल ने कहा कि विचार ये है कि कम से कम 2,000 क्रिकेट टीमें जुटाई जाएं.

उन्होंने आगे कहा, ‘एक बूथ एक टीम की तरह काम करेगा. अभी तक विचार ये है कि कम से कम 2,000 क्रिकेट टीमें रखी जाएं. कुछ चुनाव क्षेत्र मुस्लिम-बहुल भी हैं, इसलिए देखते हैं कि आगे कैसे चलता है. हमारा एक लघुमती मोर्चा (अल्पसंख्यक इकाई) है, जो इन चुनाव क्षेत्रों में भी पहुंचेगा’.

फिलहाल, केवल पुरुषों की भागीदारी की अनुमति है, जिसमें 18 वर्ष की आयु सीमा तय है. उन्होंने आगे कहा, ‘हम पहली बार के मतदाताओं को भागीदारी के लिए प्रेरित करना चाहते हैं. टीमें पूरी तरह युवा होंगी, जिनके लिए अधिकतम आयु 25 वर्ष रखी गई है’.

उन्होंने कहा, ‘फिलहाल हम ये आयोजन केवल दोपहर में करेंगे, और हम लड़कियों के लिए भी कुछ आयोजित करने पर विचार कर रहे हैं. ये एक ऐसा मंच बन जाएगा, यहां युवा लोग बीजेपी कार्यकर्त्ताओं तथा नेताओं के साथ मेल-मिलाप कर पाएंगे, और हमारी पार्टी को समझ पाएंगे.’

लीग का नाम धारा 370 पर रखना एक ‘सामूहिक फैसला’

ये पूछे जाने पर कि क्या प्रतियोगिता का आयोजन गृह मंत्री का आइडिया था, पटेल ने कहा कि एक मीटिंग हुई थी जिसमें शाह ने कहा था, कि देश ने ओलम्पिक्स (2020) में अच्छा प्रदर्शन किया है, और संगठन के स्तर से भी कुछ करने की ज़रूरत है.

क्या लीग का नाम भी शाह ने ही सुझाया था, ये पूछने पर शाह ने उसे एक ‘सामूहिक फैसला’ बताया.

पटेल ने कहा, ‘गांधीनगर लोकसभा सीट जिसमें 15-20 विधायक हैं, वहां संगठन के कुछ वरिष्ठ सदस्यों ने तय किया, कि ऐसा नाम रखने से एक राजनीतिक संदेश जाएगा, और साथ ही युवा लोग क्रिकेट तथा बीजेपी के साथ भी जुड़ेंगे. हमें उम्मीद है कि अमित शाह जी उदघाटन समारोह के लिए आएंगे’.

पटेल ने कहा कि विचार भले ही लोगों को बीजेपी में आने के लिए प्रोत्साहित करना हो, लेकिन खेल में हिस्सा लेने के लिए, प्रतिभागियों का बीजेपी समर्थक होना ज़रूरी नहीं है.

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ेंः यूपी की रैली में अमित शाह ने अखिलेश पर साधा निशाना, योगी ने कहा-बदलेंगे आज़मगढ़ का नाम


 

share & View comments