scorecardresearch
Friday, 14 June, 2024
होमराजनीति'भ्रष्टाचार और युवाओं के भविष्य के साथ समझौता नहीं', सचिन पायलट बोले- पिछली सरकार की हो जांच

‘भ्रष्टाचार और युवाओं के भविष्य के साथ समझौता नहीं’, सचिन पायलट बोले- पिछली सरकार की हो जांच

सचिन पायलट ने कहा कि वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली पिछली राज्य सरकार के भ्रष्टाचार की जांच होनी चाहिए और राजस्थान लोक सेवा आयोग (आरपीएससी) के कामकाज में बदलाव लाया जाना चाहिए.

Text Size:

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने बुधवार को कहा कि वह भ्रष्टाचार के मुद्दे पर समझौता नहीं करेंगे और युवाओं के भविष्य के साथ राज्य सरकार को इस संबंध में कार्रवाई करनी चाहिए.

टोंक में मीडिया को संबोधित करते हुए सचिन पायलट ने कहा, “भ्रष्टाचार और युवाओं के भविष्य के साथ किसी तरह का समझौता करना मेरे लिए संभव नहीं है. मैंने 15 मई को जयपुर में अपनी सभा में युवाओं से वादा किया था और उस समय जो कहा था, वह मैंने दिल्ली में पार्टी के नेताओं के सामने रखा है और अब सब कुछ पार्टी के शीर्ष नेताओं के संज्ञान में है.”

उन्होंने आगे उल्लेख किया कि एक जांच भी शुरू होनी चाहिए जिसमें वसुंधरा राजे के नेतृत्व वाली पिछली राज्य सरकार के भ्रष्टाचार की जांच होनी चाहिए और राजस्थान लोक सेवा आयोग (आरपीएससी) के कामकाज में बदलाव लाया जाना चाहिए.

पायलट ने कहा कि “पिछली वसुंधरा सरकार के कार्यकाल में हुए भ्रष्टाचार और लूट की प्रभावी जांच होनी चाहिए, वहीं जिन युवाओं के साथ अन्याय हुआ है उन्हें भी न्याय मिलना चाहिए. मैं इन सभी पर राज्य सरकार की कार्रवाई का इंतजार कर रहा हूं.”

सचिन पायलट ने यह भी कहा कि उन्होंने दिल्ली में शीर्ष कांग्रेस नेताओं के सामने युवाओं की शिकायतों को रखकर कुछ भी गलत नहीं किया है क्योंकि पार्टी ने कई मौकों पर सुझाव दिया है कि वह भ्रष्टाचार के खिलाफ खड़ी है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

उन्होंने कहा, “कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी कई बार दोहराया है कि हमारी पार्टी भ्रष्टाचार के खिलाफ है और जीरो टॉलरेंस की नीति पर काम करती है साथ ही हमारी पार्टी युवाओं पर किसी भी तरह के अत्याचार को बर्दाश्त नहीं करेगी, इसलिए मैंने जो कहा उसमें कुछ भी गलत नहीं है.”

इससे पहले सोमवार को कांग्रेस आलाकमान ने राजस्थान में जारी राजनीतिक खींचतान के मद्देनजर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट को पार्टी अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के साथ अलग-अलग बैठकों के लिए तलब किया था.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और सचिन पायलट के साथ बैठक के बाद कांग्रेस ने संयुक्त मोर्चे का अनुमान लगाते हुए कहा कि दोनों नेता आगामी चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के खिलाफ मिलकर लड़ेंगे.

इस बारे में केसी वेणुगोपाल ने कहा, “हमने एकजुट होकर चुनाव लड़ने का फैसला किया है. निश्चित रूप से हम राजस्थान में चुनाव जीतेंगे. अशोक गहलोत और सचिन पायलट दोनों ने सर्वसम्मति से प्रस्ताव पर सहमति जताई है.”


यह भी पढ़ें: ‘उनकी पीड़ा महसूस कर सकते हैं’, पार्टी खामोश पर BJP सांसद बृजेंद्र सिंह का पहलवानों के प्रति छलका दर्द


share & View comments