Saturday, 21 May, 2022
होमराजनीतिराउत ने मोदी सरकार पर लगाया आरोप, कहा- परमबीर सिंह को उसने भारत छोड़ने में मदद की

राउत ने मोदी सरकार पर लगाया आरोप, कहा- परमबीर सिंह को उसने भारत छोड़ने में मदद की

मुकेश अंबानी के घर के पास मिले विस्फोटक मामले में परमबीर के मुंबई पुलिस आयुक्त पद से हटने के बाद उन्होने महाराष्ट्र के तत्कालीन गृहमंत्री अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे.

Text Size:

मुंबई: शिवसेना सांसद संजय राउत ने मंगलवार को आरोप लगाया कि आईपीएस अधिकारी परमबीर सिंह फरार नहीं हैं, बल्कि उन्हें देश से बाहर निकाला गया है और वह केंद्र की मदद के बिना ऐसा नहीं कर सकते थे.

राउत ने पत्रकारों से कहा कि केंद्रीय एजेंसी ने परमबीर के आरोपों पर महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को गिरफ्तार किया है. यह ‘बहुत दुर्भाग्यपूर्ण और अनैतिक’ है. देशमुख की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी महाराष्ट्र में शिवसेना और कांग्रेस के साथ सत्ता में है.

परमबीर सिंह महाराष्ट्र पुलिस द्वारा दर्ज वसूली के कुछ मामलों समेत कई मामलों में जांच का सामना कर रहे हैं. हाल में मुंबई और पड़ोसी ठाणे में वसूली के अलग-अलग मामलों में उनके खिलाफ दो गैर-जमानती वारंट जारी किए गए.

दक्षिण मुंबई में उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के पास एक एसयूवी मिली थी जिसमें विस्फोटक थे और मामले में सचिन वाजे की गिरफ्तारी के बाद परमबीर को मार्च 2021 में मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से हटा दिया गया था. परमबीर ने बाद में महाराष्ट्र के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाए थे.

हाल में महाराष्ट्र सरकार ने बॉम्बे हाई कोर्ट को बताया था कि उसे नहीं मालूम कि परमबीर कहां है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें


यह भी पढ़ें: ED ने मनी लॉन्डरिंग मामले में महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री देशमुख विशेष अदालत में पेश किया


राउत ने कहा, ‘जब पुलिस महानिदेशक पद के समान पद का कोई व्यक्ति देश से बाहर जाता है तो वह केंद्र सरकार के सहयोग के बिना ऐसा नहीं कर सकता. वह फरार नहीं हुए हैं बल्कि उन्हें देश से बाहर निकाला गया है. उनके आरोपों पर केंद्रीय एजेंसियों ने पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को गिरफ्तार किया है. यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है क्योंकि उनकी गिरफ्तारी अनैतिक है.’

शिवसेना नेता ने कहा कि आरोपों के आधार पर जांच की गई लेकिन देशमुख को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अधिकारियों ने जांच के पहले दिन ही गिरफ्तार कर लिया. उन्होंने कहा, ‘मुझे लगता है कि यह महाविकास अघाडी सरकार के प्रमुख नेताओं को परेशान करने, उन्हें बदनाम करने और उन पर कीचड़ उछालने की पूर्व नियोजित रणनीति है.’

ईडी ने धन शोधन के एक मामले में देशमुख को 12 घंटे से अधिक समय तक चली पूछताछ के बाद सोमवार देर रात गिरफ्तार कर लिया. धन शोधन का यह मामला महाराष्ट्र पुलिस में कथित वसूली गिरोह से जुड़ा है.

जाहिर है कि महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री आशीष शेलार ने मंगलवार को आरोप लगाया कि एमवीए सरकार ने परमबीर सिंह को फरार होने में मदद की होगी और हो सकता है कि वह ‘उनके लिए किसी पश्चिमी देश में राजनीतिक शरण हासिल करने की जमीन तैयार कर रही हो.’


यह भी पढ़ें: महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख 100 करोड़ रुपये की वसूली के मामले में ED के सामने पेश


 

share & View comments