scorecardresearch
Sunday, 25 February, 2024
होमराजनीतिमहबूबा बोलीं- जम्मू-कश्मीर में लोग 'निराशा' और 'डर' के साए में जी रहे, PDP कोई भी बलिदान देने को तैयार

महबूबा बोलीं- जम्मू-कश्मीर में लोग ‘निराशा’ और ‘डर’ के साए में जी रहे, PDP कोई भी बलिदान देने को तैयार

उन्होंने कहा कि पार्टी ने 'लोगों को इस स्थिति से बचाने' और अपने संस्थापक मुफ्ती मोहम्मद सईद के 'जम्मू-कश्मीर को इस समस्या के दलदल से बाहर निकालने' संबंधी एजेंडे को पूरा करने के लिए एक सार्वजनिक पहुंच कार्यक्रम शुरू किया है.

Text Size:

श्रीनगर : पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने रविवार को आरोप लगाया कि जम्मू-कश्मीर में लोग ”निराश” हैं और ”डर” के साए में जी रहे हैं.

महबूबा ने कुलगाम में संवाददाताओं से कहा, ‘‘निराशा है, लोगों को गिरफ्तार किया जा रहा है, हाल में सरजन बरकती की पत्नी को आतंकी वित्तपोषण मामले में गिरफ्तार किया गया. कोई सबूत नहीं है, कोई सुनवाई नहीं है. लोगों को बस गिरफ्तार कर जेल भेज दिया जाता है. इसलिए लोग दबाव और डर के साए में जी रहे हैं.’’

पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख ने दक्षिण कश्मीर जिले के मंजगाम में पार्टी कार्यकर्ताओं के एक सम्मेलन को संबोधित किया.

उन्होंने कहा कि पार्टी ने ‘लोगों को इस स्थिति से बचाने’ और अपने संस्थापक मुफ्ती मोहम्मद सईद के ‘जम्मू-कश्मीर को इस समस्या के दलदल से बाहर निकालने’ संबंधी एजेंडे को पूरा करने के लिए एक सार्वजनिक पहुंच कार्यक्रम शुरू किया है.

महबूबा कहा, ‘पीडीपी कोई भी बलिदान देने के लिए तैयार है और इसीलिए मैं लोगों के पास जा रही हूं.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

कुछ राजनीतिक नेताओं के इन आरोपों के बारे में पूछे जाने पर कि यह पीडीपी ही थी जो 2015 में गठबंधन करके भाजपा को जम्मू-कश्मीर में लेकर आई, महबूबा ने कहा कि इसके पीछे उनके पिता के उद्देश्य को समझने के लिए ‘विशाल दृष्टिकोण, बड़ी सोच’ की आवश्यकता है.


यह भी पढे़ं : राहुल ने तेलंगाना में उठाया रोजगार का मुद्दा, कहा- राज्य सरकार के पास युवाओं की बात सुनने का समय नहीं


 

share & View comments