scorecardresearch
Friday, 14 June, 2024
होमराजनीति'इंडिया इज़ इंदिरा' की तर्ज पर UP कांग्रेस के नए प्रमुख का नारा- 'भारत इज़ राहुल जी, राहुल जी इज़ भारत'

‘इंडिया इज़ इंदिरा’ की तर्ज पर UP कांग्रेस के नए प्रमुख का नारा- ‘भारत इज़ राहुल जी, राहुल जी इज़ भारत’

दिप्रिंट को दिए गए इंटरव्यू में उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष बृजलाल खबरी ने कहा कि 'देश, लोकतंत्र और संविधान को बचाने' के लिए भाजपा से लड़ने वाली एक मात्र पार्टी कांग्रेस ही है.

Text Size:

लखनऊ: उत्तर प्रदेश कांग्रेस प्रमुख बृजलाल खबरी ने कहा कि, ‘कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को मिल रही प्रतिक्रिया से प्रतीत होता है कि ‘भारत इज़ राहुल जी एंड राहुल जी इज़ भारत.’ इसे उन्होंने उसी तर्ज पर गढ़ा है जैसा पार्टी के पूर्व अध्यक्ष देवकांत बरुआ ने 1970 में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के संदर्भ में इस्तेमाल किया था.

खबरी ने सोमवार को दिप्रिंट को बताया, ‘न डरना है, न झुकना है’ ये राहुल जी का नारा है. आप आज किसी और पार्टी को बीजेपी से लड़ते हुए नहीं पाएंगे. हमारे सभी क्षेत्रीय दलों को देखिए, क्या वो भाजपा से लड़ते हुए दिख रहे हैं? अगर कोई (भाजपा) लड़ रहा है, तो वह कांग्रेस है. हमारे नेता राहुल गांधी हर लड़ाई लड़ रहे हैं.’

17 अक्टूबर को निर्धारित कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव से कुछ दिन पहले एक अक्टूबर को उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी (यूपीसीसी) के अध्यक्ष नियुक्त किए गए खबरी ने कहा, ‘मुद्दों को लेकर संसद में लड़ाई लड़ी जाती है, लेकिन उसके लिए चर्चा का होना जरूरी. मगर बीजेपी कभी भी चर्चा के लिए तैयार नहीं होती. अगर संसद में बहस ही नहीं होगी तो देश को क्या फायदा होगा? इसलिए राहुल जी ने एक नया रास्ता निकाला और जनता के बीच जाने का फैसला किया. वह जनता के साथ कन्याकुमारी से चले. आज पूरे भारत में वह (अपनी यात्रा के दौरान) जहां भी पहुंचे, वहां मौजूद भीड़ दर्शाती है कि भारत इज़ राहुल जी एंड राहुल जी इज़ भारत.’

यूपीसीसी अध्यक्ष ने यह भी दावा किया कि 2024 के आम चुनावों में कांग्रेस यूपी- एक ऐसा राज्य जहां इस साल की शुरुआत में हुए विधानसभा चुनावों में पार्टी बुरी तरह से हारी– की सभी 80 लोकसभा सीटों से उम्मीदवार उतारेगी और भाजपा की ‘नफरत की राजनीति’ से लड़ेगी.’

उन्होंने साफ तौर पर कहा, ‘उन सभी के लिए दरवाजे खुले हैं जो कांग्रेस के साथ चलना चाहते हैं और देश, लोकतंत्र एवं संविधान को बचाने के लिए लड़ना चाहते हैं’ खबरी ने प्रतिद्वंद्वी दलों से 2024 के लोकसभा चुनाव के ‘महा संग्राम में हाथ मिलाने का आह्वान किया.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

यूपी कांग्रेस अध्यक्ष ने राहुल गांधी की चल रही ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के कार्यक्रम का बचाव भी किया, जिसकी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (मार्क्सवादी) ने वाम शासित केरल में 18 दिन और भाजपा शासित यूपी में सिर्फ दो दिन बिताने के लिए यह कहते हुए आलोचना की कि बीजेपी-आरएसएस से लड़ने का यह अजीब तरीका है. हालांकि यात्रा के यूपी-लेग को कथित तौर पर पांच दिनों तक बढ़ा दिया गया.

उन्होंने कहा, ‘150 दिन में……3,570 किलोमीटर चलने का नक्शा तैयार किया गया है… हम काफी चल चुके हैं. इसमें अनुचित या फिर किसी एक जगह को छोड़कर दूसरी जगह पर ज्यादा चलने जैसा कुछ नहीं है. हम सभी के साथ हैं.’


यह भी पढ़ेंः ऑटोप्सी में किसी चोट की पुष्टि नहीं, पर दलित किशोर का परिवार बोला—’उसने बताया था कि टीचर ने पीटा है’


UP की सभी 80 लोकसभा सीटों पर लड़ेंगे चुनाव’

2024 के लोकसभा चुनावों के बारे में बात करते हुए खबरी ने दिप्रिंट को बताया कि जिस तरह से हमने 2022 के विधानसभा चुनाव लड़े थे, ठीक वैसे ही कांग्रेस सभी 80 सीटों पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी. सभी सीटों पर उम्मीदवार उतारे जाएंगे.

जब लोकसभा चुनाव के लिए कांग्रेस की रणनीति के बारे में पूछा गया तो खबरी ने कहा,‘हम पूरी ताकत से लड़ेंगे ताकि देश की स्थिति में सुधार हो सके. राहुल जी ने नफरत फैलाने वालों को ठीक करने की कसम खाई है. एक पार्टी ने पूरे देश को नफरत में डुबो दिया है.’

कुछ महीने पहले समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव से अलग हो चुके चाचा शिवपाल यादव, जो प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के प्रमुख हैं, से कांग्रेस के संपर्क करने की खबरें आईं थी. इस पर प्रतिक्रिया देते हुए खबरी ने कहा कि कांग्रेस बड़े दिल वाली पार्टी है और इसके दरवाजे सभी के लिए खुले हैं.

उन्होंने कहा, ‘हमें देश, लोकतंत्र और संविधान को बचाना है. इस समय जो कोई भी हमारे साथ चलने को तैयार है, उसके लिए दरवाजा खुला है. वे महासंग्राम में शामिल हो सकते हैं क्योंकि इस समय देश और संविधान को बचाना बहुत जरूरी है. अगर लोकतंत्र जीवित नहीं रहा है, तो हम कल्पना नहीं कर सकते कि भविष्य कैसा होगा.’

हालांकि पिछले महीने शिवपाल ने टिप्पणी की थी कि उनकी पार्टी 2024 तक सरकार में होगी. इसके बाद से भविष्य में भाजपा के नेतृत्व वाले एनडीए के साथ संभावित गठबंधन की अटकलें भी लगाई जा रही हैं.

यह देखते हुए कि कांग्रेस पिछले लोकसभा चुनावों में यूपी में सिर्फ एक सीट पाई थी और 2019 में राज्य में केवल 6.36 प्रतिशत वोट हासिल किया था, 2024 के चुनावों में कांग्रेस के प्रदर्शन को लेकर उनकी क्या उम्मीदें है? इस पर खबरी ने विश्वास जताते हुए कहा, चल रही भारत जोड़ो यात्रा के कारण आगामी चुनावों में हम बेहतर प्रदर्शन करेंगे.

उन्होंने कहा, ‘वह (राहुल गांधी) जहां भी जा रहे हैं, लाखों लोग बड़े प्यार के साथ उनके आसपास इकट्ठा हो रहे हैं… मानो पूरा भारत उनके पीछे, उनके बगल में और उनके आगे चल रहा है. ऐसा लगता है कि भारत ही राहुल जी हैं और राहुल जी ही भारत हैं. आज हम इसे महसूस कर सकते हैं.’

जब उनसे पूछा गया कि कांग्रेस किन सीटों पर बेहतर कर पाएगी? खबरी ने कहा कि वे यूपी की सभी 80 सीटों पर बहुत अच्छा प्रदर्शन करेंगे और ‘समय सब बता देगा.’


यह भी पढ़ेंः मौत के 18 महीने बाद घर में व्यक्ति का ‘ममीकृत शव’ मिलने के बाद कानपुर पुलिस ने जांच शुरू की


‘बाबासाहेब के अनुयायी कांग्रेस के साथ चलने को तैयार’

पिछले महीने एक अधिवेशन में बोलते हुए समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने डॉ बी.आर. अम्बेडकर और राम मनोहर लोहिया के अनुयायियों को एक साथ आने आह्वान किया था. इसे पार्टी वोट बैंक का विस्तार करने के लिए पिछड़े वर्गों, दलितों और मुसलमानों को एकीकृत करने का प्रयास माना गया.

अखिलेश की टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया देते हुए खबरी ने कहा, ‘जब वे अंबेडकर बने थे, तो कांग्रेस ने बाबासाहेब अंबेडकर का समर्थन किया था. बाबासाहेब कांग्रेस के माध्यम से संविधान सभा में गए. कांग्रेस और अंबेडकर अलग नहीं हैं. बाबासाहेब का अनुसरण करने वाला समुदाय आज कांग्रेस के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने को तैयार है. मुझे पूरी उम्मीद है कि हम सब मिलकर लोकतंत्र, संविधान और देश को बचाने में कामयाब रहेंगे.’

ब्राह्मण, मुस्लिम और दलित समुदायों के नेताओं को कांग्रेस में छह प्रांतीय अध्यक्षों के रूप में नियुक्त किए जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं को जाति और धर्म के चश्मे से देखना अनुचित होगा.

उन्होंने कहा, ‘एक कांग्रेस कार्यकर्ता स्वाभाविक रूप से किसी न किसी जाति या धर्म से होगा ही. अगर हम उसे जाति और धर्म की तराजू में रखकर देखेंगे तो मुझे लगता है यह अन्याय होगा. हम इंसान हैं, हमने किसी भी जाति में जन्म लिया हो, लेकिन हमारी विचारधारा एक ही है. हम देश को बचाने, लोगों को महंगाई, बेरोजगारी और स्वास्थ्य, सड़क आदि के लिए काम करने के उद्देश्य से एक साथ कांग्रेस को आगे ले जा रहे हैं. यह हम तभी कर सकते हैं जब हम लोकतंत्र को बचा पाएंगे.’

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ेंः ‘नेताजी’ मुलायम सिंह यादव—SP के संस्थापक जिनके सहयोगी, प्रतिद्वंद्वी हमेशा अटकलें लगाते रह जाते थे


 

share & View comments