scorecardresearch
Tuesday, 28 May, 2024
होमराजनीतिबजरंग दल कार्यकर्ता की मौत पर हरियाणा के AAP नेता के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज, AAP और BJP में झड़प

बजरंग दल कार्यकर्ता की मौत पर हरियाणा के AAP नेता के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज, AAP और BJP में झड़प

जावेद अहमद पर नूंह में हिंसक हुए धार्मिक जुलूस से लौट रहे बजरंग दल कार्यकर्ता प्रदीप कुमार और साथियों की हत्या के लिए भीड़ को उकसाने का आरोप है.

Text Size:

गुरुग्राम: नूंह में 31 जुलाई को हुई हिंसा के दौरान बजरंग दल के एक कार्यकर्ता की मौत के मामले में आम आदमी पार्टी (आप) के एक नेता के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज होने के बाद हरियाणा में राजनीतिक विवाद खड़ा हो गया है.

आप के राज्य संयोजक जावेद अहमद पर बजरंग दल के कार्यकर्ता प्रदीप कुमार की हत्या में कथित संलिप्तता के लिए मामला दर्ज किया गया था, जिन पर 31 जुलाई और 1 अगस्त की रात को सोहना के पास भीड़ ने हमला किया था. प्रदीप धार्मिक जुलूस में शामिल होने के लिए नूंह गए थे, जहां सांप्रदायिक झड़पें हुईं और वे कार से वापस गुरुग्राम जा रहे थे.

अहमद पर भीड़ को प्रदीप और उसके साथियों की हत्या के लिए उकसाने का आरोप है, जो कार में नूंह से लौट रहे थे. दिप्रिंट द्वारा एक्सेस की गई एफआईआर 2 अगस्त को सोहना के सिटी थाने में पवन कुमार ने दर्ज कराई थी, जो उस कार को चला रहा था जिसमें पीड़ित 31 जुलाई को अन्य बजरंग दल के सदस्यों के साथ गुरुग्राम की यात्रा कर रहे थे.

आप नेता के खिलाफ एफआईआर आईपीसी की धारा 147 (दंगा), 148 (घातक हथियारों से लैस दंगा), 149 (गैरकानूनी सभा), 188 (लोक सेवक द्वारा विधिवत घोषित आदेश की अवज्ञा), 302 (हत्या), 506 (आपराधिक धमकी) शस्त्र अधिनियम, 1959 की धारा 25 (1बी-ए)/54/59 के तहत दर्ज की गई थी.

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने मांग की है कि पुलिस अहमद के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करे, जबकि आप ने भाजपा पर उसके नेता को झूठे मामले में फंसाने का आरोप लगाया है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

चुनाव आयोग की वेबसाइट के अनुसार, अहमद ने 2014 और 2019 में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के उम्मीदवार के रूप में सोहना निर्वाचन क्षेत्र से दो बार विधानसभा चुनाव लड़ा था, लेकिन दोनों बार क्रमशः 39,868 और 21,791 वोटों के साथ तीसरे स्थान पर रहे. वे कथित तौर पर पिछले साल 15 मार्च को आप पार्टी में शामिल हुए थे.

पवन कुमार की शिकायत के अनुसार, सोहना पहुंचने तक बजरंग दल के सदस्यों की दो अन्य कारों और एक पुलिस एस्कॉर्ट ने उनका पीछा किया, जहां पुलिस एस्कॉर्ट ने उन्हें यह कहते हुए छोड़ दिया कि सोहना पुलिस उनकी देखभाल करेगी.

पवन ने अपनी शिकायत में कहा कि जैसे ही वे पुलिस एस्कॉर्ट से निकले, एक स्कॉर्पियो कार ने उनका रास्ता रोक लिया और पिस्तौल, रॉड और लाठियों से लैस लगभग 150 लोगों ने उन्हें घेर लिया. उन्होंने दावा किया कि कुछ पत्थरों के टकराने के बाद उन्होंने अपनी कार पर नियंत्रण खो दिया और कार सड़क के डिवाइडर से टकरा गई.

कुमार ने दावा किया, “जब मैं कार से बाहर आया, तो मैंने देखा कि अहमद वहां खड़ा था, जिसने भीड़ से कहा कि आज इन्हें जान से मार दो, जो होगा मैं संभाल लूंगा.”

उन्होंने कहा कि उन्हें और प्रदीप कुमार को कार से बाहर खींच लिया गया और 20-25 लोगों ने पीटा. उन्होंने बताया कि जब पुलिस उन्हें बचाने और अस्पताल ले जाने के लिए आई, तब भी कुछ युवक प्रदीप पर हमला कर रहे थे, जिसकी बाद में बुधवार को सफदरजंग अस्पताल में मौत हो गई.

हालांकि, आप के प्रदेश अध्यक्ष सुशील गुप्ता ने एफआईआर को विपक्षी दलों के नेताओं को झूठे मामलों में फंसाने की भाजपा की “गंदी राजनीति” करार दिया. गुप्ता ने दिप्रिंट को बताया कि अहमद उस रात घटना स्थल से 100 किमी से अधिक दूर थे और उसके पास उसके मोबाइल लोकेशन का सबूत था.

इस बीच, बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष ओ.पी. धनखड़ ने रविवार को दिप्रिंट को बताया कि जुलूस एक धार्मिक कार्यक्रम था जिसमें धार्मिक लोग शामिल हुए थे, बीजेपी कार्यकर्ता नहीं.

धनखड़ ने कहा, “दंगाइयों ने एक धार्मिक कार्यक्रम पर हमला किया है और अगर आप से जुड़े राजनीतिक नेता इसमें शामिल पाए गए हैं तो यह बेहद निंदनीय है, उन्हें कड़ी सज़ा दी जानी चाहिए.”

दिप्रिंट ने रविवार को कॉल और टेक्स्ट मैसेज के जरिए जावेद अहमद से संपर्क किया, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला. उनसे संपर्क हो जाने पर इस खबर को अपडेट कर दिया जाएगा.


यह भी पढ़ें: नूंह हिंसा के बाद अवैध संपत्तियों पर चला बुलडोजर तो कांग्रेस MLA बोले- कार्रवाई गैरकानूनी, जाऊंगा कोर्ट


राजनीतिक प्रतिक्रियाएं

प्रदीप कुमार, जो गुरुग्राम में रहते थे और बजरंग दल से थे, ब्रजमंडल यात्रा में शामिल हुए थे, जिस पर 31 जुलाई को नूंह में हमला किया गया था. खबरों के अनुसार, वो ज़िंदा रहने में कामयाब रहा और नूंह के नलहर में एक प्राचीन शिव मंदिर में शरण ली और बाद में पुलिस ने उन्हें बचाया था.

उस रात बाद में वे कथित तौर पर कुछ अन्य लोगों के साथ गुरुग्राम वापस जा रहे थे, जब सोहना के पास एक बड़ी भीड़ ने उन पर हमला किया.

एफआईआर को झूठा बताकर खारिज करने वाले गुप्ता के मुताबिक, घटना की रात अहमद सोहना में मौजूद नहीं था.

गुप्ता ने रविवार को दिप्रिंट से कहा, “अहमद उस रात नूंह जिले के पुन्हाना में थे. उन्होंने अपने मोबाइल लोकेशन के सारे सबूत पुलिस को दे दिए हैं. नूंह हिंसा के बाद वे जिला अधिकारियों द्वारा गठित शांति समिति का भी हिस्सा थे और नियमित रूप से इसकी बैठकों में भाग लेते थे.”

आप के प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि पार्टी को अहमद की भूमिका की जांच करने में कोई समस्या नहीं है, उन्होंने कहा, “लेकिन साथ ही पुलिस की भूमिका की भी जांच की जानी चाहिए. इसकी भी जांच होनी चाहिए कि यात्रा के दौरान संभावित हिंसा की खुफिया जानकारी को क्यों नज़रअंदाज किया गया.”

गुप्ता ने यह भी आरोप लगाया कि भाजपा को दंगों की साजिश रचने और फिर विपक्षी दलों के नेताओं को झूठे आपराधिक मामलों में फंसाने की आदत है.

हालांकि, गुप्ता के आरोपों को खारिज करते हुए धनखड़ ने कहा कि एफआईआर की जांच पुलिस कर रही है और बीजेपी का इससे कोई लेना-देना नहीं है.

(संपादन: फाल्गुनी शर्मा)

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: नूंह हिंसा ने पूरे भारत का ध्यान अपनी ओर खींचा, लेकिन मेवात हमेशा से सांप्रदायिक क्षेत्र नहीं था


 

share & View comments