भाजाप में शामिल हुए मणिपुर कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष गोविनदास कोंथूजाम.
Text Size:

नई दिल्ली: आगामी मणिपुर विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को एक बड़ा झटका लगा है. कांग्रेस की राज्य इकाई के पूर्व अध्यक्ष गोविनदास कोंथूजाम ने रविवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का दामन थाम लिया.

राजधानी स्थित भाजपा मुख्यालय में मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बिरेन सिंह, राज्य के केंद्रीय प्रभारी संबित पात्रा, केंद्रीय मंत्री राजकुमार राजन सिंह और राज्यसभा सदस्य व पार्टी के मीडिया विभाग के प्रभारी अनिल बलूनी की मौजूदगी में कोंथूजाम को भाजपा की सदस्यता दिलाई गई.

इस अवसर पर बलूनी ने कहा, ‘हम भाजपा परिवार में उनका स्वागत करते हैं.’

पात्रा ने कहा कि कोंथूजाम न सिर्फ मणिपुर, बल्कि समूचे पूर्वोत्तर का एक जाना-माना चेहरा हैं और उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के काम से प्रभावित होकर भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है.

उन्होंने कहा, ‘यह प्रधानमंत्री मोदी के विकास कार्यों पर मुहर है.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

मुख्यमंत्री बिरेन सिंह ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा के कामकाज से मणिपुर की जनता बहुत प्रभावित है तथा वह भाजपा से जुड़ना चाहती है.

उन्होंने कहा कि देश के इतिहास में पहली बार केंद्रीय मंत्रिपरिषद में पूर्वोत्तर को प्रतिनिधित्व दिया गया है और प्रधानमंत्री मोदी ने क्षेत्र से पांच सांसदों को मंत्री बनाया है.

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले साढे़ चार साल में मणिपुर में विकास के अनेक काम हुए हैं और राज्य में शांति का माहौल है.

उन्होंने कहा, ‘पहले हर दिन बंद, नाकेबंदी, फर्जी मुठभेड़ हुआ करती थीं लेकिन पिछले साढे़ चार साल में केंद्रीय नेतृत्व के मार्गदर्शन में मणिपुर विकास और शांति की दिशा में आगे बढ़ रहा है.’

सिंह ने कोंथूजाम को अपना मित्र बताया और कहा कि दोनों जब कांग्रेस में थे तब उन्होंने मणिपुर को बदलने के लिए संकल्प के साथ काम किया था और आगे साथ मिलकर इसी संकल्प के साथ काम करेंगे.

कांग्रेस के केंद्रीय नेतृत्व पर निशाना साधते हुए सिंह ने कहा, ‘जब मैं कांग्रेस में था तब मणिपुर को बदलने के संकल्प के साथ हमने काम किया लेकिन जो ‘ड्राइवर’ है वह नहीं मानेगा तो हम लोग बस में बैठने वाले क्या कर सकते हैं.’

उन्होंने बताया कि कोंथूजाम उनके साथ ही भाजपा में शामिल होने वाले थे लेकिन उस समय कुछ संवादहीनता हो गई थी और उनके भाजपा में आने में थोड़ी देरी हो गई.

सिंह ने दावा किया कि आने वाले दिनों में अभी और लोग भाजपा में शामिल होंगे.

आगामी चुनाव में जीत का दावा करते हुए उन्होंने कहा, ‘मणिपुर को सबसे अच्छा राज्य बनाएंगे. दुनिया को दिखाएंगे कि मणिपुर में शांति हो सकती है और विकास हो सकता है.’

कोंथूजाम ने इस अवसर पर कहा, ‘पार्टी के लिए मैं पूरे मन से काम करूंगा और पार्टी का जो भी आदेश होगा, उसके अनुसार काम करूंगा. अगले साल विधानसभा चुनाव में भाजपा को पूर्ण बहुमत दिलाकर सत्ता में वापसी के लिए दिल लगाकर काम करूंगा.’

उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों कोंथूजाम ने निजी कारणों का हवाला देते हुए मणिपुर कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था.

वह बिष्णुपर से लगातार छह बार विधायक रहे हैं.

पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस ने राज्य की 60 में 28 सीटों पर जीत दर्ज की थी और वह सबसे बड़ी पार्टी के रूप में उभरी थी लेकिन 21 सीट जीतने के बावजूद भाजपा ने अन्य क्षेत्रीय दलों के समर्थन से सरकार बना ली. इनमें नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) के चार, नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) के चार और तृणमूल कांग्रेस व लोक जनशक्ति पार्टी के एक-एक विधायक और एक निर्दलीय शामिल थे.

अगले साल की शुरुआत में राज्य में विधानसभा चुनाव होना है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

क्यों न्यूज़ मीडिया संकट में है और कैसे आप इसे संभाल सकते हैं

आप ये इसलिए पढ़ रहे हैं क्योंकि आप अच्छी, समझदार और निष्पक्ष पत्रकारिता की कद्र करते हैं. इस विश्वास के लिए हमारा शुक्रिया.

आप ये भी जानते हैं कि न्यूज़ मीडिया के सामने एक अभूतपूर्व संकट आ खड़ा हुआ है. आप मीडिया में भारी सैलेरी कट और छटनी की खबरों से भी वाकिफ होंगे. मीडिया के चरमराने के पीछे कई कारण हैं. पर एक बड़ा कारण ये है कि अच्छे पाठक बढ़िया पत्रकारिता की ठीक कीमत नहीं समझ रहे हैं.

हमारे न्यूज़ रूम में योग्य रिपोर्टरों की कमी नहीं है. देश की एक सबसे अच्छी एडिटिंग और फैक्ट चैकिंग टीम हमारे पास है, साथ ही नामचीन न्यूज़ फोटोग्राफर और वीडियो पत्रकारों की टीम है. हमारी कोशिश है कि हम भारत के सबसे उम्दा न्यूज़ प्लेटफॉर्म बनाएं. हम इस कोशिश में पुरज़ोर लगे हैं.

दिप्रिंट अच्छे पत्रकारों में विश्वास करता है. उनकी मेहनत का सही वेतन देता है. और आपने देखा होगा कि हम अपने पत्रकारों को कहानी तक पहुंचाने में जितना बन पड़े खर्च करने से नहीं हिचकते. इस सब पर बड़ा खर्च आता है. हमारे लिए इस अच्छी क्वॉलिटी की पत्रकारिता को जारी रखने का एक ही ज़रिया है– आप जैसे प्रबुद्ध पाठक इसे पढ़ने के लिए थोड़ा सा दिल खोलें और मामूली सा बटुआ भी.

अगर आपको लगता है कि एक निष्पक्ष, स्वतंत्र, साहसी और सवाल पूछती पत्रकारिता के लिए हम आपके सहयोग के हकदार हैं तो नीचे दिए गए लिंक को क्लिक करें. आपका प्यार दिप्रिंट के भविष्य को तय करेगा.

शेखर गुप्ता

संस्थापक और एडिटर-इन-चीफ

अभी सब्सक्राइब करें

VIEW COMMENTS