scorecardresearch
Tuesday, 28 May, 2024
होमराजनीतिज़मीन, इक्विटी के बजाय FD और छोटी बचत योजनाएं — मोदी के निवेश के बारे में क्या कहता है चुनावी हलफनामा

ज़मीन, इक्विटी के बजाय FD और छोटी बचत योजनाएं — मोदी के निवेश के बारे में क्या कहता है चुनावी हलफनामा

हलफनामे के अनुसार, मोदी की संपत्ति 2019 में 2.55 करोड़ रुपये से बढ़कर 2024 में 3.02 करोड़ रुपये हो गई — यानी की कुल 18.4% की वृद्धि. यह दर्शाता है कि प्रधानमंत्री सुरक्षित विकल्प पसंद करते हैं और उनका इक्विटी बाज़ार में कोई निवेश नहीं है.

Text Size:

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कुल संपत्ति 2019 में 2.55 करोड़ रुपये थी जो कि 2024 में लगभग 18 प्रतिशत बढ़कर 3.02 करोड़ रुपये हो गई, जैसा कि उन्होंने वाराणसी निर्वाचन क्षेत्र से अपना नामांकन दाखिल करते समय जमा किए गए हलफनामे में घोषित किया है.

हलफनामे से पता चलता है कि पीएम सावधि जमा और छोटी निवेश योजनाओं जैसे सुरक्षित विकल्पों के माध्यम से बचत करना पसंद करते हैं. उनका इक्विटी मार्केट में कोई निवेश नहीं है.

हलफनामे में यह भी बताया गया है कि 2024 में मोदी के पास शून्य अचल संपत्ति है, यानी पीएम के पास कोई ज़मीन नहीं है और आवासीय या वाणिज्यिक परिसर नहीं हैं. 2014 में मोदी के पास 1 करोड़ रुपये की अचल संपत्ति थी, जो 2019 में बढ़कर 1.1 करोड़ रुपये हो गई. इनमें गुजरात के गांधीनगर में एक आवासीय घर भी शामिल है.

भाजपा सुप्रीमो ने अपने निवेश का सबसे बड़ा हिस्सा सावधि जमा के रूप में रखा है, जिसकी कीमत 2.85 करोड़ रुपये (2,85,60,338 रुपये) है. 2014 (32,48,989 रुपये) और 2019 (1,27,81,574 रुपये) में एफडी में उनकी हिस्सेदारी की तुलना करने पर, यह 2019 से 123 प्रतिशत की वृद्धि है. उनकी सभी सावधि जमा भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के पास हैं. 2014 में मोदी के पास 17 फिक्स्ड डिपॉजिट थे, जो 2019 में बढ़कर 61 और 2024 में बढ़कर 95 हो गए.

2023-24 में मोदी ने राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र जैसे छोटे पैमाने के निवेश कार्यक्रमों के माध्यम से 9.12 लाख रुपये (9,12,398 रुपये) का निवेश किया, जिसे किसी भी डाकघर में खोला जा सकता है — 2019 में 7.61 लाख रुपये (7,61,466) से मामूली सुधार , लेकिन 2014 में 2.35 लाख रुपये (2,35,000 रुपये) से काफी अधिक है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

Graphic by Prajna Ghosh, ThePrint
ग्राफिक: प्रज्ञा घोष/दिप्रिंट

भाजपा के वाराणसी लोकसभा सीट के उम्मीदवार का निवेश राहुल गांधी के निवेश पोर्टफोलियो के एकदम विपरीत है, जिसमें स्टॉक होल्डिंग्स, म्यूचुअल फंड, सावधि जमा आदि सहित बहुआयामी बचत दृष्टिकोण दिखाया गया है.

मोदी के पास 2014 और 2019 में क्रमशः 1.99 लाख रुपये और 1.90 लाख रुपये की दो एलआईसी पॉलिसियां भी थीं. हालांकि, उनके 2024 के हलफनामे में इनका कोई ज़िक्र नहीं है.

उनके हलफनामे के अनुसार, 2014 के बाद से मोदी के पास सोने (गोल्ड) में कोई बदलाव नहीं आया है. पिछले दो हलफनामों में भी कहा गया है कि उनके पास चार सोने की अंगूठियां हैं, जिनका वजन लगभग 45 ग्राम है. हालांकि, इन रत्नों का मूल्यांकन 2014 में 1.35 लाख रुपये से बढ़कर 2019 में 1.13 लाख रुपये और अंततः 2024 में 2.67 लाख रुपये हो गया है.

हलफनामे के मुताबिक, प्रधानमंत्री के पास 52,920 रुपये की नकदी है. 2019 में, अनुमानित आंकड़ा 38,750 रुपये और 2014 में 32,700 रुपये था. 2024 के हलफनामे से पता चलता है कि मोदी के एसबीआई में दो बैंक खाते हैं, जिनमें 73,304 रुपये और 7,000 रुपये का बैलेंस है. 2014 और 2019 में उनका केवल एक ही बैंक खाता एसबीआई में था.

(इस रिपोर्ट को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: 2024 का चुनाव कई हकीकत बयां कर रहा है, ‘400 पार की पिच’ केवल मोदी का खोखला वादा


 

share & View comments