Wednesday, 5 October, 2022
होमराजनीतिED ने किया नेशनल हेराल्ड ऑफिस को सील, कांग्रेस ने कहा- यह प्रतिशोध की राजनीति है

ED ने किया नेशनल हेराल्ड ऑफिस को सील, कांग्रेस ने कहा- यह प्रतिशोध की राजनीति है

कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ईडी की कार्रवाई की निंदा करते हुए कहा कि 05 अगस्त को वो महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ पीएम आवास के सामने विरोध प्रदर्शन करेंगे.

Text Size:

नई दिल्ली: कांग्रेस ने प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा नेशनल हिराल्ड मामले में की गई कार्रवाई के खिलाफ केंद्र सरकार पर निशाना साधा है और आरोप लगाया कि वो दो-तीन व्यापारियों के लिए काम कर रही है.

देश की राजधानी में बहादुर शाह जफर मार्ग पर स्थित नेशनल हेराल्ड के ऑफिस को प्रवर्तन निदेशालय ने बुधवार को सील कर दिया. दूसरे दिन की जा रही कार्रवाई में नेशनल हेराल्ड हाउस में यंग इंडिया कंपनी के परिसर को सील किया गया है. इसके बाद से कांग्रेस मुख्यालय सहित राहुल गांधी और सोनिया गांधी के आवासों पर भी पुलिस बल को तैनात किया गया है.

ईडी ने यह कार्रवाई मनी लॉन्डरिंग की 12 जगहों पर मारे गए छापे के एक दिन बाद की है.

इस कार्रवाई के बाद कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, ‘बीजेपी चाहती है कि भारत में कुछ भी छोटे और मझोले कारोबारियों द्वारा न बनाया जाए. वे चाहते हैं कि उनके 2-3 पसंदीदा बड़े व्यवसायियों द्वारा बनाई गई हर चीज हो. उनका पूरा विचार लोगों की जेब से पैसा निकालना और बड़े व्यापारियों की जेब में डालना है.’

प्रतिशोध की राजनीति

कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ईडी की कार्रवाई की निंदा करते हुए कहा कि 05 अगस्त को वो महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ पीएम आवास के सामने विरोध प्रदर्शन करेंगे. कांग्रेस ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ईडी के माध्यम से प्रतिशोध की राजनीति कर रही है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय माकन ने आरोप लगाया कि पार्टी मुख्यालय को पुलिस ने छावनी में बदल दिया है और डीसीपी ने पत्र लिखकर 5 अगस्त के विरोध-प्रदर्शन पर रोक लगा दी है. उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि चाहे कुछ भी हो जाए उस दिन हम जनता के मुद्दों को लेकर प्रदर्शन करेंगे ही.

उन्होंने कहा, ‘बुधवार को हमें डीसीपी का एक पत्र मिला कि हम 5 अगस्त को विरोध नहीं कर सकते और एआईसीसी को पुलिस छावनी में बदल दिया गया. सरकार चाहे जितना चाहे दबा सकती है, लेकिन हम महंगाई, बेरोजगारी, खाद्य वस्तुओं पर जीएसटी का विरोध करेंगे और जेल जाने पर भी अपने कार्यक्रम पर आगे बढ़ेंगे.’

अशोक गहलोत ने ट्वीट किया, ‘कांग्रेस मुख्यालय और 10 जनपथ को पुलिस छावनी बनाने की आज की कार्रवाई अघोषित आपातकाल है. नेशनल हेराल्ड (यंग इंडिया) के दफ्तर को जबरन सील कर दिया गया. एनडीए की इस तानाशाही सरकार के खिलाफ यदु कांग्रेसजनों के साथ आम जनता खड़ी नहीं हुई तो इसका खामियाजा पूरे देश को भुगतना पड़ेगा.’

बता दें कि बढ़ती महंगाई और बेरोजगारी पर कांग्रेस 5 अगस्त को देश भर में विरोध प्रदर्शन करेगी. दिल्ली में, पार्टी के सांसद मुद्दों पर अपना विरोध दर्ज कराने के लिए संसद से ‘चलो राष्ट्रपति भवन’ का आयोजन करेंगे. उस दिन ‘पीएम हाउस घेराव’ में सीडब्ल्यूसी के सदस्य और वरिष्ठ नेता शामिल होंगे.


यह भी पढ़ें: नस्लीय भेदभाव को अच्छे से समझते थे पैगम्बर मोहम्मद, इसलिए इसे खत्म करने की पूरी कोशिश की


share & View comments