Monday, 24 January, 2022
होमराजनीतिबिहार चुनावबिहार चुनाव में डिजिटल रथ और म्यूजिकल ग्रुप के जरिए लोगों तक पहुंच बनाने की तैयारी में है भाजपा

बिहार चुनाव में डिजिटल रथ और म्यूजिकल ग्रुप के जरिए लोगों तक पहुंच बनाने की तैयारी में है भाजपा

अपने हाई-टेक कैंपेन और प्रचार के लिए चर्चित भाजपा इन डिजिटल रथों को रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण जगहों पर तैनात करेगी जहां ज्यादा लोग वरिष्ठ भाजपा नेताओं के भाषण को सुन सकेंगे.

Text Size:

नई दिल्ली: कोरोनावायरस ने आगामी बिहार विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा को चुनावी प्रचार करने के तरीकों में बदलाव करने पर मजबूर कर दिया है. पार्टी का अब पूरी तरह से डिजिटल कैंपेन पर जोर रहेगा.

वर्चुअल और ई-रैली के जरिए संदेश ज्यादा लोगों तक पहुंचे इसके लिए पार्टी 150 ‘डिजिटल रथ’ की तैयारी कर रही है जिसपर बड़ी एलईडी स्क्रीन होगी जिसके जरिए रैली का लाइव प्रसारण किया जाएगा.

अपने हाई-टेक कैंपेन और प्रचार के लिए चर्चित भाजपा इन डिजिटल रथों को रणनीतिक तौर पर महत्वपूर्ण जगहों पर तैनात करेगी जहां ज्यादा लोग वरिष्ठ भाजपा नेताओं के भाषण को सुन सकेंगे.

बिहार स्थित पार्टी के एक नेता ने कहा, ‘जहां तक वर्चुअल कैंपेन की बात है, हम ये सुनिश्चित करने में लगे हुए हैं कि जिनके पास स्मार्टफोन है वो हमारे नेताओं की रैलियों में दिए गए भाषणों को सुनें. लेकिन बिहार के कई इलाकों में इंटरनेट की अच्छी व्यवस्था नहीं है और ग्रामीण इलाकों में लोगों के पास स्मार्टफोन भी नहीं है.’

उन्होंने कहा, ‘इसलिए ये डिजिटल रथ कारगर साबित होंगे. एक ही समय में ये रथ कई जगहों को कवर कर सकता है और इसपर म्यूजिकल ग्रुप भी साथ में रहेंगे जो देशभक्ति गाने गाएंगे.’

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

पार्टी के एक सूत्र ने बताया कि बुधवार को पार्टी की एक व्यवस्थात्मक समिति की बैठक में इस पर चर्चा की गई थी.

बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे के पास इस समिति की जिम्मेदारी है वहीं कैंपेन समिति की बागडोर गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय के पास है. सूत्र ने बताया कि हालांकि इसके बारे में अभी आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है.


यह भी पढ़ें: अयोध्या में बाबरी की ही तरह 15000 स्क्वायर फीट में बनेगी नई मस्जिद, इक्कीसवीं सदी की दिखेगी झलक


डिजिटल रथ का क्या काम होगा

कैंपेन के तहत ये सभी डिजिटल रथ केंद्र और बिहार सरकार के कामों का स्क्रीन पर प्रदर्शन करेंगे.

पार्टी के एक और नेता ने कहा, ‘सभी रथों पर ‘भाजपा है तैयार आत्मनिर्भर बिहार’ का नारा चस्पा होगा. जिस विधानसभा क्षेत्र में हमारे उम्मीदवार चुनाव लड़ेंगे वहां कम से कम एक रथ मुहैया कराने की तैयारी है. बुधवार को वरिष्ठ भाजपा नेताओं ने पार्टी दफ्तर में रथों का इंसपेक्शन किया है.’

ये कदम तब उठाया गया है जब पार्टी के कई नेताओं ने चिंता जाहिर की थी कि भाजपा द्वारा लोगों से जुड़ने के लिए किए जाने वाले वर्चुअल रैलियों से कई लोग छूट जाएंगे क्योंकि बहुत सारे लोगों के पास स्मार्टफोन उपलब्ध नहीं है.

दूसरे नेता ने कहा, ‘इस तरह की चिंताओं के सामने आने के बाद पार्टी दूसरे विकल्पों पर गौर कर रही थी, ऐसे में डिजिटल रथ एक अच्छे विकल्प के तौर पर सामने आया है. भाजपा कार्यकर्ताओं को सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए 10 लोगों के साथ नुक्कड़ नाटक करने को भी कहा गया है.’

भाजपा द्वारा लड़ी जाने वाली संभावित सीटों पर फीडबैक लेने के लिए पार्टी ने एक टीम का गठन किया था जिसमें बिहार भाजपा के सभी राज्य ईकाई के नेताओं को 12 विधानसभा क्षेत्रों की समीक्षा का काम सौंपा गया था.

उक्त सूत्र ने बताया, ‘सौंपी गई रिपोर्ट में वोटरों के फीडबैक, जरूरी मुद्दों और मतदाता मौजूदा विधायक के बारे में क्या सोचते हैं, इस बारे में जानकारी है. वरिष्ठ अधिकारी अपने स्तर पर इसे लेकर चर्चा करेंगे.’

उक्त पहले भाजपा नेता ने कहा, ‘हम पहले ही चुनाव आयोग से डिजिटल रथों और गाड़ियों के लिए नियमों को आसान करने के बारे में आग्रह कर चुके हैं. अगर पारंपरिक रैलियों की भी इजाजत दी जाती है तो इसमें काफी काम करना पड़ता है और पहले की तरह ये बड़े स्तर पर मौजूदा स्थिति में नहीं किया जा सकता. इसलिए पार्टी के लिए डिजिटल रैली महत्वपूर्ण है.’

(इस खबर को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: दिल्ली में कोविड के बढ़ते मामलो ने मेट्रो बहाली पर बढ़ाई चिंता, लेकिन डॉक्टर चिंतित नहीं हैं


 

share & View comments