scorecardresearch
Sunday, 23 June, 2024
होमराजनीतिकर्नाटक में कांग्रेस की 5 गारंटी योजना 1 जुलाई से होगी शुरू, सिद्धारमैया बोले- हम सभी वादों को पूरा करेंगे

कर्नाटक में कांग्रेस की 5 गारंटी योजना 1 जुलाई से होगी शुरू, सिद्धारमैया बोले- हम सभी वादों को पूरा करेंगे

राज्य सरकार ने कहा है कि सभी महिलाएं सार्वजनिक परिवहन की बसों में मुफ्त यात्रा कर सकेंगी. सिद्धारमैया ने कहा कि योजनाएं सभी जाति और धर्म के लोगों के लिए बराबर से लागू की जा रही है.

Text Size:

नई दिल्ली: कर्नाटक में सभी की नजर सिद्धारमैया के नेतृत्व वाली कांग्रेस मंत्रिमंडल की होने वाली दूसरी बैठक, और विधानसभा चुनाव के दौरान दी गई पांच गारंटी पर टिकी थीं. जिसे शुक्रवार को हुई बैठक में लागू करने की घोषणा कर दी गई है और इसे इसी वर्ष लागू किया जाएगा.

पांच गारंटियों की घोषणा करते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने कहा कि चुनाव के समय और उससे पहले हमने पांच गारंटियों का ऐलान किया था. हमारे (कर्नाटक) अध्यक्ष डी.के. शिवकुमार और मैंने गारंटी कार्ड पर हस्ताक्षर किए,  और वादा किया कि हम यह सुनिश्चित करेंगे कि पांच गारंटियों का लाभ लोगों तक पहुंचे.

शुक्रवार को कैबिनेट की बैठक के बाद सिद्धारमैया ने कहा कि सभी पांचों गारंटियों को इस वित्तीय वर्ष से लागू किया जाएगा. कांग्रेस ने गृह ज्योति योजना के तहत सभी घरों को 200 यूनिट मुफ्त बिजली देने का वादा किया. सिद्धारमैया ने कहा कि यह 1 जुलाई से लागू होगा.

इस दौरान उप मुख्यमंत्री डी. के शिवकुमार ने कहा, “आज हमने कर्नाटक के लिए एक ऐतिहासिक निर्णय लिया है. हम 5 गारंटी लागू करने जा रहे हैं, हमने डेडलाइन दे दी है. हमने सोनिया गांधी और राहुल गांधी के सामने हस्ताक्षर कर दिए हैं, हम इसे जल्द लागू करने जा रहे हैं.”

बता दें कि अन्न भाग्य योजना के तहत गरीबी रेखा से नीचे के परिवार के प्रत्येक सदस्य और अंत्योदय कार्ड धारकों को भी दस किलोग्राम अन्न दिया जाएगा. यह भी 1 जुलाई से शुरू हो जाएगा. वहीं राज्य 15 अगस्त से गृह लक्ष्मी योजना के तहत परिवार की महिला मुखिया को 2,000 रुपये मासिक भत्ता दिया जाएगा.

ग्रेजुएट डिग्री धारक बेरोजगार युवाओं को भी हर महीने 3,000 रुपये और 18 से 25 वर्ष की आयु के बेरोजगार डिप्लोमा धारकों को 1,500 रुपये दिए जाएंगे. इस योजना को युवा निधि कहा जाता है. यह योजना कब से लागू की जाएगी इसकी घोषणा नहीं की गई है.

यही नहीं राज्य सरकार ने कहा है कि सभी महिलाएं सार्वजनिक परिवहन की बसों में मुफ्त यात्रा कर सकेंगी. सिद्धारमैया ने कहा कि योजनाएं सभी जाति और धर्म के लोगों के लिए बराबर से लागू की जा रही है.

मई में हुए चुनाव में 224 सीटों में से 135 सीटें जीतने वाली कांग्रेस का अनुमान है कि इन योजनाओं से हर साल सरकारी खजाने पर 50,000 करोड़ रुपये खर्च होंगे.

बता दें कि कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव से पहले वादा किया था कि वह सत्ता में आते ही पांच गारंटी लागू करेगी जिनमें प्रत्येक घर को 200 यूनिट मुफ्त बिजली (गृह ज्योति योजना), प्रत्येक परिवार की महिला मुखिया को दो हजार रुपये की मासिक सहायता (गृह लक्ष्मी योजना), गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले परिवारों के हर सदस्य को प्रत्येक महीने 10 किलो मुफ्त चावल (अन्न भाग्य योजना), दो साल तक 18 से 25 साल की उम्र वाले प्रत्येक स्नातक बेरोजगार को हर महीने तीन हजार रुपये और डिप्लोमा धारक को 1500 रुपये महीना का भत्ता (युवा निधि योजना) और सार्वजनिक बसों में महिलाओं को मुफ्त यात्रा की सुविधा (शक्ति योजना) शामिल हैं.


यह भी पढ़ें: शिवाजी के राज्याभिषेक की 350वीं वर्षगांठ पर बोले PM मोदी- ‘उनका जीवन प्रेरणा व ऊर्जा का स्रोत है’


पांच गांरटी की घोषणा

राज्य के खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति मंत्री के.एच.मुनियप्पा ने कहा, ‘‘हमने पांच गांरटी की घोषणा की है. हमनें कल इसपर विस्तृत चर्चा की. हमने भरोसा दिया है कि 10 किलोग्राम चावल देंगे. इसे लागू करने में कोई हिचक नहीं है लेकिन इसकी विस्तृत जानकारी मंत्रिमंडल की बैठक के बाद देंगे.’’

उन्होंने कहा, ‘‘हमने जिन गांरटी का वादा किया है उन्हें चरणबद्ध तरीके से लागू करेंगे.’’

‘अन्न भाग्य’ योजना के बारे में मुनियप्पा ने कहा कि राज्य सरकार केंद्र सरकार और भारतीय खाद्य निगम (एफसीआई) से कर्नाटक को चावल मुहैया कराने को कहेगी. उन्होंने कहा, ‘‘अगर वे (केंद्र सरकार और एफसीआई) इससे इनकार करते हैं तो हम खुद निविदा जारी कर या संगठनों के माध्यम से चावल खरीदेंगे और लाभार्थियों में वितरित करेंगे.’’

गौरतलब है कि चुनाव के दौरान पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा था कि इन योजनाओं को सरकार बनने के दिन ही लागू कर दिया जाएगा. हालांकि, सिद्धारमैया ने 20 मई को कहा कि सरकार सैद्धांतिक रूप से इन गांरटी को लागू करने पर सहमत है. उन्होंने मंत्रिमंडल की अगली बैठक तक समय मांगा था.

सिद्धारमैया ने मंत्रिमंडल की पहली बैठक के बाद कहा था, ‘‘हमनें सैद्धांतिक रूप से गांरटी को लागू करने की मंजूरी दे दी है. हम विस्तृत चर्चा करने और वित्तीय प्रभाव को देखने के बाद निश्चित तौर पर इसे लागू करेंगे. भले कितना भी वित्तीय बोझ पड़े हम इन पांच गारंटी को लागू करेंगे.”


यह भी पढ़ें: ‘ओपन-डोर पॉलिसी और साइड ह्यूमर’ कैसे खड़गे कांग्रेस में बना रहे हैं ‘सलाहकार सहमति’


share & View comments