scorecardresearch
Wednesday, 12 June, 2024
होमचुनावकर्नाटक विधानसभा चुनावकांग्रेस, BJP और JD (S) के सितारों से परे, छोटी पार्टी के खिलाड़ी और निर्दलीयों ने कर्नाटक में बड़ी जीत हासिल की

कांग्रेस, BJP और JD (S) के सितारों से परे, छोटी पार्टी के खिलाड़ी और निर्दलीयों ने कर्नाटक में बड़ी जीत हासिल की

पार्टी के छोटे नेताओं में केआरपीपी के जी जनार्दन रेड्डी और एसकेपी के दर्शन पुत्तनैया शामिल हैं, जबकि निर्दलीय पूर्व कांग्रेस नेता केएच पुट्टास्वामी गौड़ा और लता मल्लिकार्जुन हैं.

Text Size:

बेंगलुरु: हाल ही में संपन्न हुए कर्नाटक विधानसभा चुनावों में, जिसमें कांग्रेस ने 224 सीटों में से निर्णायक 135 सीटें हासिल की है उनमें चार उम्मीदवार ऐसे हैं जो अपने बलबूते पर इसमें जीत दर्ज की है उनमें से दो बहुत छोटी पार्टी के एकमात्र विजेता हैं, और दो अकेले जीतने वाले निर्दलीय.

तीन प्रमुख खिलाड़ियों के अलावा, भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी), कांग्रेस और जनता दल (सेक्युलर), या जेडी (एस), कल्याण राज्य प्रगति पक्ष (केआरपीपी), और सर्वोदय कर्नाटक पक्ष (एसकेपी) के एक एक उम्मीदवार जीते हैं – जिनमें क्रमशः गली जनार्दन रेड्डी और दर्शन पुत्तनैया भी शामिल हैं..

बेल्लारी खनन उद्योग में कथित संलिप्तता के लिए चर्चित रेड्डी बंधुओं की तिकड़ी का हिस्सा रेड्डी ने पिछले साल दिसंबर में भाजपा से मतभेद के बाद केआरपीपी की शुरुआत की थी. पूर्व मंत्री ने गंगावती में कांग्रेस प्रत्याशी इकबाल अंसारी को हराया था. KRPP ने 37 उम्मीदवारों को मैदान में उतारा था और रेड्डी एकमात्र विजेता थे. उनकी पत्नी अरुणा लक्ष्मी बेल्लारी शहर से हार गईं.

एसकेपी के दर्शन पुत्तनैया ने जद (एस) के उम्मीदवार और मांड्या के पूर्व सांसद सीएस पुट्टाराजू को मेलुकोटे से हराया. 45 वर्षीय तकनीकी विशेषज्ञ से नेता बने और प्रमुख किसान नेता दिवंगत के.एस. पुत्तनैया, दर्शन ने 2018 का विधानसभा चुनाव भी इसी सीट से लड़ा था, लेकिन हार गए थे.

सफल निर्दलीय उम्मीदवारों में कांग्रेस के पूर्व सदस्य के.एच. गौरीबिदनूर सीट से 37,286 मतों के भारी अंतर से पुट्टास्वामी गौड़ा ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के एनएच शिवशंकर रेड्डी को हराया.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

अन्य सफल निर्दलीय उम्मीदवार भी कांग्रेस के पूर्व नेता हैं. केपीसीसी के पूर्व जिला महासचिव लता मल्लिकार्जुन ने बीजेपी के जी करुणाकर रेड्डी को हरापनहल्ली निर्वाचन क्षेत्र से 13,845 मतों से हराया.

वह पूर्व उपमुख्यमंत्री एम.पी. प्रकाश और हरपनहल्ली के पूर्व विधायक एम.पी. रवींद्र. प्रकाश 2005-06 में कांग्रेस-जद (एस) गठबंधन सरकार के दौरान डिप्टी सीएम थे.

लता की बहनों में एम.पी. वीना कांग्रेस में शामिल हो गईं जबकि एम.पी. सुमा इस महीने की शुरुआत में भाजपा में शामिल हुई थीं.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, लता और वीना दोनों ही हरपनहल्ली से कांग्रेस के टिकट की दावेदार थीं, लेकिन बात नहीं बनने पर उन्होंने पार्टी छोड़ने का फैसला किया.


यह भी पढ़ें: कर्नाटक में कांग्रेस ने जीती 135 सीटें, नए CM का चयन करने के लिए आज शाम होगी विधायक दल की बैठक


केआरपीपी और एसकेपी

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, जी जनार्दन रेड्डी प्रभावशाली रेड्डी परिवार से आते हैं. 2004-2006 के खनन बूम के दौरान, रेड्डी बंधुओं ने कथित तौर पर लौह अयस्क का निर्यात करके महत्वपूर्ण संपत्ति अर्जित की. हालांकि, 2011 में, कथित अवैध खनन और लौह अयस्क के निर्यात के लिए कर्नाटक लोकायुक्त और बाद में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) द्वारा उनके खनन कार्यों की जांच की गई.

रेड्डी को पहले भाजपा में दरकिनार किया गया था, लेकिन येदियुरप्पा के कहने पर वरिष्ठ नेता और गृह मंत्री अमित शाह द्वारा फिर से सामने लाया गया. मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि उन्हें 2015 में अवैध खनन के आरोप में और बाद में 2018 में 600 करोड़ रुपये की पोंजी योजना से कथित रूप से जुड़े होने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.

इस बीच, SKP एक राजनीतिक दल है जो कर्नाटक राज्य रायता संघ किसान संघ से जुड़ा है. इसकी स्थापना 2005 में दलित लेखक देवनूर महादेव ने की थी और 2017 में योगेंद्र यादव के स्वराज इंडिया में इसका विलय हो गया था, लेकिन इस बार इसने अपने ही दम पर लड़ाई लड़ी.

इसने कांग्रेस के साथ गठबंधन में मांड्या, मेलुकोटे, विराजपेट, चित्रदुर्ग और बेलथांगडी सहित कई निर्वाचन क्षेत्रों से चुनाव लड़ा. इनमें से अधिकांश क्षेत्रों में वोक्कालिगा समुदाय के अधिकांश किसान हैं.

एसकेपी 20 लाख से अधिक पंजीकृत सदस्यों का दावा करती है और क्षेत्र से संबंधित मुद्दों पर ध्यान केंद्रित करती है.

2018 के विधानसभा चुनाव में दर्शन पुत्तनैया ने स्वराज इंडिया के टिकट पर चुनाव लड़ा था और कांग्रेस ने उनके खिलाफ कोई उम्मीदवार नहीं उतारा था. इस बार भी कांग्रेस ने सहयोगी एसकेपी के लिए एक छोड़कर 223 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे.

(इस खबर को अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: ‘दिल्ली जाने का फैसला अभी तक नहीं किया है’, डीके शिवकुमार बोले- आज मेरा बर्थ-डे है


 

share & View comments