News on politics
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह उद्धव ठाकरे से मिलते हुए । पीटीआई
Text Size:
  • 18
    Shares

नई दिल्ली: भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और महराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने महाराष्ट्र चुनावों में सीटों के एलान को लेकर प्रेस कांफ्रेस किया. आगामी लोकसभा चुनाव 2019 में महाराष्ट्र की 48 लोकसभा सीटों में भाजपा 25 और शिवसेना 23 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी. वहीं दोनों पार्टियां विधानसभा की 288 सीटों के बराबर-बराबर सीटों पर चुनाव लड़ने का फैसला किया है. इसके अलावा दोनों इस बात पर सहमत हुए कि राम मंदिर का निर्माण होना चाहिए.

देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि यह वक्त मतभेद भुलाकर साथ आने का है. हमारी विचाराधारा एक है. हमारे बीच मतभेद है, लेकिन विचार हम दोनों एक हैं. यह मौका है कि सभी राष्ट्रवादी पार्टियां साथ आएं. हम पिछले विधानसभा चुनाव में साथ नहीं थे, लेकिन मिलकर सरकार चलाई है.

फडणवीस ने कहा कि सैंद्धानतिक रूप से दोनो हिंदूवादी पार्टी हैं.

वहीं उद्धव ठाकरे ने कहा उन्हें कुछ जोड़ने की जरूरत नहीं महसूस हो रही है. अागे कुछ कहने से पहले मैं पुलवामा हमले में अपनी जान गंवाने वाले शहीदों को श्रद्धांजलि देना चाहता हूं. ठाकरे ने कहा कि उनका मन साफ है चाहे अटल की सरकार रही हो या अभी की वह हमेशा राम मंदिर का मुद्दा उठाते रहे हैं.

उद्धव ठाकरे ने कहा कि वह अगले 5 साल के लिए साथ आए हैं. लेकिन जैसा कि सीएम ने कहा मैं समय समय पर सरकार को मार्गदर्शन देता रहा हूं.

दोनों पार्टिया विधानसभा चुनाव में बराबर सीटों पर लड़ेंगी. मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने कहा कि हम मन से, और दिल से साथ हैं.

फडणवीस ने कहा कि राष्ट्रहित में दोनों दलों का साथ आना जरूरी है. उन्होंने कहा कि किसान कर्जमाफी, राम मंदिर जैसे मुद्दों पर दोनों दल एक समान विचार रखते हैं.

वहीं भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने कहा हम 48 में से 45 सीटें जीतेंगे.

शिवसेना और भाजपा

गौरतलब है कि बालासाहेब ठाकरे ने शिवसेना बनाई थी. 19 जून 1966 को शिवसेना की स्थापना हुई थी. 1989 में भाजपा और शिवसेना का गठबंधन हुआ था. 1995 में दोनों ने मिलकर पहली बार सरकार बनाई थी. शिवसेना के लोकसभा में 18 और राज्यसभा में 3 सांसद हैं.


  • 18
    Shares
Share Your Views

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here