Saturday, 2 July, 2022
होमराजनीति'नेशनल हेराल्ड' मामले में 11 घंटे की पूछताछ के बाद राहुल गांधी बोले - मुझ पर ED का कोई असर नहीं होगा

‘नेशनल हेराल्ड’ मामले में 11 घंटे की पूछताछ के बाद राहुल गांधी बोले – मुझ पर ED का कोई असर नहीं होगा

ईडी ने 'नेशनल हेराल्ड' अखबार से जुड़े कथित धन शोधन मामले में पांचवें दिन मंगलवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से 11 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की.

Text Size:

नई दिल्ली: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) जैसी एजेंसियों का मुझ पर कोई असर नहीं होने वाला है. राहुल ने कहा कि ईडी कांग्रेस को डराकर दबा नहीं सकती है.

उन्होंने कहा, ‘ईडी और ऐसी एजेंसियों का मुझ पर कोई असर नहीं, मुझसे पूछताछ करने वाले अधिकारी भी समझ गए कि कांग्रेस पार्टी के नेता को डरा कर दबाया नहीं जा सकता.’

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने यह बातें दिल्ली स्थित पार्टी मुख्यालय में कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहीं.

उन्होंने कहा, ‘ईडी के कमरे में राहुल गांधी अकेला नहीं बैठा था, उस कमरे में राहुल गांधी के साथ कांग्रेस का हर नेता, कार्यकर्ता बैठा हुआ था.’

उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि आप एक आदमी को थका सकते हो लेकिन आप कांग्रेस पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं, नेताओं को नहीं थका सकते हैं. सिर्फ कांग्रेस पार्टी के नेता और कार्यकर्ता उस कमरे में नहीं थे, बल्कि इस सरकार के खिलाफ जो भी बिना डरे लड़ता है, वह सब वहां बैठे थे.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

राहुल ने कहा कि सच्चाई में धैर्य की कोई कमी नहीं होती है. सच्चाई कभी थकती नहीं है, झूठ जरूर थक जाएगा.


यह भी पढ़ें: अगर चुनाव जीतीं तो आजादी के बाद पैदा होने वाली पहली राष्ट्रपति बनेंगी द्रौपदी मुर्मू


‘मोदी जी ने देश की रीढ़ की हड्डी तोड़ दी’

राहुल ने रोजगार को लेकर भी मोदी सरकार पर तीखी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान में इस समय सबसे जरूरी बात रोजगार की है. मोदी जी की सरकार ने जो इस देश की रीढ़ की हड्डी है, जो इस देश को रोजगार देती है, उस रीढ़ की हड्डी को इन्होंने तोड़ दिया है.

उन्होंने आरोप लगाया कि मोदी सरकार देश की सेना को कमजोर कर रही है.

राहुल ने कहा, ‘युवाओं के लिए जो आखिरी रास्ता था देशभक्ति का, आर्मी का, उस रास्ते को इन लोगों ने बंद कर दिया है.’

उन्होंने आगे कहा कि सरकार वन रैंक, वन पेंशन की बात करती थी, अब नो रैंक, नो पेंशन है.

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने अग्निपथ योजना को वापस लेने की मांग करते हुए कहा, ‘बीजेपी सरकार हमारी आर्मी को कमजोर कर रही है. देश का नुकसान होगा, ये लोग अपने आपको राष्ट्रवादी कहते हैं.’

राहुल ने कहा कि युवाओं के भविष्य की रक्षा करना हमारा फर्ज है और ये हमें करना है.

राहुल रने कहा कि मोदी सरकार को जिस तरह काले कानून वापस लेने पड़े थे, उसी तरह बीजेपी को अग्निपथ योजना वापस लेनी पड़ेगी. हिंदुस्तान का युवा हमारे साथ इस काम में खड़ा मिलेगा क्योंकि हिंदुस्तान का युवा जानता है कि सच्ची देशभक्ति सेना को मजबूत करने में है, कमजोर करने में नहीं.

ईडी ने की 11 घंटे पूछताछ

ईडी ने ‘नेशनल हेराल्ड’ अखबार से जुड़े कथित धन शोधन मामले में पांचवें दिन मंगलवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से 11 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की.

जांच एजेंसी ने गांधी को कोई ताजा समन जारी नहीं किया है और यह माना जा रहा है कि उनसे पूछताछ कम से कम फिलहाल के लिए खत्म हो गई है.

राहुल गांधी से पांच दिनों में अब तक 54 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ हो चुकी है, जिस दौरान धन शोधन रोकथाम अधिनियम (पीएमएलए) के तहत उनके बयान दर्ज किए गए.

राहुल गांधी ने 10 घंटे से अधिक समय की पूछताछ के बाद रात लगभग आठ बजे आधे घंटे का ब्रेक लिया और पूछताछ में फिर से शामिल हुए, जिसके बाद वह रात 11:30 बजे ईडी कार्यालय से निकले.

राहुल गांधी सीआरपीएफ जवानों की ‘जेड प्लस’ श्रेणी की सुरक्षा के साथ पूर्वाह्न 11 बजकर करीब 15 मिनट पर मध्य दिल्ली में एपीजे अब्दुल कलाम रोड स्थित ईडी मुख्यालय पहुंचे और उनसे 11 बजकर 30 मिनट पर पूछताछ शुरू हुई थी.

गांधी से पिछले सप्ताह सोमवार, मंगलवार और बुधवार को लगातार तीन दिन पूछताछ की गई थी. इसके बाद वह इस सप्ताह सोमवार को पेश हुए, जिस दौरान 12 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की गई.

खबरों के अनुसार अब तक की पूछताछ में राहुल गांधी से ‘यंग इंडियन’ की स्थापना, ‘नेशनल हेराल्ड’ के संचालन और एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (एजेएल) को कांग्रेस द्वारा दिए गए कर्ज तथा मीडिया संस्थान के भीतर धन के हस्तांतरण से जुड़े सवाल पूछे गए गए हैं.


यह भी पढ़ें: ‘विदेशी ताकतों के पैसों पर हो रहा है विरोध, एक युवा सेना के निर्माण की जरूरत’ – अग्निपथ के पक्ष में RSS


share & View comments