scorecardresearch
Wednesday, 29 May, 2024
होममत-विमतयहूदियों और मुसलमानों के बीच हमारे देश में शांति है और यह केवल हिंदू-बहुल भारत में ही संभव है

यहूदियों और मुसलमानों के बीच हमारे देश में शांति है और यह केवल हिंदू-बहुल भारत में ही संभव है

खुर्शीद इमाम, एक कट्टर मुस्लिम, भारत में हिब्रू के एकमात्र प्रोफेसर बनने के लिए भाषाई और सांस्कृतिक बाधाओं को तोड़ चुके हैं, और तौफीक ज़कारिया देश के सबसे प्रमुख हिब्रू सुलेखक (वह व्यक्ति जिसकी लिखावट सुन्दर हो) हैं.

Text Size:

जैसे-जैसे दुनिया भर में यहूदियों और मुसलमानों के बीच संघर्ष बढ़ता जा रहा है, मेरे विचार मुख्य रूप से भारत की ओर आकर्षित होते हैं, जहां दोनों समुदाय लंबे समय से बिना किसी झगड़े के साथ रहते आए हैं. खैर, ऐसा नहीं है कि ऐसे भारतीय मुसलमान नहीं रहे हैं जो यहूदी विरोधी विचार रखते हों या फ़िलिस्तीनी मुद्दे के साथ एकजुटता व्यक्त करते हों. लेकिन अभी तक देश में यहूदियों और मुसलमानों के बीच कोई सीधा आमना-सामना नहीं हुआ है. अशांति के बीच धार्मिक और सांस्कृतिक बहुलवाद के लिए प्रयासरत दुनिया में, मुख्य रूप से हिंदू बहुत भारत के बारे में एक अद्वितीय गुण है- इसके लोगों की शांतिपूर्वक सह-अस्तित्व की क्षमता.

देश में 5,000 से अधिक बेने इज़रायल यहूदी और कुछ सौ बगदादी यहूदी नहीं हैं, जबकि लगभग 85,000 भारतीय मूल के यहूदी अब इज़रायल को अपना घर कहते हैं. भारतीय यहूदियों और भारतीय मुसलमानों के बीच ऐतिहासिक संबंधों को अक्सर चर्चाओं में नजरअंदाज कर दिया जाता है.

लेकिन इतिहास में गहराई से जाने पर, हमें एक भारतीय यहूदी शालोम बापूजी इज़रायल की उल्लेखनीय कहानी का पता चलता है, जो 1891 से 1896 तक नवाब सिदी अहमद खान के दरबार में करभारी (प्रधानमंत्री) थे. खान एक अफ्रीकी मूल का मुस्लिम शासक थे, जो कोंकण तट पर जंजीरा के छोटे से सिदी राज्य का शासक था. एक यहूदी और एक मुस्लिम के बीच यह असाधारण आधिकारिक साझेदारी भारत में दो समुदायों के बीच उल्लेखनीय एकता का प्रमाण है.


यह भी पढ़ें: गरबा में मेरी मुस्लिम पहचान कभी कोई समस्या नहीं रही, प्रतिबंध सुरक्षा की गारंटी नहीं देगा


यहूदी-मुस्लिम एकता

भारत ने दुनिया को यहूदी-मुस्लिम सौहार्द का एक दिल छू लेने वाल उदाहरण गिफ्ट में दिया है, जो काफी दुर्लभ है. घनिष्ठ संबंधों के माध्यम से, बेने इज़रायली यहूदियों ने कई इस्लामी शब्दों को अपनाया- प्रार्थना को ‘नमाज़’, ‘रोज़ा’, उनके पूजा स्थल को ‘मस्जिद’ या ‘मसीद’, ‘कब्रिस्तान’ आदि कहा जाता है. कुछ स्थानों पर, उन्होंने एकता और समझ का ताना-बाना बुनते हुए कब्रिस्तान भी शेयर किए हैं. भारत में कुछ आराधनालयों (सभा का स्थान) और यहूदी कब्रिस्तानों में मुसलमानों के रूप में समर्पित देखभालकर्ता होते हैं. मोहम्मद खलील खान, एक मुस्लिम सज्जन को लें, जिन्होंने 58 वर्षों तक कोलकाता के बेथ एल सिनेगॉग के कार्यवाहक के रूप में समर्पित रूप से सेवा की है.

भारत में दो यहूदी-संचालित स्कूलों के हॉलवे मुस्लिम बच्चों की हंसी और कदमों से गूंजते हैं, जो सह-अस्तित्व की खूबसूरत भावना को दिखाते हैं जो हमारे देश के शैक्षिक परिदृश्य को रंग देता है. खुर्शीद इमाम, एक कट्टर मुस्लिम, भारत में हिब्रू के एकमात्र प्रोफेसर बनने के लिए भाषाई और सांस्कृतिक बाधाओं को तोड़ चुके हैं. इसी तरह, तौफीक ज़कारिया, एक मुस्लिम, देश का सबसे प्रमुख हिब्रू सुलेखक (वह व्यक्ति जिसकी लिखावट सुन्दर हो) है, जो धार्मिक सीमाओं से परे कला का निर्माण करता है. महाराष्ट्र में मुहम्मद अब्दुल यासीन ने यहूदी कब्रों पर नक्काशी करके दिवंगत लोगों की यादों को नाजुक ढंग से संरक्षित किया है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

और एक भारतीय मुस्लिम सज्जन और एक यहूदी महिला की मनोरम प्रेम कहानी को कौन नजरअंदाज कर सकता है, एक ऐसी कहानी जिसने भारत की सबसे बड़ी दवा कंपनी सिप्ला को आकार देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई? यह उल्लेखनीय कहानी तब सामने आई जब एक भारतीय मुस्लिम ख्वाजा अब्दुल हामिद और एक यूरोपीय यहूदी लुबा डेरज़ांस्का ने विवाह के बंधन में बंध गए.

18 अक्टूबर 1971 को दिल्ली में अंतर-धार्मिक सेमिनार में एक सम्मोहक भाषण में, हामिद ने अपना विचार व्यक्त किया कि “एक आदर्श व्यक्ति को समाज में अपने कार्यों के आधार पर एक अच्छा आदमी होना चाहिए और वह किसी भी धर्म से संबंधित हो सकता है जब तक कि वह अपने धर्म के सिद्धांतों का पालन करता है.” उन्होंने इस्लामिक स्पेन में दोनों समुदायों के बीच ऐतिहासिक सद्भाव से प्रेरणा लेते हुए, यहूदियों और मुसलमानों के बीच सहयोग की जोरदार वकालत की.

भारत अनेकता में एकता का ज्वलंत उदाहरण है. यहां, हर धर्म के अनुयायी न केवल सहअस्तित्व में रहते हैं बल्कि मूल्यों के गहन आदान-प्रदान में भी संलग्न रहते हैं. यहीं पर एक अफ़्रीकी मुसलमान राजा बना और एक यहूदी उसका प्रधानमंत्री.

लेकिन दोनों समुदायों की समृद्ध विरासत और परस्पर जुड़े इतिहास के बावजूद एक हैरान करने वाला सवाल उठता है: हम कुछ भारतीय मुसलमानों के दृष्टिकोण में बदलाव क्यों देख रहे हैं? वे सक्रिय रूप से यहूदी विरोधी रुख अपना रहे हैं और इज़रायल-फिलिस्तीन संघर्ष में खुद को अरब मुसलमानों के साथ जोड़ रहे हैं. किसी संघर्ष में पक्ष लेना एक स्वाभाविक घटना है, और फिलिस्तीनी नागरिकों के साथ एकजुटता में खड़ा होना पूरी तरह से अन्यायपूर्ण नहीं है जो समर्थन और सहानुभूति के पात्र हैं. लेकिन चिंता की बात यह है कि हमास का कोई नेता केरल में वर्चुअल रैली कर सकता है. यह इस विकसित होती गतिशीलता में एक चिंताजनक परत जोड़ता है.

भारत के साथ-साथ उसके मुस्लिम समुदाय के लिए भी सावधानी से चलना महत्वपूर्ण है. उन्हें बाहरी प्रभावों से सावधान रहना चाहिए जो संभावित रूप से भारतीय मुसलमानों को यहूदियों के खिलाफ कट्टरपंथी बना सकते हैं. हमें भारत की खूबसूरत धार्मिक विरासत की रक्षा करनी चाहिए और सौहार्दपूर्वक साथ रहना जारी रखना चाहिए.

(आमना बेगम अंसारी एक स्तंभकार और टीवी समाचार पैनलिस्ट हैं. वे ‘इंडिया दिस वीक बाय आमना एंड खालिद’ नाम से एक वीकली यूट्यूब शो चलाती हैं. उनका एक्स हैंडल @Amana_Ansari है. व्यक्त किए गए विचार निजी हैं.)

(संपादन: ऋषभ राज)

(इस लेख को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)


यह भी पढ़ें: एक पसमांदा मुस्लिम के रूप में मैं फ़िलिस्तीन के बारे में सुनकर बड़ी नहीं हुई, हमारे सामने और भी मुद्दे थे


 

share & View comments