scorecardresearch
Wednesday, 12 June, 2024
होममत-विमतएक्जिमा, मुंहासे, चेहरे पर बाल — अब त्वचा पर पड़ने वाले मेनोपॉज़ के असर से ऐसे बच सकते हैं आप

एक्जिमा, मुंहासे, चेहरे पर बाल — अब त्वचा पर पड़ने वाले मेनोपॉज़ के असर से ऐसे बच सकते हैं आप

जबकि हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी की सिफारिश अक्सर Systemic Menopausal Symptoms के लिए प्राथमिक उपचार के रूप में की जाती है, लेकिन त्वचा पर पड़ने वाले संभावित दुष्प्रभावों पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है.

Text Size:

रजोनिवृत्ति यानि मेनोपॉज़ एक बहुत ही भावनात्मक और शारीरिक रूप से भ्रमित करने वाला समय होता है. हॉट प्लैश, वजन में उतार-चढ़ाव और मूड में बदलाव ऐसे कई लक्षण हैं जिनका सामना एक महिला को मेनोपॉज़ के वक्त करना पड़ता है. इसलिए, जब त्वचा सक्रिय होने लगती है, तो वे हार मान लेती हैं. लेकिन आप अपने जीवन के इस पड़ाव को पार कर सकती हैं. आख़िरकार, भारत में हर साल 2.5 करोड़ महिलाएं रजोनिवृत्ति से गुजरती हैं और किसी को भी जीवन के इस स्थायी परिवर्तन से गुजरते समय अलग-थलग महसूस नहीं करना चाहिए.

मेनोपॉज़ के दौरान हमारी त्वचा का क्या होता है?

मेनोपॉज़ एक प्राकृतिक जैविक प्रक्रिया है जो एक महिला के मासिक धर्म यानि पीरियड्स के साइकिल के अंत को चिह्नित करती है, जो 40 के दशक में शुरू होती है और 50 के दशक में समाप्त होती है. इस प्रक्रिया के दौरान हार्मोन के स्तर में बदलाव का असर त्वचा पर पड़ता है.

त्वचा में कोलेजन के स्तर में तेजी से कमी आती है और इलास्टिन तेज़ी से घटने लगता है. मोनोपॉज़ के बाद पहले पांच वर्षों के भीतर त्वचा के लगभग एक तिहाई कोलेजन नष्ट हो जाते हैं, इससे कई प्रकार की त्वचा संबंधी विकृतियां हो सकती हैं.

फ्लशिंग: “हॉट फ्लैशेस” होने के अलावा, फ्लशिंग त्वचा की सबसे ऊपरी परत में मौजूद रक्त वाहिकाओं का अचानक वैसोडिलेशन होना है, जिससे व्यक्ति का रंग गुलाबी हो जाता है. मेनोपॉज़ की आयु सीमा में आने वाली लगभग 75 प्रतिशत महिलाएं इसका अनुभव करती हैं. कुछ मामलों में, फ्लशिंग से रोसैसिया नामक एक अन्य स्थिति उत्पन्न हो जाती है.

फ्लशिंग के उपचार में एस्ट्रोजेन थेरेपी, प्रिस्क्रिप्शन मेडिकेशन, और बिहैवियरल थेरेपी जैसे कि तेज़ी से सांस लेने की ट्रेनिंग (गिनती करते हुए गहरी सांस लेना) और रिलैक्सेशन रिस्पॉन्स ट्रेनिंग (शरीर को शांत करने के उद्देश्य से एक ध्यान प्रक्रिया) शामिल है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

एक्जिमा, खुजली, चमड़ी की सूजन: एक बड़े ऑब्ज़र्वेशनल स्टडी से पता चला है कि महिलाओं ने मेनोपॉज़ के दौरान चमड़ी की सूजन, एक्जिमा और त्वचा के फटने जैसे अन्य समस्याओं के बारे में बताया है. हालांकि सटीक कारण का पता नहीं लगाया जा सका है, लेकिन यह हार्मोनल उतार-चढ़ाव के कारण पानी की कमी और त्वचा की ख़राब होती स्किन की ओर इशारा करता है.

खुजली या प्रूराइटिस से बचने के तरीकों में से एक है नाखून छोटे रखना, कम समय तक नहाना, ह्यूमिडिफ़ायर का उपयोग करना, एक्सफ़ोलिएटिंग साबुन सहित जलन पैदा करने वाले पदार्थों से बचना और कम पीएच इमोलिएंट (त्वचा को नरम और हाइड्रेट करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला पदार्थ) का उपयोग करना.


यह भी पढ़ेंः सिर्फ ज्यादा सोने से नहीं ठीक होंगे डार्क सर्किल्स, विटामिन के स्तर और कॉफ़ी के सेवन की भी करें जांच 


मुंहासे: हार्मोन में असंतुलन के कारण, मुंहासे (आमतौर पर किशोरों को प्रभावित करने वाले) वयस्कों में पाए जाते हैं. मुँहासे के सबसे आम प्रकारों में खुले और बंद कॉमेडोन्स हैं, जो आम तौर पर माथे और ठोड़ी पर पाए जाने वाले छोटे उभार होते हैं, जो गंदगी से छिद्रों की रुकावट के कारण होते हैं, साथ ही पपल्स (सिस्टिक त्वचा के घाव) और पस्ट्यूल (सूजन वाली त्वचा से घिरे मवाद से भरे उभार) होते हैं. टॉपिकल स्टेरॉयड उपचार और आइसोट्रेटिनॉइन जैसे नियमित त्वचा विज्ञान-स्वीकृत उपचार इन मामलों में आशाजनक परिणाम दिखाते हैं.

सूखापन, खुजली: एस्ट्रोजन के स्तर में कमी का मतलब यह भी है कि त्वचा का प्राकृतिक हाइड्रेशन बूस्टर अब उतना प्रभावी नहीं है, जिससे पूरे शरीर में सूखापन और खुजली होने लगती है. कुछ मामलों में, ये लक्षण हाइपोथायरायडिज्म जैसी अंतर्निहित स्थिति का संकेत दे सकते हैं.

नियमित रूप से मॉइस्चराइज़र लगाना, खासकर नहाने के बाद, हाइड्रेटेड बनाए रखने का एक तरीका है. त्वचा की जलन को कम करने के लिए साबुन के प्रयोग से बचें.

चेहरे पर बाल: मेनोपॉज़ का अनुभव करने वाली महिलाओं में चेहरे पर बालों का बढ़ना काफी आम है. 45 वर्ष की आयु की लगभग 40 प्रतिशत महिलाओं में नए, घने बाल उगते हैं, विशेषकर ठुड्डी पर. मेनोपॉज़ के दौरान एस्ट्रोजन के स्तर में गिरावट के साथ, टेस्टोस्टेरोन में वृद्धि होती है, जिससे जबड़े, ऊपरी होंठ और गालों पर बालों का विकास बढ़ जाता है. हार्मोनल रिप्लेसमेंट थेरेपी (एचआरटी) बालों के अत्यधिक विकास को कम कर सकती है.

इसके अतिरिक्त, ओमेगा-3 और विटामिन बी से भरपूर खाद्य पदार्थों को अपने आहार में शामिल करने से मेनोपॉज़ के दौरान त्वचा के स्वास्थ्य में मदद मिलती है. वसायुक्त मछली, एवोकाडो, चिया बीज और अलसी के बीज जैसे खाद्य पदार्थ फायदेमंद होते हैं.

कभी-कभी इलाज ही इसका कारण होता है.

जबकि हार्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी (एचआरटी) की अक्सर प्रणालीगत रजोनिवृत्ति लक्षणों (systemic menopausal symptoms) के लिए प्राथमिक उपचार के रूप में सिफारिश की जाती है, संभावित त्वचा संबंधी दुष्प्रभावों जैसे कि हिर्सुटिज़्म (असामान्य बाल विकास), मुंहासे, और एंड्रोजेनिक एलोपेसिया (हार्मोनल विकारों के कारण असामान्य बालों का झड़ना) पर ध्यान देना महत्वपूर्ण है.

इससे आपको मेनोपॉज़ के दौरान सहायता मांगने से हतोत्साहित नहीं होना चाहिए. इसके बजाय, यह अधिक प्रभावी उपचार योजना के लिए आपकी खुराक और नुस्खे को समायोजित करने में मदद करेगा.

मेनोपॉज़ केवल महिलाओं का मुद्दा नहीं है; इसका प्रभाव बड़े पैमाने पर परिवारों और समाज तक फैला हुआ है. इंडियन मेनोपॉज़ सोसाइटी जैसे संगठन रजोनिवृत्ति परिवर्तनों से निपटने वाली महिलाओं को सहायता और संसाधन प्रदान करते हैं. अब समय आ गया है कि हम हार्मोन-संबंधी प्रक्रियाओं और विकारों के व्यापक सामाजिक निहितार्थों को पहचानें और यह पता लगाएं कि जरूरतमंद लोगों को उचित उपचार और सहायता प्रदान करने से हम सभी कैसे लाभान्वित हो सकते हैं.

(डॉ दीपाली भारद्वाज एक त्वचा विशेषज्ञ, एंटी-एलर्जी विशेषज्ञ, लेजर सर्जन और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षित सौंदर्यशास्त्री. हैं. उनका एक्स हैंडल @dermatdoc है. व्यक्त किए गए विचार निजी हैं.)

(इस लेख को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ेंः ब्रेड, कुकीज़, शराब इन्फ्लेमेशन पैदा करते हैं, सिर्फ स्किन की देखभाल से पुरानी बीमारियों का इलाज संभव नहीं


 

share & View comments