scorecardresearch
Friday, 1 March, 2024
होममत-विमतब्रेड, कुकीज़, शराब इन्फ्लेमेशन पैदा करते हैं, सिर्फ स्किन की देखभाल से पुरानी बीमारियों का इलाज संभव नहीं

ब्रेड, कुकीज़, शराब इन्फ्लेमेशन पैदा करते हैं, सिर्फ स्किन की देखभाल से पुरानी बीमारियों का इलाज संभव नहीं

क्रोनिक इन्फ्लेमेशन विभिन्न त्वचा संबंधी समस्याओं को जन्म देता है, जिनमें समय से पहले बुढ़ापा, मुंहासे, पिगमेंटेशन और सोरायसिस, एक्जिमा और एक्ने वुल्गारिस जैसी ऑटोइम्यून बीमारियां शामिल हैं.

Text Size:

इन्फ्लेमेशन शरीर की उपचार प्रक्रिया का हिस्सा है. यह श्वेत रक्त कोशिकाओं द्वारा ट्रिगर होता है जो बीमारी में और चोट लगने पर हमारी प्रतिरक्षा प्रणाली में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं. अत्यधिक संक्रमण की स्थिति में, प्रतिक्रिया छोटी और तत्काल होती है. लेकिन जब पुरानी बीमारियों या ऑटोइम्यून बीमारियों की बात आती है, तो हमारा शरीर खुद पर हमला करता रहता है – जिसके परिणामस्वरूप लगातार इन्फ्लेमेशन होता रहता है. और अगर ध्यान न दिया जाए, तो इन्फ्लेमेशन कैंसर, हृदय की समस्याएं, रियूमेटॉयड और मोटापे का कारण बन सकती है.

कुछ प्रकार के खाद्य पदार्थ भी इन्फ्लेमेशन को बढ़ा सकते हैं. ऐसी चीजें पेट के स्वास्थ्य पर असर डालती हैं और हमें सुस्त, पेट का फूलना और असहज महसूस कराती हैं. क्रोनिक इन्फ्लेमेशन के परिणामस्वरूप पोषक तत्वों का अवशोषण कम हो जाता है और पाचन स्वास्थ्य प्रभावित होता है. सूजन वाले खाद्य पदार्थ खाने के कारण मरीजों को सूजन, त्वचा के छिलने और अन्य शारीरिक प्रतिक्रियाओं से भी जूझना पड़ता है.

जबकि आधुनिक चिकित्सा दर्द, सूजन, सूजन के कारण जलन जैसे तीव्र लक्षणों से निपटने में सक्षम है, लेकिन उपचार का उद्देश्य दीर्घकालिक परिवर्तन के लिए आपकी जीवनशैली को बदलने की है. सामंजस्यपूर्ण संतुलन बनाए रखने का एक अचूक तरीका एंटी-इन्फ्लेमेटरी जीवनशैली अपनाना है.

जब मेरे मरीज़ को एंटी-इन्फ्लेमेटरी आहार को अपनाने की सलाह दी गई तो वह चौंक गई. भोजन को ऐसी श्रेणियों में बांटने के विचार ने उसे इसके पीछे के तर्क के बारे में आश्चर्यचकित कर दिया. लेकिन आप जो खाते हैं उस पर नज़र रखना बेहतरीन नतीजे दे सकता है. एंटी-इन्फ्लेमेटरी आहार आपके शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखता है. जब आपकी त्वचा की बात आती है, तो यह आहार उसकी ताजगी, स्वास्थ्य और चमक में काफी सुधार करता है.

एंटी-इन्फ्लेमेटरी भोजन के बारे में सब कुछ: अपने खाने को जानें

बेहतर और स्वस्थ निर्णय लेने के लिए, बुनियादी बातों से शुरुआत करना सबसे अच्छा है. इस मामले में, यह जानना महत्वपूर्ण है कि कौन से खाद्य पदार्थ इन्फ्लेशन में योगदान करते हैं और कौन से खाद्य पदार्थ इसे कम करने में मदद करते हैं. एक बार जब आप इसे समझ जाते हैं, तो आप चुन सकते हैं कि भोजन में क्या कम करना है और क्या जोड़ना है.

अच्छी पत्रकारिता मायने रखती है, संकटकाल में तो और भी अधिक

दिप्रिंट आपके लिए ले कर आता है कहानियां जो आपको पढ़नी चाहिए, वो भी वहां से जहां वे हो रही हैं

हम इसे तभी जारी रख सकते हैं अगर आप हमारी रिपोर्टिंग, लेखन और तस्वीरों के लिए हमारा सहयोग करें.

अभी सब्सक्राइब करें

खाद्य पदार्थ जो इन्फ्लेशन का कारण बनते हैं:

रिफाइंड शुगर: कैंडी, चॉकलेट, शीतल पेय, केक, कुकीज़ और इसी तरह की वस्तुएं वर्जित हैं.

तला हुआ खाना: आलू के चिप्स, फ्रेंच फ्राइज़, समोसा, पकौड़े आदि शरीर में ट्रांस फैट बढ़ा सकते हैं, जिससे इन्फ्लेशन हो सकती है.

रिफाइंड कार्बोहाइड्रेट: ब्रेड, पेस्ट्री, पास्ता और चावल सहित अन्य ऐसी चीजें इन्फ्लेशन का कारण बन सकती हैं.

अत्यधिक शराब का सेवन: अनियंत्रित मात्रा में शराब आंत के बैक्टीरिया को नष्ट कर सकती है, जिससे इन्फ्लेशन हो सकती है.

खाद्य पदार्थ जो इन्फ्लेशन को कम करते हैं:

  • एंटी-इन्फ्लेमेटरी आहार में अखरोट, पाइन नट्स जैसे मेवों के सेवन की सलाह दी जाती है. इनका सीमित मात्रा में सेवन करना एक अच्छी शुरुआत है.
  • फल और सब्जियां
  • उच्च फाइबर, साबुत अनाज कार्बोहाइड्रेट जैसे कि क्विनोआ, जई और गेहूं कम मात्रा में.
  • बीन्स और लेग्यूम्स (विभिन्न प्रकार की फलियां)
  • कम वसा या वसा रहित डेयरी उत्पाद
  • जैतून का तेल वसा का प्राथमिक स्रोत है

यदि आप कभी भी संदेह में हों, तो बस भूमध्यसागरीय आहार का पालन करें और आपको पोषण से भरपूर संतुलित भोजन मिलेगा जो एंटी-इन्फ्लेमेटरी आहार दिशानिर्देशों के अनुरूप है.

त्वचा के लिए अच्छा है

पुराना इन्फ्लेमेशन सामान्य त्वचा संबंधी चिंताओं के लिए उत्प्रेरक के रूप में कार्य करता है, जिसमें समय से पहले बुढ़ापा, मुंहासे, पिगमेंटेशन, साथ ही सोरायसिस, एक्जिमा, एक्मे वुल्गारिस जैसी ऑटोइम्यून बीमारियां शामिल हैं. यदि आपकी त्वचा लाल, परतदार, ऊबड़-खाबड़ है, इसमें सूजन है, लाल धब्बे हैं या खुजली है, तो आप जानते हैं कि आप इन्फ्लेमेशन से जूझ रहे हैं. हालांकि इन्फ्लेमेशन इसका एकमात्र कारण नहीं है, यह उपर्युक्त लक्षणों को बढ़ा सकता है. अपने शरीर में इन्फ्लेमेशन के स्तर को नियंत्रित करके, हम अपनी त्वचा को कोमल और ताज़ा बना सकते हैं. आप आहार के पूरक त्वचा देखभाल के माध्यम से मजबूती ला सकते हैं.

ह्यालूरोनिक एसिड: इस कंपोनेंट वाले उत्पादों का उपयोग बेहतर हाइड्रेशन, चिकनाई को बढ़ावा देता है और त्वचा के लिए मेटाबोलिक प्रक्रिया में भी सुधार करता है.

हल्दी बेस वाले फेस मास्क: आधा कप बेसन में दो बड़े चम्मच हल्दी पाउडर, घी और पानी मिलाकर हल्दी बेस वाले फेस मास्क बनाएं. इसे पेस्ट जैसा कर लें, अपने चेहरे पर एक पतली, समान परत लगाएं और पांच मिनट तक प्रतीक्षा करें. ठंडे पानी से धोकर मास्क हटा दें.

अपने चेहरे को बर्फ के ठंडे पानी से धोना: यह सूजन को कम करता है और रक्त संचार को बढ़ाता है.

जीवनशैली में बदलाव

एंटी-इन्फ्लैमेटरी आहार रक्त संचार में सुधार करता है, जिसके परिणामस्वरूप त्वचा, बेहतर व नाखून और बेहतर बाल होते हैं. एंटी-इन्फ्लैमेटरी जीवन को पूरी तरह से अपनाने का तरीका इसे धीरे-धीरे अपनाना है. अपने नियमित भोजन में खाद्य पदार्थों की अदला-बदली करके शुरुआत करें. हमारे कई पसंदीदा खाद्य पदार्थ इन्फ्लेमेशन इंडेक्स में उच्च स्थान पर हैं, तो आइए स्वस्थ विकल्प चुनें जिसके लिए आपकी आंत और त्वचा आपको धन्यवाद देंगे.

हालांकि हर कोई इससे सकारात्मक परिणाम पा सकता है लेकिन, मैं विशेष रूप से उन लोगों के लिए इसकी सिफारिश करती हूं जो लोग लंबे समय से सोरायसिस और एक्जिमा जैसी गंभीर बीमारियों से परेशान हैं.

(डॉ. दीपाली भारद्वाज एक त्वचा विशेषज्ञ, एंटी-एलर्जी विशेषज्ञ, लेजर सर्जन और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रशिक्षित सौंदर्यशास्त्री हैं. उनका एक्स हैंडस @dermatdoc है. व्यक्त किए गए विचार निजी हैं.)

(संपादनः शिव पाण्डेय)
(इस लेख को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें.)


यह भी पढ़ेंः सिर्फ ज्यादा सोने से नहीं ठीक होंगे डार्क सर्किल्स, विटामिन के स्तर और कॉफ़ी के सेवन की भी करें जांच


 

share & View comments